Breaking News in Hindi Tuesday, July 22, 2014
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > State > Uttar Pradesh

UPTET: रुकी रहेगी भर्ती, मामला फुल बेंच को रेफर

उत्तर प्रदेश में सहायक अध्यापकों की भर्ती पर फिलहाल रोक लगी रहेगी। सहायक अध्यापकों की भर्ती टीईटी मेरिट पर होगी या शैक्षिक गुणांक पर, इस मामले की सुनवाई की जिम्मेदारी अब तीन जजों की फुल बेंच को सौंप दी गई है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट में मामले की सुनवाई कर रही खंडपीठ ने मंगलवार को वैधानिक दिक्‍कतों को ध्यान में रखकर, इसे फुल बेंच को भेजने का निर्णय लिया।

गौरतलब है कि बीएड अभ्यर्थियों के एक मामले में सुनाए गए खंडपीठ के आदेश की सुनवाई की जिम्‍मेदारी भी इसी बेंच के पास है। इस प्रकरण को मुख्य न्यायाधीश के समक्ष भेज दिया गया है।


मंगलवार को सहायक अध्यापकों की भर्ती के मामले में सुनवाई कर रही न्यायमूर्ति सुशील हरकौली और न्यायमूर्ति मनोज मिश्र की खंडपीठ को अवगत कराया गया कि बीएड अ‌भ्यर्थियों से संबंधित प्रभाकर सिंह केस में दिए खंडपीठ के फैसले को स्पष्टीकरण के लिए फुल बेंच को रैफर कर दिया है।

प्रभाकर सिंह केस में खंडपीठ ने बीएड अभ्यर्थियों को बिना टीईटी उत्तीर्ण किए सहायक अध्यापक भर्ती प्रक्रिया में शामिल करने का निर्देश दिया था। कोर्ट का कहना था कि यदि इस स्तर पर मौजूदा याचिका पर कोई आदेश दिया जाता है और वह फुल बेंच के निर्णय, जो कि अभी आना बाकी है, से असंगत होता है तो वैधानिक समस्या खड़ी हो सकती है।

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि इस स्थिति में यदि दोनों मामले एक साथ सुने जाएं तो बेहतर होगा।

टीईटी की गड़बड़ी की फिर शुरु हुई जांच

टीईटी-2011 में धांधली में कुछ और अफसरों पर गाज गिर सकती है। इस मामले की एक बार फिर विभागीय जांच कराने की तैयारी हो रही है। इसमें यह पता लगाया जाएगा कि संजय मोहन के साथ धांधली में और कौन-कौन दोषी है।

हाल ही में तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा परिषद की सचिव प्रभा त्रिपाठी से इस बाबत स्पष्टीकरण भी मांगा गया था। उन्होंने स्पष्टीकरण का जवाब तो दे दिया है, लेकिन उच्चाधिकारी उनके जवाब से संतुष्ट नहीं हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक, उनके खिलाफ कभी भी कार्रवाई की जा सकती है।

गौरतलब है कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू होने के बाद शिक्षक बनने के लिए टीईटी पास होना अनिवार्य कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश में नवंबर 2011 में टीईटी आयोजित कराई गई। इसे कराने में तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा परिषद के निदेशक संजय मोहन और सचिव प्रभा त्रिपाठी की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

बाद में गड़बड़ी के आरोप में संजय मोहन को गिरफ्तार कर लिया गया।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

सम्बंधित फोटो गैलरी

  • cii partnership summit 2013
  • beauty contest in farrukhabad
  • saifai festival scene

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

भारत के सामने ग्लास्गो में दिल्ली का इतिहास दोहराने की चुनौती

India have to do more in glasgow than delhi CWG भारत ने दिल्ली में 19वें राष्ट्रमंडल खेलों में 101 पदक जीतकर इतिहास रचा...

महिला मरीजों के वीडियो बनाने पर करोड़ों का मुआवजा

making videos on Female patients restitution of dollars एक अमेरिकी अस्पताल के डॉक्टर ने कई महिला मरीजों के गुप्त वीडियो बनाए।...

DJ से नाराज हुई पंचायत, लगाई रोक

Sirsa panchayat bans DJs at functions हरियाणा के सिरसा गांव में रूपवास की पंचायत ने किसी भी सामाजिक कार्यक्रम...

BREAKING: हापुड़ में फिर डकैती, गैंगरेप

Woman gangraped, house robbed in Hapur उत्तर प्रदेश्‍ा में बदमाश लगातार कानून व्यवस्था को ठेंगा दिखा रहे हैं। एक...

ख़बरें राज्यों से

संगठन बढ़ाने के नाम पर 40 बच्चों को साथ ले गए नक्सली!

naxal_jharkhand झारखंड में नक्सलियों ने अपने संगठन को बढ़ाने के नाम पर 40 बच्चों...

सरप्लस बिजली, फिर भी हो रही बिजली की कटौती!

chhattisgarh_cseb_electricity गर्मी बीत जाने के बाद भी छत्तीसगढ़ में बिजली की कटौती जारी है।...

छत्तीसगढ़ में भारी बारिश की चेतावनी

chhattisgarh_heavy rain छत्तीसगढ़ में अगले दो दिनों में भारी बारिश होने की चेतावनी दी गई...

जमीन कब्जाने के मामले में विधानसभा स्पीकर का विरोध जारी

chhattisgarh-speaker-in-land-scam गैरकानूनी रूप के जमीन कब्जाने के मामले में छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल...