Breaking News in Hindi Wednesday, July 23, 2014
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > State > Uttarakhand

इन मासूमों को मालूम नहीं था कि अब पापा नहीं आएंगे

यहां भूस्खलन से सड़क अवरुद्ध हुई तो देहरादून से उत्तरकाशी की ओर जा रहे वाहनों के पहिए थम गए। आम से लेकर खास सभी परेशान थे, लेकिन गाड़ी से उतरकर वहां बहते पानी से खेलते दो मासूमों के चेहरों पर शिकन भी नहीं थी।

हर खबर से बेखबर पानी की लहरों से खेलते इन बच्चों को ये भी नहीं मालूम था कि पानी ने ही उनके पिता को हमेशा के लिए उनसे छीन लिया। सात साल के अमित व उसके पांच साल के भाई ललित ही नहीं उनकी मां सुनीता को भी गांववालों ने अभी तक नहीं बताया कि केदारनाथ हादसे में उनका सब कुछ उजड़ चुका है।

उत्तराखंड आपदा की विशेष कवरेज के ‌लिए ‌क्लिक करें


दिल्ली में रहने वाले कामदा चिन्यालीसौड़ निवासी निहाल सिंह पुत्र नारायण सिंह, जितेंद्र व उनका एक और साथी दिल्ली से टैक्सियों में तीर्थयात्रियों को केदारनाथ की यात्रा कराने ले गए थे। यात्री केदारनाथ चले गए और ये तीनों सीतापुर में अपनी गाड़ियों में ही सो गए थे।


लाशें हरिद्वार तक पहुंच गईं
16 जून की रात आठ बजे निहाल ने आखिरी बार फोन पर गांव में बात की थी और जल्द ही बच्चों को साथ लेकर गांव आने की बात कही थी। केदारनाथ में सैलाब आया और लाशें हरिद्वार तक पहुंच गईं। गांव वाले भी निहाल की तलाश में वहां गए और लक्सर में उसके शव की शिनाख्त हो गई। वहीं उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

अब गांव वाले निहाल की पत्नी व उसके दोनों बेटों को दिल्ली से छुट्टियों के बहाने गांव लिवा ले जा रहे हैं। पत्नी सुनीता को बताया गया है कि निहाल को थोड़ी चोट लगी है। बच्चे तो खैर पूरी तरह हकीकत से अनजान हैं। लेकिन निहाल की मौत का कड़वा सच केवल सफर तक ही छिपा रहेगा। शाम होते ये लोग कामदा पहुंचेंगे तब उन्हें रात का स्याह अंधेरा जीवन में भी छा जाने का पता लगेगा।

भावनाएं जुड़ती गईं

मौरियाणा टॉप पर लगे जाम में फंसे लोगों को जैसे-जैसे इन बच्चों के सिर से पिता का साया उठने की जानकारी लगती गई उनकी भावनाएं बच्चों के साथ जुड़ती गई। हर व्यक्ति इन बच्चों पर प्यार बरसाने को आतुर था, लेकिन हर कोई इसका ध्यान भी रख रहा था कि बच्चों को सच्चाई का पता न लग जाए।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

संसद में पढ़ी गई कविता 'अच्छे दिन कब आने वाले हैं'

poem in parliyament मोदी सरकार से 'अच्छे दिन आने वाले है' का जवाब संसद में 'अच्छे...

शिवसेना की गुंडागर्दी, रोजे में खिलाई जबरन रोटी

Shiv Sena mp manhandled in maharashtra sadan महाराष्ट्र सदन की कैंटीन में म‌िलने वाले खराब खाने को लेकर श‌िवसेना के...

नेताजी, एक्टिंग छोड़ो- क्षेत्र पर ध्यान दो

an indonesian actor asked to quit acting for being a politician इंडोनेशिया में एक्टिंग से राजनीति में आए एक नेता को सीरियल्स में काम...

सुनंदा को तलाक देकर मेहर से शादी करने वाले थे थरूर

sashi throor was with mehar सुंनदा पुष्कर मौत के मामले में एक न्यूज चैनल ने कई बड़े खुलासे...

ख़बरें राज्यों से

'सांस का दुश्मन' बना एक पेड़

chhattisgarh_cg_tree_asthma छत्तीसगढ़ के विभिन्न शहरों में लगाए गए सप्तपर्णी यानी एल्सटोनिया स्कोलारिस के पेड़ों...

'चरित्रवान हो तो अग्निपरीक्षा देकर दिखाओ'

indore agnipariksha मध्य प्रदेश के इंदौर से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे जान...

यहां मंत्री, विधायक के पास भी बीपीएल कार्ड

bpl_cards_scam_chhaitsgarh आबादी से अधिक राशन कार्ड बनाए जाने के मामले में मुख्यमंत्री के अपने...

'पैसे लेकर रेप की शिकायत वापस ले लो'

nihal chand rajasthan निहाल चंद पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली महिला का कहना है कि...