Breaking News in Hindi Thursday, April 24, 2014
ताज़ा ख़बर >

आपके शहर की ख़बरें

Home > Hindi News > International News > More International News

मिस्र: मौत की सज़ा के खिलाफ़ हिंसा, 30 मरे

मिस्र की अदालत ने पिछले साल फुटबॉल मैच के दौरान हुए दंगे के मामले में 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई है। इस दंगे में 74 लोगों की मौत हो गई थी। अदालत के इस फैसले के बाद फिर से वहां ताज़ा हिंसा शुरू हो गई है जिसमें 30 लोगों की मौत हो गई है।

पोर्ट सईद स्टेडियम में हुए एक टॉप लीग फुटबॉल मैच के बाद शुरू हुआ दंगा मिस्र के फुटबॉल के इतिहास की सबसे बड़ी त्रासदी साबित हुई।

अदालत का फैसला आने के साथ ही पोर्ट सईद में लोगों का गुस्सा भड़क गया। जिन लोगों को यह सज़ा सुनाई गई थी उनके समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प हुई।

मिस्र में होस्नी मुबारक को सत्ता से बेदखल किए जाने की दूसरी वर्षगांठ के मौके पर हुए विरोध प्रदर्शन के बाद, यह ताज़ा हिंसा भड़की है।

शुक्रवार को हज़ारों की तादाद में प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति मोहम्मद मोरसी का विरोध करते हुए अपनी आवाज़ बुलंद की थी। उनका कहना था कि मोरसी ने क्रांति के साथ धोखा किया है।

मामला
पिछले साल के दंगे की वजह से यह फुटबॉल लीग टल गई। पोर्ट सईद में खेल खत्म होने के बाद यह दंगा शुरू हो गया था। स्थानीय टीम अल-माज़री के प्रशंसक पिच पर उतर आए और उन्होंने काहिरा क्लब के अल-अहली के समर्थकों पर पत्थरबाज़ी और आतिशबाज़ी शुरू कर दी।

अल-अहली समर्थकों के एक वर्ग ने पूर्व राष्ट्रपति मुबारक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने में अहम भूमिका निभाई थी।

शनिवार को जिन 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई गई है वे अल-माज़री के फैन हैं। काहिरा की अदालत में न्यायाधीश के इस फैसले की घोषणा करते ही पीड़ितों के रिश्तेदारों में खुशी की लहर दौड़ गई।

अधिकारियों का कहना है कि इस ताज़ा हिंसा में मरे 26 लोगों में से दो पुलिसकर्मी हैं। हिंसा के मद्देनजर सेना की टुकड़ियां शहर की सड़कों पर तैनात कर दी गई है।

अपने फैसले की घोषणा करते हुए न्यायाधीश ने कहा कि 9 मार्च को बाकी अभियुक्तों के बारे में फैसला सुनाया जाएगा।

हिंसा जारी
शुक्रवार को राजधानी काहिरा के तहरीर चौक पर सरकार विरोधी एक रैली निकाली गई थी और विपक्ष के समर्थक पुलिस के साथ भिड़ गए थे। मिस्र के 27 प्रांत में से 12 में विरोध प्रदर्शन और हिंसक झड़पें हुईं। वहीं स्वेज शहर में फैली हिंसा में कम से कम छह लोगों की मौत हो गई।

उधर, इस्लामिया में प्रदर्शनकारियों ने मुस्लिम ब्रदरहुड पार्टी के मुख्यालय में आग लगा दी। काहिरा के तहरीर चौक पर मौजूद एक प्रदर्शनकारी का कहना था, “हमें न स्वतंत्रता मिली है और न सामाजिक न्याय। बेरोज़गारी और निवेश से जुड़ी समस्या का कोई हल नहीं निकल पाया है। पूरी अर्थव्यवस्था ही धराशायी हो गई है।”

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

LIVE: बनारस पहुंचे मोदी, मलदहिया चौक पर भारी भीड़

bjp pm candidate narendra modi nomination in banaras भाजपा ने पर्चा दाखिल करने के लिए आखिरी दिन इसलिए चुना, ताकि अजय...

दिल्‍ली के 'फकीर' केजरीवाल की संपत्ति हैरान कर देगी!

'fakir' arvind kejriwal is a crorepati रोड शो में केजरीवाल ने बार-बार को खुद फक्कड़ बताया। लेकिन जब...

आजम को आयोग का एक और नोटिस, सपाइयों ने घेरा एसपी आवास

election commission sent one more notice to azam khan चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री आजम खां को आचार संहिता...

छठे चरण का मुकाबला आज, 117 सीटों पर वोटिंग जारी

today voting for third phase at 117 seats लोकसभा चुनाव के छठे चरण में 12 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की...

ख़बरें राज्यों से

10 सीटों के लिए मतदान जारी, दांव पर दिग्गजों की किस्मत

Voting on in MP; Sushma Swaraj, Kantilal Bhuria in the fray आज जिन 10 सीटों पर वोटिंग हो रही है उनमें से छह कांग्रेस...

बिहार में वोटिंग जारी, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

Voting starts in Bihar for 7 Lok Sabha, 2 Assembly seats बिहार में आज सात सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं। राज्य की...

अब भी चल रहा है डॉन बबलू श्रीवास्तव का गिरोह!

don babloo shrivastava gang सूरत के अफरोज फत्ता से 150 करोड़ रुपये वसूलने के लिए रची गई...

फायरिंग केस में सीएम का 'बहनोई' पकड़ा

saurabh yadav arrested सीएम के रिश्तेदार और उसके गनर की फायरिंग में घायल हुए दो लोगों...