Breaking News in Hindi Friday, February 27, 2015
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > State > Uttar Pradesh > Uptet Case Referred To Full Bench Of The Allahabad Highcourt

UPTET: रुकी रहेगी भर्ती, मामला फुल बेंच को रेफर

uptet case referred to full bench of the allahabad highcourt
उत्तर प्रदेश में सहायक अध्यापकों की भर्ती पर फिलहाल रोक लगी रहेगी। सहायक अध्यापकों की भर्ती टीईटी मेरिट पर होगी या शैक्षिक गुणांक पर, इस मामले की सुनवाई की जिम्मेदारी अब तीन जजों की फुल बेंच को सौंप दी गई है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट में मामले की सुनवाई कर रही खंडपीठ ने मंगलवार को वैधानिक दिक्‍कतों को ध्यान में रखकर, इसे फुल बेंच को भेजने का निर्णय लिया।

गौरतलब है कि बीएड अभ्यर्थियों के एक मामले में सुनाए गए खंडपीठ के आदेश की सुनवाई की जिम्‍मेदारी भी इसी बेंच के पास है। इस प्रकरण को मुख्य न्यायाधीश के समक्ष भेज दिया गया है।

मंगलवार को सहायक अध्यापकों की भर्ती के मामले में सुनवाई कर रही न्यायमूर्ति सुशील हरकौली और न्यायमूर्ति मनोज मिश्र की खंडपीठ को अवगत कराया गया कि बीएड अ‌भ्यर्थियों से संबंधित प्रभाकर सिंह केस में दिए खंडपीठ के फैसले को स्पष्टीकरण के लिए फुल बेंच को रैफर कर दिया है।

प्रभाकर सिंह केस में खंडपीठ ने बीएड अभ्यर्थियों को बिना टीईटी उत्तीर्ण किए सहायक अध्यापक भर्ती प्रक्रिया में शामिल करने का निर्देश दिया था। कोर्ट का कहना था कि यदि इस स्तर पर मौजूदा याचिका पर कोई आदेश दिया जाता है और वह फुल बेंच के निर्णय, जो कि अभी आना बाकी है, से असंगत होता है तो वैधानिक समस्या खड़ी हो सकती है।

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि इस स्थिति में यदि दोनों मामले एक साथ सुने जाएं तो बेहतर होगा।

टीईटी की गड़बड़ी की फिर शुरु हुई जांच

टीईटी-2011 में धांधली में कुछ और अफसरों पर गाज गिर सकती है। इस मामले की एक बार फिर विभागीय जांच कराने की तैयारी हो रही है। इसमें यह पता लगाया जाएगा कि संजय मोहन के साथ धांधली में और कौन-कौन दोषी है।

हाल ही में तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा परिषद की सचिव प्रभा त्रिपाठी से इस बाबत स्पष्टीकरण भी मांगा गया था। उन्होंने स्पष्टीकरण का जवाब तो दे दिया है, लेकिन उच्चाधिकारी उनके जवाब से संतुष्ट नहीं हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक, उनके खिलाफ कभी भी कार्रवाई की जा सकती है।

गौरतलब है कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू होने के बाद शिक्षक बनने के लिए टीईटी पास होना अनिवार्य कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश में नवंबर 2011 में टीईटी आयोजित कराई गई। इसे कराने में तत्कालीन माध्यमिक शिक्षा परिषद के निदेशक संजय मोहन और सचिव प्रभा त्रिपाठी की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

बाद में गड़बड़ी के आरोप में संजय मोहन को गिरफ्तार कर लिया गया।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Uttar Pradesh News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


सम्बंधित फोटो गैलरी

  • cii partnership summit 2013
  • beauty contest in farrukhabad
  • saifai festival scene

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

खुलासा: एस्सार ग्रुप ने फायदे के लिए नेताओं को किया उपकृत

Exposé: Essar group obliged ministers for own profits एक व्हिसलब्लोअर ने एस्सार ग्रुप को लेकर सनसनीखेज खुलासे किए हैं। जिसमें कई...

आम जनता से मंत्रियों की संपत्ति छुपाएगी मोदी सरकार

PMO to block public access to minister's assests प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मशहूर बयान 'ना खाऊंगा, ना खाने दूंगा' भी चुनावी...

पाकिस्तान: मोबाइल पर वायरल हो रहा गैंगरेप का वीडियो

gangrape video viral in pakistan जिस बदनामी से बचने के लिए सादिया (काल्पनिक नाम) चुप रही, वही अब...

विपक्षी टीमें नहीं बल्कि चोट दे रही टीम इंडिया को 'झटके पे झटका'

Mohammed Shami will NOT be available against UAE - India Vs UAE टीम इंडिया वर्ल्ड कप में अपना खिताब बचाने मैदान पर उतरी है लेकिन...

ख़बरें राज्यों से

प्राचार्य ने की विदेशी छात्रा से छेड़छाड़

Principal molest foreigner student जयपुर स्थित निम्स विश्वविद्यालय परिसर में फार्मेसी कॉलेज प्राचार्य ने अपने कक्ष में...

स्वाइन फ्लू को लेकर चिकित्सा मंत्री से इस्तीफा देने की मांग

Demand for resign of health minister for swine flu राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस विधायकों ने स्वाइन फ्लू की रोकथाम में सरकार पर...

मदर टेरेसा के यहां भी होता था धर्म परिवर्तन: भागवत

Bhagwat said relegious conversion behind the sewa घर वापसी के मुद्दे पर दूसरों को नसीहत देने वाले आरएसएस प्रमुख भागवत...

मंत्रियों को रोजाना दो घंटे जन सुनवाई के निर्देश

Ministers will held 2 hours of daily jan sunwai राजस्थान सरकार ने जनता की काम नहीं होने की आम शिकायतों को दूर...
UP News in Hindi - Get the latest news of up in Hindi - Saar se Vistaar tak! only on Amarujala.com. Keep yourself up-to-date about the recent incidents, current affairs and daily news of Uttar Pradesh cities including Lucknow, Agra, Allahabad, Varanasi, Kanpur, Gorakhpur, Moradabad, Noida, Ghaziabad and other major cities of UP. Read daily UP news in Hindi on Amarujala.com and get unbiased analytical views on recent events and incidents in Uttar Pradesh.