Breaking News in Hindi Wednesday, July 23, 2014

Home > State > Uttarakhand > Almora

हर साल आपदा में समाते स्कूल भवन

रानीखेत। नगर का एकमात्र राजकीय बालिका इंटर कालेज हर साल आपदा में खतरे की जद में आता जा रहा है। तीन साल पहले नए कक्षों के निर्माण के दौरान हुए भूस्खलन के कारण ध्वस्त पांच कक्षाओं को तो ठीक नहीं किया गया, अब शेष बची हुई कक्षाओं पर भी खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। गत 20 अगस्त को हुई अतिवृष्टि ने विद्यालय प्रशासन की नींद उड़ा दी है। इन हालातों में छात्राओं की जान खतरे में आ चुकी है।
राजकीय बालिका इंटर कालेज की स्थापना 1929 में हुई। 1995 तक यहां लगभग डेढ़ हजार बालिकाएं पढ़ती थीं, राज्य बनने के बाद अध्यापकों के साथ-साथ छात्राओं की संख्या में भी कमी आई। वर्तमान में यहां लगभग आठ सौ छात्राएं अध्ययनरत हैं। दूसरी तरफ विद्यालय में तीन साल पूर्व आपदा की भेंट चढ़े चार पुराने कक्षों को आज तक ठीक नहीं किया गया है। 2008 में विभाग ने यहां छह नए कक्षों को स्वीकृति दी। इसके लिए 59 लाख रुपये स्वीकृत हुए। निर्माण की जिम्मेदारी आरईएस विभाग को सौंपी गई। पहली किस्त के रूप में मिले 36 लाख रुपये से कमरों का निर्माण विद्यालय भवन के ठीक नीचे चल रहा था। लेकिन कटान के दौरान पुराने कमरों की नींव हिल गई, 2010 में आई आपदा के कारण विद्यालय के पांच पुराने कक्ष ध्वस्त हो गए। आरईएस ने तीन कमरे बनाए और निर्माण कार्य रोक दिया। खंड शिक्षा अधिकारी एचआर राजन ने बताया कि पुराने ध्वस्त कमरों को ठीक करने के लिए तहसील प्रशासन आपदा मद के दायरे से बाहर रख रहा है। कई बार विभाग को लिखा गया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। कक्षा कक्षों की कमी के चलते बालिकाएं प्रयोगशाला में पठन पाठन कर रही हैं। प्रभारी प्रधानाचार्या शीला मिश्रा ने कहा कि परिसर में लगातार भूस्खलन हो रहा है, जिस कारण कमरों के अंदर पठन पाठन कार्य कराने से डर लग रहा है। आरईएस ने जो भी कमरे बनाए हैं, उनमें तमाम तरह की खामियां हैं। जिन्हें हस्तांतरित नहीं किया जा सकता।
-भूस्खलन वाली जमीन पर नए कक्ष बन रहे थे। कटान के दौरान पूरा मलबा नीचे आ गया। रिटर्निंग वाल और सफाई में 11 लाख रुपये खर्च हो गए। 2011 में विभाग ने दूसरी किस्त के रूप में 23 लाख रुपये दिए। धन की कमी के कारण तीन कमरे ही बने हैं। अब शिक्षा निदेशालय को रिवाइज इस्टीमेट बनाकर भेजा गया है।
-बीएस नेगी, ईई, आरईएस

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

तस्वीरों में.. मनरेगा से पहले, मनरेगा के बाद

people before manrega and after manrega मध्य प्रदेश में बड़वानी जिले के पती इलाके को मशहूर फोटोग्राफर सोहराब हूरा...

छोटे कमरों के बाद अब शाकाहारी खाने की कमी से परेशान भारतीय

indian players unhappy with shortage of veg food पहले भारतीय खिलाड़ी मिले छोटे कमरों से परेशान थे अब वे शाकाहारी भोजन...

ये छह वीडियो देख कर आपके होश उड़ जाएंगे

six shocking video of flood in india देश के कई इलाकों में बारिश कहर बरपा रही है। चेतावनी के बावजूद...

करारी हार और बगावती तेवरों से हलकान कांग्रेस

after defeat congress rebels creats tension लोकसभा चुनाव कांग्रेस पार्टी के लिए सुनामी साबित हुआ। इसका असर अब तक...

ख़बरें राज्यों से

देखें वीडियो, कैसे बाइक समेत युवक समा गया पानी में

man washed away in Betul मध्य प्रदेश के बैतूल से एक दिल दहला देने वाला वीडियो सामने आया...

कांवड़िए की हत्या कर शव पेड़ से टांगा

kanwadiya_killed_jharkhand लाश को गमछे के सहारे पलाश के पेड़ से लटका दिया गया, आशंका...

'सांस का दुश्मन' बना एक पेड़

chhattisgarh_cg_tree_asthma छत्तीसगढ़ के विभिन्न शहरों में लगाए गए सप्तपर्णी यानी एल्सटोनिया स्कोलारिस के पेड़ों...

'चरित्रवान हो तो अग्निपरीक्षा देकर द‌िखाओ'

indore agnipariksha इंदौर में एक युवती के ससुराल वालों ने उसके चरित्र पर सवाल उठाया...