Breaking News in Hindi Saturday, May 30, 2015
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > State > Uttarakhand > 100 Days Of Kedarnath Disaster

आपदा के 100 दिन, खतरे से मुक्त नहीं 'केदारनाथ'

100 days of kedarnath disaster
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी से अध्ययन कराया जाना चाहिए। नदी के रुख को मोड़ने और ग्लेशियरों से बचाव के लिए सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर ट्रीटमेंट वर्क होना चाहिए।

- डा. रामनाथ सिंह फोनिया

भगवान शिव के ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ मंदिर पर खतरा मंडरा है। यह खतरा मंदाकिनी नदी के साथ-साथ ग्लेशियर और गांधी सरोवर के मलबे से है।

समय रहते यहां बह रही नदियों के प्रवाह को मोड़ने के उपाय नहीं किए गए तो मंदिर में पुन: पानी घुस सकता है।

पढ़ें, केदारनाथः मिल गया भोले का नाग...

विस्तृत सर्वेक्षण कराने की सलाह
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) ने भी राज्य सरकार को वैज्ञानिकों से ग्लेशियर और भूगर्भीय स्थिति का विस्तृत सर्वेक्षण कराने की सलाह दी है।

पढ़ें, ...यहां पिंडदान से धुलेंगे 21 जन्मों के पाप

सुरक्षात्मक उपाय की जरूरत
एएसआई का कहना है कि जल्द से जल्द सुरक्षात्मक उपाय किए जाने चाहिए ताकि एतिहासिक धरोहर को कोई आंच नहीं आए।

मालूम हो कि 16/17 जून को भारी बारिश और ग्लेशियर टूटने से केदारनाथ मंदिर से करीब ढाई किलोमीटर ऊपर गांधी सरोवर (चोराबाड़ी तालाब) टूट गया था।

मलबा मंदिर परिसर में जमा
इससे पानी के साथ-साथ भारी मात्रा में बोल्डर और मलबा मंदिर परिसर में जमा हो गया। बोल्डरों ने मंदिर के पिछले हिस्से को भी नुकसान पहुंचाया था। बाढ़ के कारण मंदाकिनी का प्रवाह क्षेत्र बदल गया है।

पढें, भारी पड़ी मस्ती, 'लड़की' पैसे न चुकाने पर भड़की

पहले मंदाकिनी सीधे नीचे की ओर बहते हुए मंदिर के दाहिनी ओर से निकल जाती थी, मगर अब ऐसा नहीं है। अब नदी मंदिर से लगभग 200 मीटर पीछे से घूमकर बायीं ओर बह रही है, इससे मंदिर को खतरा बना हुआ है।

पढ़ें, संवारने के चक्कर में बिगाड़ दी 'केदारनाथ' की सूरत


मंदिर में पहुंच रहा पानी
मंदिर से करीब तीन किलोमीटर ऊपर तक बोल्डर जमा हैं जो जल स्तर बढ़ने पर पानी के प्रवाह को रोक सकते हैं। हफ्ते भर पहले ही भारी बारिश से नदी का पानी मंदिर के करीब 100 मीटर पीछे पहुंच गया था।

पढें, ...उत्तराखंड में भूखी नहीं सोएंगी 'चिड़िया'

ग्लेशियरों से भी खतरा बना हुआ है। है। ग्लेशियरों के चटकने की आवाज अकसर सुनाई देती है। यह ग्लेशियर भी मंदिर की पिछली ओर की चोटियों में हैं।

तस्वीरों में देंखे...आपदा के 100 दिन और केदारनाथ

जल्द करें ट्रीटमेंट वर्क: डा. फोनिया
आपदा कभी भी आ सकती है। अब पहले की तुलना में खतरा बढ़ गया है। आगे की सोचनी होगी। राज्य सरकार को सलाह दी गई है कि समय पर हाईड्रोलॉजी, मेट्रोलॉजिकल और जियोलॉजिकल सर्वे कराए।

पढें, सोनिया पर टिप्पणी से घिरे रामदेव बाबा, बवाल


वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ जियोलॉजिकल सर्वे, जीएसआई की टीम मौसम और भूगर्भीय सर्वेक्षण कर रहे हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी से भी अध्ययन कराया जाना चाहिए।

नदी के रुख को मोड़ने और ग्लेशियरों से बचाव के लिए सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर ट्रीटमेंट वर्क होना चाहिए।
- डा. रामनाथ सिंह फोनिया, निदेशक केदारनाथ संरक्षण योजना/भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण दिल्ली

ज़बर खबर : पढ़ना न भूलें

42 तस्वीरों में देखिए सिगरेट से कैसे धुंआ होती है जिंदगी

31 मई, दुनिया भर में एंटी स्मोकिंग डे के तौर पर मनाया जाता है। इन पोस्टरों को देखिए, सोचिए और कुछ करिए।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Tags »

kedarnath
Uttarakhand News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

'मोदी के पीएम बनने से देश में आईं आपदाएं'

disasters coming after narendra modi becom pm in the country पीएम मोदी को देश में आई आपदाओं का जिम्मेदार ठहराया है। 'प्रकृति भी...

एक रन से शतक से चूका बल्लेबाज, वनडे में हुआ यह 28वीं बार

Chamu Chibhabha missed his first ton by one run वनडे क्रिकेट में एक सलामी बल्लेबाज ने अपने करियर की सर्वश्रेष्ठ पारी खेली...

मोदी का जवाब- सूटकेस सरकार से अच्छी सूट-बूट की सरकार

Suit Boot ki Sarkar is definitely better than Suitcase says narendra modi कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी केंद्र सरकार को लगातार 'सूट-बूट की सरकार' कहकर तंज...

भूमि अधिग्रहण पर तीसरी बार अध्यादेश को मंजूरी

cabinet approve ordinance on land aquisition bill केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भूमि अधिग्रहण पर तीसरी बार अध्यादेश लाने का फ़ैसला किया...

ख़बरें राज्यों से

एक हाथी की दहशत, तबाह हो गया पूरा गांव

elephant demolished houses in chhattisgarh village छत्तीसगढ़ के जसपुर में एक हाथी के डर के मारे 150 से ज्यादा...

भगवान नहीं मिले तो काट लिया खुद का गला

man cut his throat because god not meat छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में भगवान न मिलने से क्षुब्‍ध एक युवक ने खुद...

ओंकारेश्वर के 400 पुजारियों ने दी मुस्लिम बनने की धमकी

400 priests had threatened to adopt Islam प्रमुख ज्योर्तिलिंग ओंकारेश्वर के पुजारियों ने परिवार सहित इस्लाम धर्म अपनाने की धमकी...

35 साल की विधवा को 100 लोगों के सामने जिंदा जलाया

widow woman burn alive in front of 100 people in bihar क्या भारत में भी कहीं न कहीं तालिबानी ताकतें जिंदा है? ऐसा क्यों...
Uttarakhand News in Hindi - Get the latest news of Uttarakhand in Hindi - Saar se Vistaar tak only on Amarujala.com. Keep yourself up-to-date about the recent incidents, current affairs and daily news of Uttarakhand cities including Dehradun, Haridwar, Nainital, Almorah and other major cities of Uttarakhand. Read daily Uttarakhand news in Hindi on Amarujala.com and get unbiased analytical views on recent events and incidents in Uttarakhand.