Breaking News in Hindi Sunday, October 26, 2014
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > Hindi News > International News > More International News > Violence Against Capital Punishment In Egypt, 30 Dead

मिस्र: मौत की सज़ा के खिलाफ़ हिंसा, 30 मरे

मिस्र की अदालत ने पिछले साल फुटबॉल मैच के दौरान हुए दंगे के मामले में 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई है। इस दंगे में 74 लोगों की मौत हो गई थी। अदालत के इस फैसले के बाद फिर से वहां ताज़ा हिंसा शुरू हो गई है जिसमें 30 लोगों की मौत हो गई है।

पोर्ट सईद स्टेडियम में हुए एक टॉप लीग फुटबॉल मैच के बाद शुरू हुआ दंगा मिस्र के फुटबॉल के इतिहास की सबसे बड़ी त्रासदी साबित हुई।

अदालत का फैसला आने के साथ ही पोर्ट सईद में लोगों का गुस्सा भड़क गया। जिन लोगों को यह सज़ा सुनाई गई थी उनके समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प हुई।

मिस्र में होस्नी मुबारक को सत्ता से बेदखल किए जाने की दूसरी वर्षगांठ के मौके पर हुए विरोध प्रदर्शन के बाद, यह ताज़ा हिंसा भड़की है।

शुक्रवार को हज़ारों की तादाद में प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति मोहम्मद मोरसी का विरोध करते हुए अपनी आवाज़ बुलंद की थी। उनका कहना था कि मोरसी ने क्रांति के साथ धोखा किया है।

मामला
पिछले साल के दंगे की वजह से यह फुटबॉल लीग टल गई। पोर्ट सईद में खेल खत्म होने के बाद यह दंगा शुरू हो गया था। स्थानीय टीम अल-माज़री के प्रशंसक पिच पर उतर आए और उन्होंने काहिरा क्लब के अल-अहली के समर्थकों पर पत्थरबाज़ी और आतिशबाज़ी शुरू कर दी।

अल-अहली समर्थकों के एक वर्ग ने पूर्व राष्ट्रपति मुबारक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने में अहम भूमिका निभाई थी।

शनिवार को जिन 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई गई है वे अल-माज़री के फैन हैं। काहिरा की अदालत में न्यायाधीश के इस फैसले की घोषणा करते ही पीड़ितों के रिश्तेदारों में खुशी की लहर दौड़ गई।

अधिकारियों का कहना है कि इस ताज़ा हिंसा में मरे 26 लोगों में से दो पुलिसकर्मी हैं। हिंसा के मद्देनजर सेना की टुकड़ियां शहर की सड़कों पर तैनात कर दी गई है।

अपने फैसले की घोषणा करते हुए न्यायाधीश ने कहा कि 9 मार्च को बाकी अभियुक्तों के बारे में फैसला सुनाया जाएगा।

हिंसा जारी
शुक्रवार को राजधानी काहिरा के तहरीर चौक पर सरकार विरोधी एक रैली निकाली गई थी और विपक्ष के समर्थक पुलिस के साथ भिड़ गए थे। मिस्र के 27 प्रांत में से 12 में विरोध प्रदर्शन और हिंसक झड़पें हुईं। वहीं स्वेज शहर में फैली हिंसा में कम से कम छह लोगों की मौत हो गई।

उधर, इस्लामिया में प्रदर्शनकारियों ने मुस्लिम ब्रदरहुड पार्टी के मुख्यालय में आग लगा दी। काहिरा के तहरीर चौक पर मौजूद एक प्रदर्शनकारी का कहना था, “हमें न स्वतंत्रता मिली है और न सामाजिक न्याय। बेरोज़गारी और निवेश से जुड़ी समस्या का कोई हल नहीं निकल पाया है। पूरी अर्थव्यवस्था ही धराशायी हो गई है।”

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Rest Of World News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

ऑस्ट्रेलिया पर जीत के करीब पाकिस्तान

pakistan closer to victory over australia दो टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पाकिस्तान...

ISL: दिल्ली ने चेन्नई को 4-1 से धोया

delhi defeat chennai in isl. मेजबान दिल्ली डायनामोस एफसी ने इंडियन सुपर लीग फुटबॉल में चेन्नईयन एफसी टीम...

मुंबई: मोदी-उद्धव की नहीं हुई मुलाकात

modi uddhav didnt meet. पीएम मोदी और उद्धव ठाकरे की होने वाली मुलाकात को लेकर लगाई जा...

शाकिब के आगे लुढ़क गए जिम्बाब्वे के बल्‍लेबाज

First test, first day: Zimbabwe vs bangladesh. मेजबान बांग्लादेश ने जोरदार गेंदबाजी करते हुए पहले टेस्ट मैच के शुरुआती दिन...

ख़बरें राज्यों से

नि:शक्तों को सरकारी नौकरी में आरक्षण की तैयारी

rajasthan government new plan. राजस्थान में सरकारी नौकरियों में नि:शक्तों को अब 3 की जगह 5 प्रतिशत...

गहलोत-पायलट के खिलाफ अब सीबीआई जांच!

Ambulance scandal: Gehlot-pilot troubles will grow! एम्बुलेंस सेवा के गबन के मामले में अशोक गहलोत, सचिन पायलट की मुश्किलें...

राजस्थान: 10 हजार करोड़ के निवेश की तैयारी में मलेशिया

Malaysia plan 10 thousand million investment in rajasthan. मलेशिया ने राजस्थान के रोड सेक्टर में 10 हजार करोड़ रुपए निवेश करने...

राजे के पास 47 महकमें, पकड़ कमजोर: पायलट

pilot targets vasundhara raje. सचिन पायलट ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर निशाना साधा है और प्रदेश की...