Breaking News in Hindi Thursday, April 17, 2014
ताज़ा ख़बर >

आपके शहर की ख़बरें

Home > State > Uttar Pradesh

UPTET: रुकी रहेगी भर्ती, मामला फुल बेंच को रेफर

उत्तर प्रदेश में सहायक अध्यापकों की भर्ती पर फिलहाल रोक लगी रहेगी। सहायक अध्यापकों की भर्ती टीईटी मेरिट पर होगी या शैक्षिक गुणांक पर, इस मामले की सुनवाई की जिम्मेदारी अब तीन जजों की फुल बेंच को सौंप दी गई है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट में मामले की सुनवाई कर रही खंडपीठ ने मंगलवार को वैधानिक दिक्‍कतों को ध्यान में रखकर, इसे फुल बेंच को भेजने का निर्णय लिया।

गौरतलब है कि बीएड अभ्यर्थियों के एक मामले में सुनाए गए खंडपीठ के आदेश की सुनवाई की जिम्‍मेदारी भी इसी बेंच के पास है। इस प्रकरण को मुख्य न्यायाधीश के समक्ष भेज दिया गया है।

मंगलवार को सहायक अध्यापकों की भर्ती के मामले में सुनवाई कर रही न्यायमूर्ति सुशील हरकौली और न्यायमूर्ति मनोज मिश्र की खंडपीठ को अवगत कराया गया कि बीएड अ‌भ्यर्थियों से संबंधित प्रभाकर सिंह केस में दिए खंडपीठ के फैसले को स्पष्टीकरण के लिए फुल बेंच को रैफर कर दिया है।

प्रभाकर सिंह केस में खंडपीठ ने बीएड अभ्यर्थियों को बिना टीईटी उत्तीर्ण किए सहायक अध्यापक भर्ती प्रक्रिया में शामिल करने का निर्देश दिया था। कोर्ट का कहना था कि यदि इस स्तर पर मौजूदा याचिका पर कोई आदेश दिया जाता है और वह फुल बेंच के निर्णय, जो कि अभी आना बाकी है, से असंगत होता है तो वैधानिक समस्या खड़ी हो सकती है।

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि इस स्थिति में यदि दोनों मामले एक साथ सुने जाएं तो बेहतर होगा।

टीईटी की गड़बड़ी की फिर शुरु हुई जांच

टीईटी-2011 में धांधली में कुछ और अफसरों पर गाज गिर सकती है। इस मामले की एक बार फिर विभागीय जांच कराने की तैयारी हो रही है। इसमें यह पता लगाया जाएगा कि संजय मोहन के साथ धांधली में और कौन-कौन दोषी है।

हाल ही में तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा परिषद की सचिव प्रभा त्रिपाठी से इस बाबत स्पष्टीकरण भी मांगा गया था। उन्होंने स्पष्टीकरण का जवाब तो दे दिया है, लेकिन उच्चाधिकारी उनके जवाब से संतुष्ट नहीं हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक, उनके खिलाफ कभी भी कार्रवाई की जा सकती है।

गौरतलब है कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू होने के बाद शिक्षक बनने के लिए टीईटी पास होना अनिवार्य कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश में नवंबर 2011 में टीईटी आयोजित कराई गई। इसे कराने में तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा परिषद के निदेशक संजय मोहन और सचिव प्रभा त्रिपाठी की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

बाद में गड़बड़ी के आरोप में संजय मोहन को गिरफ्तार कर लिया गया।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

सम्बंधित फोटो गैलरी

  • cii partnership summit 2013
  • beauty contest in farrukhabad
  • saifai festival scene

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

केकेआर ने मुबंई नाइट राइडर्स के हौसलों को किया पस्त

kkr won first match to mumbai indians मुंबई इंडियंस को न सचिन तेंदुलकर की सलाह काम आई, न ही अनिल...

शाह-आजम की सफाई खारिज, जारी रहेगा प्रतिबंध

eci reject clerafication of shah and azam चुनाव आयोग ने भाजपा नेता अमित शाह तथा उत्तर प्रदेश की सपा सरकार...

मोदी नहीं, भाजपा का एक ‘चालाक नेता’ है पीएम का असली दावेदार: मुलायम

one clever leader of bjp is candidate of pm सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने बुधवार को भाजपा पर जमकर हमला बोला।...

'मोदी जी, देश को उल्लू बनाना बंद करें'

modiji stop bullying to people says rahul कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी...

ख़बरें राज्यों से

जहां महिलाएं हैं संख्या में भारी, पर सियासत में कम भागीदारी

tribal woman voters in jharkhand झारखंड की महिला वोटर की क्या हालत है? चुनावों से उनको क्या उम्मीदें...

सचिन पायलट ने खरीदे हैं फेसबुक लाइक्स: बीजेपी

Sachin Pilot buying fake Facebook likes: BJP सचिन पायलट पर लगा है फेसबुक लाइक्स खरीदने का आरोप। जानिए कितने लाइक्स...

झारखंड की हर सीट पर है बराबरी का मुकाबला

Second Phase Polling in Jharkhand April 17 झारखंड में दूसरे चरण का मतदान 17 अप्रैल को है। इस राउंड में...

देश को टॉफी वाला चाहिए या ट्रॉफी वाला?

narendra modi attacks on rahul gandhi in his hazaribagh's rally राहुल गांधी की ओर से गुजरात के विकास को टॉफी मॉडल करार देने...