Breaking News in Hindi Thursday, October 02, 2014
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > Hindi News > International News > More International News > Violence Against Capital Punishment In Egypt, 30 Dead

मिस्र: मौत की सज़ा के खिलाफ़ हिंसा, 30 मरे

मिस्र की अदालत ने पिछले साल फुटबॉल मैच के दौरान हुए दंगे के मामले में 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई है। इस दंगे में 74 लोगों की मौत हो गई थी। अदालत के इस फैसले के बाद फिर से वहां ताज़ा हिंसा शुरू हो गई है जिसमें 30 लोगों की मौत हो गई है।

पोर्ट सईद स्टेडियम में हुए एक टॉप लीग फुटबॉल मैच के बाद शुरू हुआ दंगा मिस्र के फुटबॉल के इतिहास की सबसे बड़ी त्रासदी साबित हुई।

अदालत का फैसला आने के साथ ही पोर्ट सईद में लोगों का गुस्सा भड़क गया। जिन लोगों को यह सज़ा सुनाई गई थी उनके समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प हुई।

मिस्र में होस्नी मुबारक को सत्ता से बेदखल किए जाने की दूसरी वर्षगांठ के मौके पर हुए विरोध प्रदर्शन के बाद, यह ताज़ा हिंसा भड़की है।

शुक्रवार को हज़ारों की तादाद में प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति मोहम्मद मोरसी का विरोध करते हुए अपनी आवाज़ बुलंद की थी। उनका कहना था कि मोरसी ने क्रांति के साथ धोखा किया है।

मामला
पिछले साल के दंगे की वजह से यह फुटबॉल लीग टल गई। पोर्ट सईद में खेल खत्म होने के बाद यह दंगा शुरू हो गया था। स्थानीय टीम अल-माज़री के प्रशंसक पिच पर उतर आए और उन्होंने काहिरा क्लब के अल-अहली के समर्थकों पर पत्थरबाज़ी और आतिशबाज़ी शुरू कर दी।

अल-अहली समर्थकों के एक वर्ग ने पूर्व राष्ट्रपति मुबारक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने में अहम भूमिका निभाई थी।

शनिवार को जिन 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई गई है वे अल-माज़री के फैन हैं। काहिरा की अदालत में न्यायाधीश के इस फैसले की घोषणा करते ही पीड़ितों के रिश्तेदारों में खुशी की लहर दौड़ गई।

अधिकारियों का कहना है कि इस ताज़ा हिंसा में मरे 26 लोगों में से दो पुलिसकर्मी हैं। हिंसा के मद्देनजर सेना की टुकड़ियां शहर की सड़कों पर तैनात कर दी गई है।

अपने फैसले की घोषणा करते हुए न्यायाधीश ने कहा कि 9 मार्च को बाकी अभियुक्तों के बारे में फैसला सुनाया जाएगा।

हिंसा जारी
शुक्रवार को राजधानी काहिरा के तहरीर चौक पर सरकार विरोधी एक रैली निकाली गई थी और विपक्ष के समर्थक पुलिस के साथ भिड़ गए थे। मिस्र के 27 प्रांत में से 12 में विरोध प्रदर्शन और हिंसक झड़पें हुईं। वहीं स्वेज शहर में फैली हिंसा में कम से कम छह लोगों की मौत हो गई।

उधर, इस्लामिया में प्रदर्शनकारियों ने मुस्लिम ब्रदरहुड पार्टी के मुख्यालय में आग लगा दी। काहिरा के तहरीर चौक पर मौजूद एक प्रदर्शनकारी का कहना था, “हमें न स्वतंत्रता मिली है और न सामाजिक न्याय। बेरोज़गारी और निवेश से जुड़ी समस्या का कोई हल नहीं निकल पाया है। पूरी अर्थव्यवस्था ही धराशायी हो गई है।”

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Rest Of World News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

राजनाथ होते अध्यक्ष तो नहीं टूटता गठबंधन: उद्धव

uddhav statement on bjp shivsena alliance. शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्होंने पूर्व अध्यक्ष राजनाथ सिंह...

स्वच्छ भारत अभियान का आगाज, मोदी लगाएंगे झाड़ू

modi will start swach bharat abhiyan today. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बृहस्पतिवार को अपने महत्वाकांक्षी स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत करेंगे।...

अब गधे भी करेंगे कैटवॉक, मजाक नहीं सच है ये!

donkey catwalk in rajasthan fair. अब गधे भी कैटवॉक करेंगे। यह कोई मजाक नहीं, बल्कि राजस्थान में शुरू...

गांधी-शास्त्री जयंती: उनके जीवन के कुछ अनछुए पहलू

some less known life facts of mahatma gandhi and l b shashtri. महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री के बारे में तमाम किस्से हैं लेकिन...

ख़बरें राज्यों से

अब सुधरेगी अजमेर की दशा

now condition of ajmer will be improve now. अंतरराष्ट्रीय पटल पर ख्याति प्राप्त अजमेर की दशा स्मार्ट सिटी बनने से सुधर...

मांझी ने दिए शुद्धीकरण की जांच के आदेश

bihar CM Ram Manjhi orders probe into purification of temple after visit. बिहार के मुख्यमंत्री ने मंदिर में पूजा अर्चना के बाद शुद्धीकरण की जांच...

माया के खास ने हिंदू धर्म पर किया तीखा प्रहार

bsp leader gave controversial statement at hindu gods बसपा सुप्रीमो मायावती के खासमखास नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने हिंदू धर्म और...

बच्ची की 'ज‌िंदा समाधि', लगा मजमा

buried girl alive in rajasthan. एक बच्ची के 'ज‌िंदा समाधि लेने' और 'देवी का रूप' होने की अफवाह...