Breaking News in Hindi Friday, August 01, 2014
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > State > Uttar Pradesh

सीएम से करिए ई-शिकायत, 15 दिन में समाधान

एक साल पूरा कर चुके उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश य़ादव की सरकार पर मिसगवर्नेंस के आरोप लगते रहे हैं और अब वे इस दाग को धोने की लिए जोर-शोर से जुट गए हैं।

इसके लिए उन्होंने हाईटेक तरीका अपनाया है। जनता की शिकायतों का निपटारा करने के लिए उन्होंने एक प्रभावी ई गवर्नेंस सिस्टम बनाया है। इसमें पंद्रह दिन के अंदर शिकायतों का निपटारा करना जरूरी है।

अब तक इस सिस्टम की मदद से लगभग तीन लाख जन शिकायतों में से नब्बे प्रतिशत का समय सीमा के अंदर निपटारा किया जा चुका है।

इस सिस्टम के तहत हर शिकायत की बारकोडिंग की जाती है और जिसकी जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध करवाई जाती है। शिकायत के निपटारे के लिए आधिकारियों के लिए एक समय सीमा भी तय की जाती है।

इस सिस्टम की पहल में शामिल आईएएस अधिकारी आमोद कुमार का कहना है कि अधिकांश शिकायतों का निपटारा 15 दिन के अंदर किया गया और शिकायत करने वाले भी इससे संतुष्ट हैं।

कैसे काम करता है ये सिस्टम?

- मुख्यमंत्री ऑफिस को जो भी शिकायत मिलती है उसको डीटेल और कॉन्टेक्ट इंफॉर्मेशन के साथ एक बारकोड दिया जाता है।
- हर आवेदन को छह अंकों का एक पब्लिक ग्रीवांस नंबर दिया जाता है।
- उसे इंटरनेट पर पोस्ट किया जाता है।
- मुख्यमंत्री की वेबसाइट http://upcmo.up.nic.in पर एक लिंक है जिसमें बार कोड डालकर शिकायत करने वाले और शिकायत का निपटारा करने वाले अधिकारी केस के समाधान की प्रगति के बारे में जानकारी ले सकते हैं।
- जैसे ही शिकायत का आवेदन स्वीकार किया जाता है, वैसे ही सिस्टम एक एसएमएस शिकायत करने वाले को भेज देता है।

तय होती है जवाबदेही
आमोद कुमार का कहना है कि शिकायत के समाधान की प्रगति के बारे में ब्लॉक या तहसील लेवल पर उस शिकायत का निपटारा करने वाले अधिकारी, शिकायत करने वाले और मुख्यमंत्री ऑफिस को जानकारी रहती है इसलिए काम जल्दी से होता है।

पिछले साल सितंबर में शुरू हुए इस सिस्टम में अब तक 2,48,841 शिकायतें मिल चुकीं हैं। इसमें से 2,20,082 यानि 88.4 प्रतिशत का समय सीमा के अंदर निपटारा किया जा चुका है।

आमोद कुमार का कहना है कि इस सिस्टम के जरिए विधायक और सांसद भी आम आदमी की शिकायतों को हम तक पहुंचा सकते हैं।

इसके बाद अब कॉल सेंटर बनाने की भी प्लानिंग की जा रही है जिसके जरिए शिकायत करने वालों को मोबाइल पर अपडेट्स भी भेजे जाएंगे। इसके जरिए फीडबैक भी प्राप्त किए जाएंगे कि काम हुआ कि नहीं।

सफल रहा प्रयोग
आमोद कुमार को इस तरह का सिस्टम बनाने की प्रेरणा तब मिली जब उन्होंने जनता को अपनी शिकायतों के निपटारे के लिए एक विभाग से दूसरे विभाग का चक्कर काटते देखा।

2004-2006 के बीच सीतापुर में जब वह जिलाधिकारी थे तो उन्होंने लोकवाणी नाम से एक पब्लिक ग्रीवांस रिड्रेसल सिस्टम विकसित किया जिसको भारी सफलता मिली।

इस सिस्टम को अंतरराष्ट्रीय पहचान भी मिली उसके बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उनको राज्य स्तर पर इस सिस्टम को लागू करने के लिए चुना।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

सम्बंधित फोटो गैलरी

  • sikh protest on sonia residence
  • people angry at dsp zia ul haq death
  • cii partnership summit 2013

सम्बंधित पोल

क्या आप उत्‍तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के एक साल के कार्यकाल से संतुष्ट हैं?

  • हां
  • नहीं
  • नहीं कह सकते

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

ज्योति हत्याकांड: ये प्यार था या हवस?

jyoti murder case मनीषा और पीयूष की दीवानगी इस हद तक थी ‌कि दोनों की कुंडली...

नमन को मिला लाजवाब खेल का बेहद शानदार 'इनाम'

naman ojha called up for test team india  ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर भारतीय टीम के साथ गए विकेटकीपर-बल्‍लेबाज नमन ओझा को उनके...

'मिस नार्थ इंडिया प्रिंसेस' कॉन्टेस्ट में हिस्सा लेने का आखिरी मौका

MNIP Auditions_FEM Miss North India Contest 2014 अमर उजाला फेम मिस नार्थ इंडिया प्रिंसेस-2014’ कांटेस्ट के लिए शिमला और कानपुर...

पुणे हादसा: मलबे से जीवित निकला तीन महीने का बच्चा

child save from mudslide महाराष्ट्र के मालीण गांव में एक महिला और उनके तीन महीने के बच्चे...

ख़बरें राज्यों से

खंडवा में कर्फ्यू जारी, हालात अभी भी गरम

mp khandwa facebook riot एमपी के खंडवा में छाए सांप्रदायिकता के बादल अभी छंटे नहीं हैं, कर्फ्यू...

छात्राओं को छेड़ता था और टीचर को भेजता था अश्लील मैसेज

jaipur dps case जयपुर के बेहद मशहूर स्कूल के टीचर को संगीन आरोप लगने के बाद...

बीमार बेटे को ठीक करने के लिए दूसरे बेटे का कत्ल

chhattisgarh-child-murdered 11 जुलाई को जब बच्चा अपने घर के बाहर खेल रहा था तब...

सड़क हादसे में 2 कांवड़ियों की मौत, 35 घायल

35 kanwariyas hurt in Hazaribag bus accident झारखंड के हजारीबाग इलाके में हुए एक सड़का हादसे में 2 कांवड़ियों की...
UP News in Hindi - Get the latest news of up in Hindi - Saar se Vistaar tak! only on Amarujala.com. Keep yourself up-to-date about the recent incidents, current affairs and daily news of Uttar Pradesh cities including Lucknow, Agra, Allahabad, Varanasi, Kanpur, Gorakhpur, Moradabad, Noida, Ghaziabad and other major cities of UP. Read daily UP news in Hindi on Amarujala.com and get unbiased analytical views on recent events and incidents in Uttar Pradesh.