Breaking News in Hindi Tuesday, September 23, 2014
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > State > Uttarakhand > 100 Days Of Kedarnath Disaster

आपदा के 100 दिन, खतरे से मुक्त नहीं 'केदारनाथ'

100 days of kedarnath disaster
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी से अध्ययन कराया जाना चाहिए। नदी के रुख को मोड़ने और ग्लेशियरों से बचाव के लिए सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर ट्रीटमेंट वर्क होना चाहिए।

- डा. रामनाथ सिंह फोनिया

भगवान शिव के ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ मंदिर पर खतरा मंडरा है। यह खतरा मंदाकिनी नदी के साथ-साथ ग्लेशियर और गांधी सरोवर के मलबे से है।

समय रहते यहां बह रही नदियों के प्रवाह को मोड़ने के उपाय नहीं किए गए तो मंदिर में पुन: पानी घुस सकता है।

पढ़ें, केदारनाथः मिल गया भोले का नाग...

विस्तृत सर्वेक्षण कराने की सलाह
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) ने भी राज्य सरकार को वैज्ञानिकों से ग्लेशियर और भूगर्भीय स्थिति का विस्तृत सर्वेक्षण कराने की सलाह दी है।

पढ़ें, ...यहां पिंडदान से धुलेंगे 21 जन्मों के पाप

सुरक्षात्मक उपाय की जरूरत
एएसआई का कहना है कि जल्द से जल्द सुरक्षात्मक उपाय किए जाने चाहिए ताकि एतिहासिक धरोहर को कोई आंच नहीं आए।

मालूम हो कि 16/17 जून को भारी बारिश और ग्लेशियर टूटने से केदारनाथ मंदिर से करीब ढाई किलोमीटर ऊपर गांधी सरोवर (चोराबाड़ी तालाब) टूट गया था।

मलबा मंदिर परिसर में जमा
इससे पानी के साथ-साथ भारी मात्रा में बोल्डर और मलबा मंदिर परिसर में जमा हो गया। बोल्डरों ने मंदिर के पिछले हिस्से को भी नुकसान पहुंचाया था। बाढ़ के कारण मंदाकिनी का प्रवाह क्षेत्र बदल गया है।

पढें, भारी पड़ी मस्ती, 'लड़की' पैसे न चुकाने पर भड़की

पहले मंदाकिनी सीधे नीचे की ओर बहते हुए मंदिर के दाहिनी ओर से निकल जाती थी, मगर अब ऐसा नहीं है। अब नदी मंदिर से लगभग 200 मीटर पीछे से घूमकर बायीं ओर बह रही है, इससे मंदिर को खतरा बना हुआ है।

पढ़ें, संवारने के चक्कर में बिगाड़ दी 'केदारनाथ' की सूरत


मंदिर में पहुंच रहा पानी
मंदिर से करीब तीन किलोमीटर ऊपर तक बोल्डर जमा हैं जो जल स्तर बढ़ने पर पानी के प्रवाह को रोक सकते हैं। हफ्ते भर पहले ही भारी बारिश से नदी का पानी मंदिर के करीब 100 मीटर पीछे पहुंच गया था।

पढें, ...उत्तराखंड में भूखी नहीं सोएंगी 'चिड़िया'

ग्लेशियरों से भी खतरा बना हुआ है। है। ग्लेशियरों के चटकने की आवाज अकसर सुनाई देती है। यह ग्लेशियर भी मंदिर की पिछली ओर की चोटियों में हैं।

तस्वीरों में देंखे...आपदा के 100 दिन और केदारनाथ

जल्द करें ट्रीटमेंट वर्क: डा. फोनिया
आपदा कभी भी आ सकती है। अब पहले की तुलना में खतरा बढ़ गया है। आगे की सोचनी होगी। राज्य सरकार को सलाह दी गई है कि समय पर हाईड्रोलॉजी, मेट्रोलॉजिकल और जियोलॉजिकल सर्वे कराए।

पढें, सोनिया पर टिप्पणी से घिरे रामदेव बाबा, बवाल


वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ जियोलॉजिकल सर्वे, जीएसआई की टीम मौसम और भूगर्भीय सर्वेक्षण कर रहे हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी से भी अध्ययन कराया जाना चाहिए।

नदी के रुख को मोड़ने और ग्लेशियरों से बचाव के लिए सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर ट्रीटमेंट वर्क होना चाहिए।
- डा. रामनाथ सिंह फोनिया, निदेशक केदारनाथ संरक्षण योजना/भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण दिल्ली

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Tags »

kedarnath
Uttarakhand News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

बस में हुआ 'धमाका', 4 की मौत, सैकड़ों घायल

Cylinder blast in bus, 100 injured. बुलंदशहर में शिकारपुर से जहांगीराबाद आ रही प्राइवेट बस में सिलेंडर फटने से...

प्रयागराज एक्सप्रेस का इंजन फेल, टला बड़ा हादसा

prayagraj express engine fail. नई दिल्ली से इलाहाबाद जा रही प्रयागराज एक्सप्रेस का इंजन रविवार रात दादरी...

मोदीजी, ऐसे में काशी कैसे बन पाएगी क्योटो?

photograps animals on road of varanasi काशी में एक कहावत कही जाती है, 'रांड, सांड, सीढ़ी, सन्यासी। इनसे बचे...

अहम टेस्ट में कामयाब रहा मंगलयान

mars_mangalyaan भारत के मंगलयान का 'मेन लिक्विड इंजिन' सोमवार को चार सेकंड के लिए...

ख़बरें राज्यों से

माया के खास ने हिंदू धर्म पर किया तीखा प्रहार

bsp leader gave controversial statement at hindu gods बसपा सुप्रीमो मायावती के खासमखास नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने हिंदू धर्म और...

बच्ची की 'ज‌िंदा समाधि', लगा मजमा

buried girl alive in rajasthan. एक बच्ची के 'ज‌िंदा समाधि लेने' और 'देवी का रूप' होने की अफवाह...

टीवी सेट में विस्फोट से मां-बेटी की मौत

blast in tv, mother daughter died बिहार के गोपालगंज जिले में टीवी में विस्फोट होने से मां-बेटी की मौत...

जात के बंधनों में बंधे हैं यहां के मुक्तिधाम

cast crematoriums mortuary. राजस्थान हाईकोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते शहर के सभी मोक्षधामों को जाति...
Uttarakhand News in Hindi - Get the latest news of Uttarakhand in Hindi - Saar se Vistaar tak only on Amarujala.com. Keep yourself up-to-date about the recent incidents, current affairs and daily news of Uttarakhand cities including Dehradun, Haridwar, Nainital, Almorah and other major cities of Uttarakhand. Read daily Uttarakhand news in Hindi on Amarujala.com and get unbiased analytical views on recent events and incidents in Uttarakhand.