Breaking News in Hindi Monday, December 22, 2014
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > Hindi News > International News > More International News > Violence Against Capital Punishment In Egypt, 30 Dead

मिस्र: मौत की सज़ा के खिलाफ़ हिंसा, 30 मरे

violence against capital punishment in egypt, 30 dead
मिस्र की अदालत ने पिछले साल फुटबॉल मैच के दौरान हुए दंगे के मामले में 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई है। इस दंगे में 74 लोगों की मौत हो गई थी। अदालत के इस फैसले के बाद फिर से वहां ताज़ा हिंसा शुरू हो गई है जिसमें 30 लोगों की मौत हो गई है।

पोर्ट सईद स्टेडियम में हुए एक टॉप लीग फुटबॉल मैच के बाद शुरू हुआ दंगा मिस्र के फुटबॉल के इतिहास की सबसे बड़ी त्रासदी साबित हुई।

अदालत का फैसला आने के साथ ही पोर्ट सईद में लोगों का गुस्सा भड़क गया। जिन लोगों को यह सज़ा सुनाई गई थी उनके समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प हुई।

मिस्र में होस्नी मुबारक को सत्ता से बेदखल किए जाने की दूसरी वर्षगांठ के मौके पर हुए विरोध प्रदर्शन के बाद, यह ताज़ा हिंसा भड़की है।

शुक्रवार को हज़ारों की तादाद में प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति मोहम्मद मोरसी का विरोध करते हुए अपनी आवाज़ बुलंद की थी। उनका कहना था कि मोरसी ने क्रांति के साथ धोखा किया है।

मामला
पिछले साल के दंगे की वजह से यह फुटबॉल लीग टल गई। पोर्ट सईद में खेल खत्म होने के बाद यह दंगा शुरू हो गया था। स्थानीय टीम अल-माज़री के प्रशंसक पिच पर उतर आए और उन्होंने काहिरा क्लब के अल-अहली के समर्थकों पर पत्थरबाज़ी और आतिशबाज़ी शुरू कर दी।

अल-अहली समर्थकों के एक वर्ग ने पूर्व राष्ट्रपति मुबारक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने में अहम भूमिका निभाई थी।

शनिवार को जिन 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई गई है वे अल-माज़री के फैन हैं। काहिरा की अदालत में न्यायाधीश के इस फैसले की घोषणा करते ही पीड़ितों के रिश्तेदारों में खुशी की लहर दौड़ गई।

अधिकारियों का कहना है कि इस ताज़ा हिंसा में मरे 26 लोगों में से दो पुलिसकर्मी हैं। हिंसा के मद्देनजर सेना की टुकड़ियां शहर की सड़कों पर तैनात कर दी गई है।

अपने फैसले की घोषणा करते हुए न्यायाधीश ने कहा कि 9 मार्च को बाकी अभियुक्तों के बारे में फैसला सुनाया जाएगा।

हिंसा जारी
शुक्रवार को राजधानी काहिरा के तहरीर चौक पर सरकार विरोधी एक रैली निकाली गई थी और विपक्ष के समर्थक पुलिस के साथ भिड़ गए थे। मिस्र के 27 प्रांत में से 12 में विरोध प्रदर्शन और हिंसक झड़पें हुईं। वहीं स्वेज शहर में फैली हिंसा में कम से कम छह लोगों की मौत हो गई।

उधर, इस्लामिया में प्रदर्शनकारियों ने मुस्लिम ब्रदरहुड पार्टी के मुख्यालय में आग लगा दी। काहिरा के तहरीर चौक पर मौजूद एक प्रदर्शनकारी का कहना था, “हमें न स्वतंत्रता मिली है और न सामाजिक न्याय। बेरोज़गारी और निवेश से जुड़ी समस्या का कोई हल नहीं निकल पाया है। पूरी अर्थव्यवस्था ही धराशायी हो गई है।”

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Rest Of World News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

सीबीआई करेगी संकल्प आनंद आत्महत्या प्रकरण की जांच

sankalp anand suicide. प्रख्यात गीतकार संतोष आनंद के इकलौते पुत्र संकल्प आनंद और उनकी पत्नी नरेश...

अंपायर के गलत फैसलों से मिली हार के बाद डीआरएस पर मचा घमासान

पूर्व क्रिकेटरों का कहना है कि यदि बीसीसीआई ने डीआरएस स्वीकार नहीं किया...

भागवत बोले, 'धर्मांतरण अच्छा ही नहीं जरूरी भी'

Bhagwat on conversion issue. धर्मांतरण पर भले ही भाजपा बैकफुट पर हो, लेकिन संघ इस मुद्दे पर...

विश्व कप के बाद संन्यास लेंगे आफरीदी

Afridi quit onday after world cup शाहिद आफरीदी ने आगामी विश्व कप के बाद वनडे क्रिकेट से संन्यास लेने...

ख़बरें राज्यों से

आगरा में व्यापारी नेता की हत्या

businessmen murdered at Agra आगरा में हुई एक सनसनीखेज वारदात में दिनदहाड़े एक व्यापारी नेता की हत्या...

माड़ी मुस्तफा में दो माह में 14 मौत से हड़कंप

moga, two, month, 14, death, reported बाघापुराना सब डिवीजन के अधीन आते गांव माड़ी मुस्तफा में दो माह में...

राजस्थान: रोडवेज बसों में लगेंगे सीसीटीवी कैमरे

Rajasthan Roadways buses will CCTV cameras. राजस्थान रोडवेज की बस में सफर करने वाले अब तीसरी नजर यानी सीसीटीवी...

नशा तस्करी में दस साल कैद व एक लाख जुर्माना

 Punjab, Drug trafficking, Ten years imprisonment, One lakh fine जिले की फास्ट ट्रैक अदालत ने नशा तस्करी में दोषी एक व्यक्ति को...