Breaking News in Hindi Saturday, December 20, 2014
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > State > Uttarakhand > 100 Days Of Kedarnath Disaster

आपदा के 100 दिन, खतरे से मुक्त नहीं 'केदारनाथ'

100 days of kedarnath disaster
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी से अध्ययन कराया जाना चाहिए। नदी के रुख को मोड़ने और ग्लेशियरों से बचाव के लिए सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर ट्रीटमेंट वर्क होना चाहिए।

- डा. रामनाथ सिंह फोनिया

भगवान शिव के ग्यारहवें ज्योतिर्लिंग केदारनाथ मंदिर पर खतरा मंडरा है। यह खतरा मंदाकिनी नदी के साथ-साथ ग्लेशियर और गांधी सरोवर के मलबे से है।

समय रहते यहां बह रही नदियों के प्रवाह को मोड़ने के उपाय नहीं किए गए तो मंदिर में पुन: पानी घुस सकता है।

पढ़ें, केदारनाथः मिल गया भोले का नाग...

विस्तृत सर्वेक्षण कराने की सलाह
भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) ने भी राज्य सरकार को वैज्ञानिकों से ग्लेशियर और भूगर्भीय स्थिति का विस्तृत सर्वेक्षण कराने की सलाह दी है।

पढ़ें, ...यहां पिंडदान से धुलेंगे 21 जन्मों के पाप

सुरक्षात्मक उपाय की जरूरत
एएसआई का कहना है कि जल्द से जल्द सुरक्षात्मक उपाय किए जाने चाहिए ताकि एतिहासिक धरोहर को कोई आंच नहीं आए।

मालूम हो कि 16/17 जून को भारी बारिश और ग्लेशियर टूटने से केदारनाथ मंदिर से करीब ढाई किलोमीटर ऊपर गांधी सरोवर (चोराबाड़ी तालाब) टूट गया था।

मलबा मंदिर परिसर में जमा
इससे पानी के साथ-साथ भारी मात्रा में बोल्डर और मलबा मंदिर परिसर में जमा हो गया। बोल्डरों ने मंदिर के पिछले हिस्से को भी नुकसान पहुंचाया था। बाढ़ के कारण मंदाकिनी का प्रवाह क्षेत्र बदल गया है।

पढें, भारी पड़ी मस्ती, 'लड़की' पैसे न चुकाने पर भड़की

पहले मंदाकिनी सीधे नीचे की ओर बहते हुए मंदिर के दाहिनी ओर से निकल जाती थी, मगर अब ऐसा नहीं है। अब नदी मंदिर से लगभग 200 मीटर पीछे से घूमकर बायीं ओर बह रही है, इससे मंदिर को खतरा बना हुआ है।

पढ़ें, संवारने के चक्कर में बिगाड़ दी 'केदारनाथ' की सूरत


मंदिर में पहुंच रहा पानी
मंदिर से करीब तीन किलोमीटर ऊपर तक बोल्डर जमा हैं जो जल स्तर बढ़ने पर पानी के प्रवाह को रोक सकते हैं। हफ्ते भर पहले ही भारी बारिश से नदी का पानी मंदिर के करीब 100 मीटर पीछे पहुंच गया था।

पढें, ...उत्तराखंड में भूखी नहीं सोएंगी 'चिड़िया'

ग्लेशियरों से भी खतरा बना हुआ है। है। ग्लेशियरों के चटकने की आवाज अकसर सुनाई देती है। यह ग्लेशियर भी मंदिर की पिछली ओर की चोटियों में हैं।

तस्वीरों में देंखे...आपदा के 100 दिन और केदारनाथ

जल्द करें ट्रीटमेंट वर्क: डा. फोनिया
आपदा कभी भी आ सकती है। अब पहले की तुलना में खतरा बढ़ गया है। आगे की सोचनी होगी। राज्य सरकार को सलाह दी गई है कि समय पर हाईड्रोलॉजी, मेट्रोलॉजिकल और जियोलॉजिकल सर्वे कराए।

पढें, सोनिया पर टिप्पणी से घिरे रामदेव बाबा, बवाल


वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ जियोलॉजिकल सर्वे, जीएसआई की टीम मौसम और भूगर्भीय सर्वेक्षण कर रहे हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइड्रोलॉजी से भी अध्ययन कराया जाना चाहिए।

नदी के रुख को मोड़ने और ग्लेशियरों से बचाव के लिए सर्वेक्षण रिपोर्टों के आधार पर ट्रीटमेंट वर्क होना चाहिए।
- डा. रामनाथ सिंह फोनिया, निदेशक केदारनाथ संरक्षण योजना/भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण दिल्ली

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Tags »

kedarnath
Uttarakhand News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

सेक्स वर्कर की बेटी को मिला पासपोर्ट

daughter of sex worker gets passport in 28 hours सेक्स वर्कर की 19 वर्षीय बेटी ने पासपोर्ट बनवाने के लिए बहुत भागदौड़...

एग्जिट पोल: झारखंड में बीजेपी को पूर्ण बहुमत

EXIT POLL result in jammu kashmir and Jharkhand election हरियाणा और महाराष्ट्र के बाद झारखंड में भी मोदी लहर के आगे सब...

'जवानों की जवानी खत्म होने तक बना लेंगे हिंदू राष्ट्र'

rashtriya swayamsevak sangh chief mohan bhagwat statement in kolkata प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नाराजगी के बाद भी रा‌ष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया...

जबरन धर्म परिवर्तन के खिलाफ है बीजेपी, बोले अमित शाह

BJP against forcible religious conversions अमित शाह ने कहा है कि बीजेपी जबरन धर्म परिवर्तन के खिलाफ है...

ख़बरें राज्यों से

आगरा में व्यापारी नेता की हत्या

businessmen murdered at Agra आगरा में हुई एक सनसनीखेज वारदात में दिनदहाड़े एक व्यापारी नेता की हत्या...

माड़ी मुस्तफा में दो माह में 14 मौत से हड़कंप

moga, two, month, 14, death, reported बाघापुराना सब डिवीजन के अधीन आते गांव माड़ी मुस्तफा में दो माह में...

राजस्थान: रोडवेज बसों में लगेंगे सीसीटीवी कैमरे

Rajasthan Roadways buses will CCTV cameras. राजस्थान रोडवेज की बस में सफर करने वाले अब तीसरी नजर यानी सीसीटीवी...

नशा तस्करी में दस साल कैद व एक लाख जुर्माना

 Punjab, Drug trafficking, Ten years imprisonment, One lakh fine जिले की फास्ट ट्रैक अदालत ने नशा तस्करी में दोषी एक व्यक्ति को...
Uttarakhand News in Hindi - Get the latest news of Uttarakhand in Hindi - Saar se Vistaar tak only on Amarujala.com. Keep yourself up-to-date about the recent incidents, current affairs and daily news of Uttarakhand cities including Dehradun, Haridwar, Nainital, Almorah and other major cities of Uttarakhand. Read daily Uttarakhand news in Hindi on Amarujala.com and get unbiased analytical views on recent events and incidents in Uttarakhand.