Breaking News in Hindi Wednesday, April 23, 2014
ताज़ा ख़बर >

आपके शहर की ख़बरें

Home > State > Uttar Pradesh

UPTET: रुकी रहेगी भर्ती, मामला फुल बेंच को रेफर

उत्तर प्रदेश में सहायक अध्यापकों की भर्ती पर फिलहाल रोक लगी रहेगी। सहायक अध्यापकों की भर्ती टीईटी मेरिट पर होगी या शैक्षिक गुणांक पर, इस मामले की सुनवाई की जिम्मेदारी अब तीन जजों की फुल बेंच को सौंप दी गई है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट में मामले की सुनवाई कर रही खंडपीठ ने मंगलवार को वैधानिक दिक्‍कतों को ध्यान में रखकर, इसे फुल बेंच को भेजने का निर्णय लिया।

गौरतलब है कि बीएड अभ्यर्थियों के एक मामले में सुनाए गए खंडपीठ के आदेश की सुनवाई की जिम्‍मेदारी भी इसी बेंच के पास है। इस प्रकरण को मुख्य न्यायाधीश के समक्ष भेज दिया गया है।

मंगलवार को सहायक अध्यापकों की भर्ती के मामले में सुनवाई कर रही न्यायमूर्ति सुशील हरकौली और न्यायमूर्ति मनोज मिश्र की खंडपीठ को अवगत कराया गया कि बीएड अ‌भ्यर्थियों से संबंधित प्रभाकर सिंह केस में दिए खंडपीठ के फैसले को स्पष्टीकरण के लिए फुल बेंच को रैफर कर दिया है।

प्रभाकर सिंह केस में खंडपीठ ने बीएड अभ्यर्थियों को बिना टीईटी उत्तीर्ण किए सहायक अध्यापक भर्ती प्रक्रिया में शामिल करने का निर्देश दिया था। कोर्ट का कहना था कि यदि इस स्तर पर मौजूदा याचिका पर कोई आदेश दिया जाता है और वह फुल बेंच के निर्णय, जो कि अभी आना बाकी है, से असंगत होता है तो वैधानिक समस्या खड़ी हो सकती है।

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि इस स्थिति में यदि दोनों मामले एक साथ सुने जाएं तो बेहतर होगा।

टीईटी की गड़बड़ी की फिर शुरु हुई जांच

टीईटी-2011 में धांधली में कुछ और अफसरों पर गाज गिर सकती है। इस मामले की एक बार फिर विभागीय जांच कराने की तैयारी हो रही है। इसमें यह पता लगाया जाएगा कि संजय मोहन के साथ धांधली में और कौन-कौन दोषी है।

हाल ही में तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा परिषद की सचिव प्रभा त्रिपाठी से इस बाबत स्पष्टीकरण भी मांगा गया था। उन्होंने स्पष्टीकरण का जवाब तो दे दिया है, लेकिन उच्चाधिकारी उनके जवाब से संतुष्ट नहीं हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक, उनके खिलाफ कभी भी कार्रवाई की जा सकती है।

गौरतलब है कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू होने के बाद शिक्षक बनने के लिए टीईटी पास होना अनिवार्य कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश में नवंबर 2011 में टीईटी आयोजित कराई गई। इसे कराने में तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा परिषद के निदेशक संजय मोहन और सचिव प्रभा त्रिपाठी की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

बाद में गड़बड़ी के आरोप में संजय मोहन को गिरफ्तार कर लिया गया।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

सम्बंधित फोटो गैलरी

  • cii partnership summit 2013
  • beauty contest in farrukhabad
  • saifai festival scene

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

41 साल की चित्रा ने इंग्लैंड में किया ऐतिहासिक कारनामा

Chitra wins World women s senior snooker in her first attempt भारत की चित्रा मैगीमैराज ने इंग्लैंड के लीड्स शहर में ऐतिहासिक प्रदर्शन कर...

अफजाल ने मारी पलटी, मोदी की तारीफ से मुकरे

Quami Ekta Dal leader Afzal Ansari rules out support to Modi तीन दिन पहले नरेंद्र मोदी की तारीफ कर पूर्वी उत्तर प्रदेश की सियासत...

अब राजनीति में आया सांड़, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार

supreme court asked upa government why use bull fighting for vote bank politics जाति, धर्म और विकास की राजनीति के चुनावी महासमर के बीच सुप्रीम कोर्ट...

शताब्दी एक्सप्रेस में सफर करना होगा और सुहाना

railway start new faicility in shatabdi express train शताब्दी एक्सप्रेस में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए खुशखबरी है। जल्द ही...

ख़बरें राज्यों से

'कांग्रेस पंजे और भाजपा फूल वाली कांग्रेस'

bjp_congress_modi_ratlam seat_loksabha elections2014 झाबुआ के आदिवासी ऐसे मतदाता है, जो कांग्रेस को पंजे वाली कांग्रेस और...

81 प्रत्याशियों का फैसला करेंगे 81 लाख मतदाता

rajasthan_loksabha elections_24 april_5 seats राजस्थान की 25 लोकसभा सीटों में से बची पांच सीटों पर बृहस्पतिवार को...

धर्मेंद्र ने बढ़ाई बसंती की टेंशन, मथुरावाले बने गब्बर!

veeru absence gives tension to hema malini in mathura अपनी पत्नी और भाजपा के टिकट पर सांसद का चुनाव लड़ रहीं हेमामालिनी...

छात्राओं की आपबीती, पुलिस ने बेरहमी से पीटा

police beated_students_jammu अस्सर में छह छात्राओं को बस से उतार कर पुलिस द्वारा बेरहमी से...