Breaking News in Hindi Tuesday, July 07, 2015

Home > City > Almora >

हर साल आपदा में समाते स्कूल भवन

रानीखेत। नगर का एकमात्र राजकीय बालिका इंटर कालेज हर साल आपदा में खतरे की जद में आता जा रहा है। तीन साल पहले नए कक्षों के निर्माण के दौरान हुए भूस्खलन के कारण ध्वस्त पांच कक्षाओं को तो ठीक नहीं किया गया, अब शेष बची हुई कक्षाओं पर भी खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। गत 20 अगस्त को हुई अतिवृष्टि ने विद्यालय प्रशासन की नींद उड़ा दी है। इन हालातों में छात्राओं की जान खतरे में आ चुकी है।
राजकीय बालिका इंटर कालेज की स्थापना 1929 में हुई। 1995 तक यहां लगभग डेढ़ हजार बालिकाएं पढ़ती थीं, राज्य बनने के बाद अध्यापकों के साथ-साथ छात्राओं की संख्या में भी कमी आई। वर्तमान में यहां लगभग आठ सौ छात्राएं अध्ययनरत हैं। दूसरी तरफ विद्यालय में तीन साल पूर्व आपदा की भेंट चढ़े चार पुराने कक्षों को आज तक ठीक नहीं किया गया है। 2008 में विभाग ने यहां छह नए कक्षों को स्वीकृति दी। इसके लिए 59 लाख रुपये स्वीकृत हुए। निर्माण की जिम्मेदारी आरईएस विभाग को सौंपी गई। पहली किस्त के रूप में मिले 36 लाख रुपये से कमरों का निर्माण विद्यालय भवन के ठीक नीचे चल रहा था। लेकिन कटान के दौरान पुराने कमरों की नींव हिल गई, 2010 में आई आपदा के कारण विद्यालय के पांच पुराने कक्ष ध्वस्त हो गए। आरईएस ने तीन कमरे बनाए और निर्माण कार्य रोक दिया। खंड शिक्षा अधिकारी एचआर राजन ने बताया कि पुराने ध्वस्त कमरों को ठीक करने के लिए तहसील प्रशासन आपदा मद के दायरे से बाहर रख रहा है। कई बार विभाग को लिखा गया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। कक्षा कक्षों की कमी के चलते बालिकाएं प्रयोगशाला में पठन पाठन कर रही हैं। प्रभारी प्रधानाचार्या शीला मिश्रा ने कहा कि परिसर में लगातार भूस्खलन हो रहा है, जिस कारण कमरों के अंदर पठन पाठन कार्य कराने से डर लग रहा है। आरईएस ने जो भी कमरे बनाए हैं, उनमें तमाम तरह की खामियां हैं। जिन्हें हस्तांतरित नहीं किया जा सकता।
-भूस्खलन वाली जमीन पर नए कक्ष बन रहे थे। कटान के दौरान पूरा मलबा नीचे आ गया। रिटर्निंग वाल और सफाई में 11 लाख रुपये खर्च हो गए। 2011 में विभाग ने दूसरी किस्त के रूप में 23 लाख रुपये दिए। धन की कमी के कारण तीन कमरे ही बने हैं। अब शिक्षा निदेशालय को रिवाइज इस्टीमेट बनाकर भेजा गया है।
-बीएस नेगी, ईई, आरईएस

ज़बर खबर : पढ़ना न भूलें

ताजमहल के इन दरवाजों में दफन हैं कई रहस्य, आप भी जानिए

ताजमहल के तहखानों में कई रहस्य दफन हैं। जिन दरवाजों से मुगल शहंशाह किले से ताजमहल पहुंचते थे, उन्हीं दरवाजों को ईंटों से बंद कर दिया गया है।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Almora News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

ग्रीस: इन सवालों के जवाब कैसे देंगे एलेक्सिस त्सिप्रास

greece eurozone only 48 left ग्रीस के लोगों के जनमत संग्रह में आर्थिक बेलआउट पैकेज की शर्तों को...

व्यापम घोटाला: उमा भारती ने इशारों में उठाई CBI जांच की मांग

No need of CBI investigation in Vyapam Scam: Rajnath गृह मंत्री राजनाथ सिंह जहां व्यापम घोटाले में एसआईटी जांच को सही ठहरा...

इंडिगो ने पायलटों की सैलरी में किया भारी इजाफा

Indigo hikes salary of pilots by 13 percent बजट एयरलाइंस इंडिगो ने पायलटों को तोहफा देते हुए उनकी सैलरी में 13...

फ्लिंटॉफ की भविष्यवाणी, इंग्लैंड ही जीतेगा एशेज

Andrew Flintoff Predicts England win Ashes इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर एंड्रयू फ्लिंटॉफ ने विश्व प्रसिद्घ एशेज सीरीज पर इंग्लैंड...

ख़बरें राज्यों से

शिवराज के मंत्री बोले- 'पत्रकार हमसे बड़ा है क्या?'

Kailash regrets his remark on scribe राजनीतिक अखाड़े में घिरी शिवराज सरकार के लिए मंत्री कैलाश विजयवर्गीय की टिप्पणी...

खजाने के लालच में किसने ली मासूमों की बलि?

killings for treasure rajasthan दबे कथित खज़ाने के लालच में हुई दो बच्चों की कथित 'बलि' की...

जानिए, कैसे व्यापमं घोटाले में एक एक कर दम तोड़ते गए संदिग्‍ध

mysterious death in mp's vyapam scam मध्यप्रदेश के कुख्यात व्यापमं घोटाले में पत्रकार अक्षय और मेडिकल के डीन अरुण...

पत्रकार की मौत पर घिरे शिवराज, जवाब देने खुद आए सामने

controversy on reporter akshay's death, shivraj gave statement व्यापमं घोटाले की जांच कर रहे टीवी चैनल के पत्रकार की मौत के...