Breaking News in Hindi Monday, August 03, 2015
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > State > Uttarakhand > 100 Days Of Kedarnath Disaster

आपदा के 100 दिन, खतरे से मुक्त नहीं 'केदारनाथ'

100 days of kedarnath disaster
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी से अध्ययन कराया जाना चाहिए। नदी के रुख को मोड़ने और ग्लेशियरों से बचाव के लिए सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर ट्रीटमेंट वर्क होना चाहिए।

- डा. रामनाथ सिंह फोनिया

भगवान शिव के ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ मंदिर पर खतरा मंडरा है। यह खतरा मंदाकिनी नदी के साथ-साथ ग्लेशियर और गांधी सरोवर के मलबे से है।

समय रहते यहां बह रही नदियों के प्रवाह को मोड़ने के उपाय नहीं किए गए तो मंदिर में पुन: पानी घुस सकता है।

पढ़ें, केदारनाथः मिल गया भोले का नाग...

विस्तृत सर्वेक्षण कराने की सलाह
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) ने भी राज्य सरकार को वैज्ञानिकों से ग्लेशियर और भूगर्भीय स्थिति का विस्तृत सर्वेक्षण कराने की सलाह दी है।

पढ़ें, ...यहां पिंडदान से धुलेंगे 21 जन्मों के पाप

सुरक्षात्मक उपाय की जरूरत
एएसआई का कहना है कि जल्द से जल्द सुरक्षात्मक उपाय किए जाने चाहिए ताकि एतिहासिक धरोहर को कोई आंच नहीं आए।

मालूम हो कि 16/17 जून को भारी बारिश और ग्लेशियर टूटने से केदारनाथ मंदिर से करीब ढाई किलोमीटर ऊपर गांधी सरोवर (चोराबाड़ी तालाब) टूट गया था।

मलबा मंदिर परिसर में जमा
इससे पानी के साथ-साथ भारी मात्रा में बोल्डर और मलबा मंदिर परिसर में जमा हो गया। बोल्डरों ने मंदिर के पिछले हिस्से को भी नुकसान पहुंचाया था। बाढ़ के कारण मंदाकिनी का प्रवाह क्षेत्र बदल गया है।

पढें, भारी पड़ी मस्ती, 'लड़की' पैसे न चुकाने पर भड़की

पहले मंदाकिनी सीधे नीचे की ओर बहते हुए मंदिर के दाहिनी ओर से निकल जाती थी, मगर अब ऐसा नहीं है। अब नदी मंदिर से लगभग 200 मीटर पीछे से घूमकर बायीं ओर बह रही है, इससे मंदिर को खतरा बना हुआ है।

पढ़ें, संवारने के चक्कर में बिगाड़ दी 'केदारनाथ' की सूरत


मंदिर में पहुंच रहा पानी
मंदिर से करीब तीन किलोमीटर ऊपर तक बोल्डर जमा हैं जो जल स्तर बढ़ने पर पानी के प्रवाह को रोक सकते हैं। हफ्ते भर पहले ही भारी बारिश से नदी का पानी मंदिर के करीब 100 मीटर पीछे पहुंच गया था।

पढें, ...उत्तराखंड में भूखी नहीं सोएंगी 'चिड़िया'

ग्लेशियरों से भी खतरा बना हुआ है। है। ग्लेशियरों के चटकने की आवाज अकसर सुनाई देती है। यह ग्लेशियर भी मंदिर की पिछली ओर की चोटियों में हैं।

तस्वीरों में देंखे...आपदा के 100 दिन और केदारनाथ

जल्द करें ट्रीटमेंट वर्क: डा. फोनिया
आपदा कभी भी आ सकती है। अब पहले की तुलना में खतरा बढ़ गया है। आगे की सोचनी होगी। राज्य सरकार को सलाह दी गई है कि समय पर हाईड्रोलॉजी, मेट्रोलॉजिकल और जियोलॉजिकल सर्वे कराए।

पढें, सोनिया पर टिप्पणी से घिरे रामदेव बाबा, बवाल


वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ जियोलॉजिकल सर्वे, जीएसआई की टीम मौसम और भूगर्भीय सर्वेक्षण कर रहे हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी से भी अध्ययन कराया जाना चाहिए।

नदी के रुख को मोड़ने और ग्लेशियरों से बचाव के लिए सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर ट्रीटमेंट वर्क होना चाहिए।
- डा. रामनाथ सिंह फोनिया, निदेशक केदारनाथ संरक्षण योजना/भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण दिल्ली

ज़बर खबर : पढ़ना न भूलें

'बजरंगी भाईजान! मेरे सलमान को भारत वापस ला दो'

ये सलमान 24 साल पहले पाकिस्तान गया और आज तक लौट नहीं पाया। अब उसकी मां को ऐसे बजरंगी भाईजान की तलाश है, जो उसे वापस ला सके।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Tags »

kedarnath
Uttarakhand News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

पाक पीएम नवाज शरीफ के काफिले में घुसी कार, बाल बाल बचे

pakistan prime minsiter nawaz sharif safe now पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ रविवार रात को बाल बाल उस समय बच...

यूपी की बेटी का कमाल, पहुंची सबसे ऊंचे ज्वालामुखी पर

toolika of meerut reached to the highest volcano of asia पहाड़ों से भी ऊंची है मेरठ की बेटी तूलिका रानी की जिद, साहस...

पाकिस्तान ने 163 भारतीय मछुआरों को रिहा किया

Pakistan releases 163 Indian fishermen पाकिस्तान ने कराची की दो जेलों में बंद तीन नाबालिगों समेत 163 भारतीय...

मुहाजिरों की हालत पर भारत को शर्म आनी चाहिए- अल्ताफ हुसैन

india should feel shame on condition of muhajir पाकिस्तान में मुत्तहिदा क़ौमी मूवमेंट (एमक्यूएम) के प्रमुख अल्ताफ हुसैन के भारत संबंधी...

ख़बरें राज्यों से

जयपुर के डाकखानों ने कलाम को खास अंदाज में दी श्रद्धाजंलि

jaipur's post office were open for tribute to kalam अपने खास अंदाज से जनता के दिल में जगह बनाने वाले पूर्व राष्ट्रपति...

इमरजेंसी में इंदिरा से भी आगे हो गए थे वीसी शुक्ल

Vc shukla's birthday today झीरम घाटी में नक्सलियों की गोली का निशाना बने वीसी शुक्ल के बारे...

मैं तो वही बोलता था जो नीतीश कहते थेः सुशील मोदी

I spoke the same which says Nitish नीतीश ने यह कहकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज कर दी हैं कि सरकार के...

बिहार की राजनीति में भूचाल ला देगी ये खास रिपोर्ट

bhagalpur riots report will open on next days बिहार के भागलपुर में हुए भीषण दंगे की न्यायिक जांच आयोग की रिपोर्ट...
Uttarakhand News in Hindi - Get the latest news of Uttarakhand in Hindi - Saar se Vistaar tak only on Amarujala.com. Keep yourself up-to-date about the recent incidents, current affairs and daily news of Uttarakhand cities including Dehradun, Haridwar, Nainital, Almorah and other major cities of Uttarakhand. Read daily Uttarakhand news in Hindi on Amarujala.com and get unbiased analytical views on recent events and incidents in Uttarakhand.