Breaking News in Hindi Friday, August 01, 2014
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > Hindi News > National News

भीमराव अंबेडकर ने दिखाई भारत को नई राह

भारत के संविधान निर्माण में अहम भूमिका निभाने वाले डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की आज (6 दिसंबर) पुण्यतिथि है। भारत रत्न से सम्मानित इस हस्ती ने देश को राजनीतिक और सामाजिक दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

14 अप्रैल, 1891 को मध्य प्रदेश के मऊ में जन्मे अंबेडकर एक राजनीतिक नेता, कानूनविद, दार्शनिक, इतिहासकार, अर्थशास्‍त्री, शिक्षक और संपादक थे। प्यार से उनके अनुयायी उन्हें बाबासाहेब कहते थे।

भीमराव, रामजी मालोजी सकपाल और भीमाबाई मुरबादकर की 14वीं और अंतिम संतान थे। वे हिंदू महार जाति से संबंध रखते थे जो अछूत माना जाता था। अंबेडकर के पूर्वज लंबे समय तक ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना से जुड़े रहे। उनके पिता रामजी मालोजी सकपाल मऊ छावनी में काम करते थे और बाद में सूबेदार बने।

प्रारंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद अंबेडकर ने 1908 में एलफिंस्टन कॉलेज में प्रवेश लिया। बाद में वे बडौदा के गायकवाड़ शासक सहयाजी राव के वजीफे पर उच्च अध्ययन के लिए अमेरिका गए। राजनीतिक और अर्थशास्‍त्र में उच्च डिग्री हासिल करने के बाद स्वदेश लौटने पर उन्होंने बडौदा सरकार में नौकरी की। नौकरी के दौरान उन्हें अछूत होने का कड़वा अनुभव हासिल हुआ।

हालाकि उस समय देश में ब्रिटिशों को बाहर करने के लिए आंदोलन अपने जोरों पर था। एक ओर महात्मा गांधी के नेतृत्व में अहिंसक आंदोलन से अंग्रेज सरकार सहम गई थी। वहीं चंद्रशेखर आजाद, भगत सिंह, खुदीराम बोस जैसे क्रांतिकारियों ने अंग्रेज सरकार के नाकों में दम कर रखा था।

1936 में अंबेडकर ने 'इंडिपेंडेंट लेबर पार्टी' नामक राजनीतिक दल का गठन कर सियासी धरातल पर कदम रखा। समाज में अछूतों के प्रति असहिष्‍णु व्यवहार खत्म करने के लिए उन्होंने 'बहिष्कृत भारत' नामक पत्रिका का संपादन किया। जब 15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ तो संविधान के मसौदे को अंतिम रूप देने में अंबेडकर की अहम भूमिका रही। उन्हें देश का प्रथम कानून मंत्री होने का श्रेय प्राप्त है।

1950 के दशक में अंबेडकर बौद्ध धर्म के प्रति आकर्षित हुए। इसी दशक में करीब पांच लाख समर्थकों के साथ अंबेडकर ने बौद्ध धर्म ग्रहण किया। 6 दिसंबर 1956 को नई दिल्ली में इस महान हस्ती का निधन हो गया।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

बवाल के बाद बरेली में तनावपूर्ण शांति

tension in bareilly बरेली के मीरा की पैठ और सैलानी इलाके में बृहस्पतिवार को शांति रही...

कचहरी में पीयूष को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, देखिए तस्वीरें

piyush beaten in court premise by advocates पत्नी ज्योति की हत्या के अभियुक्त पीयूष श्याम दासानी को गुरुवार को वकीलों...

'पीयूष बोल रहा हूं, ज्योति की चीखने की आवाज तो सुनाओ'

piyush wanted to listen the screaming of jyoti पीयूष ज्योति की चीखें सुनना चाहता था इसीलिए 27 जुलाई की रात ज्योति...

सी-सैट विवाद: वर्मा कमेटी ने सरकार को सौंपी रिपोर्ट

CSAT row: Verma committee submits report to Centre यूपीएससी सीसैट विवाद पर जारी हंगामा जल्द थम सकता है। ऐसी संभावना इसलिए...

ख़बरें राज्यों से

श्रद्धालुओं की बस पलटी, एक की मौत, 40 घायल

one died and fourty injured in bas accident नैना देवी के दर्शन कर लौट रही श्रद्धालुओं से भरी बस बृहस्पतिवार अल...

डीपीएस के शिक्षक पर छात्राओं से छेड़छाड़ का आरोप

school teacher was molesting students जयपुर के डीपीएस स्कूल में एक शिक्षक पर छात्राओं से छेड़छाड़ करने का...

झाविमो के चार विधायक भाजपा में शामिल

jharkhand_jvm_bjp विधानसभा चुनावों से पहले झारखंड में झाविमो(झारखंड विकास मोर्चा) के 4 विधायक बीजेपी...

'पापा ने मम्मी को मार डाला, मुझे भी ट्रेन से फेंक दिया'

bihar murder khagaul पटना के खगौल थाने में 11 साल का एक बच्चा बदहवास हालत में...
Read daily news in Hindi about what's happening in India - Amarujala.com publishes latest and breaking national news in Hindi on politics, business and incidents. Amarujala.com offers Indian News in Hindi along with incisive analysis and unbiased views on current affairs. We analyse and get to the core of issues to bring the best and original news in Hindi to our readers. Amarujala.com - Saar se Vistaar tak!