Breaking News in Hindi Wednesday, March 04, 2015
ताज़ा ख़बर >
Lite Version

Home > Hindi News > International News > More International News > Violence Against Capital Punishment In Egypt, 30 Dead

मिस्र: मौत की सज़ा के खिलाफ़ हिंसा, 30 मरे

violence against capital punishment in egypt, 30 dead
मिस्र की अदालत ने पिछले साल फुटबॉल मैच के दौरान हुए दंगे के मामले में 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई है। इस दंगे में 74 लोगों की मौत हो गई थी। अदालत के इस फैसले के बाद फिर से वहां ताज़ा हिंसा शुरू हो गई है जिसमें 30 लोगों की मौत हो गई है।

पोर्ट सईद स्टेडियम में हुए एक टॉप लीग फुटबॉल मैच के बाद शुरू हुआ दंगा मिस्र के फुटबॉल के इतिहास की सबसे बड़ी त्रासदी साबित हुई।

अदालत का फैसला आने के साथ ही पोर्ट सईद में लोगों का गुस्सा भड़क गया। जिन लोगों को यह सज़ा सुनाई गई थी उनके समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प हुई।

मिस्र में होस्नी मुबारक को सत्ता से बेदखल किए जाने की दूसरी वर्षगांठ के मौके पर हुए विरोध प्रदर्शन के बाद, यह ताज़ा हिंसा भड़की है।

शुक्रवार को हज़ारों की तादाद में प्रदर्शनकारियों ने राष्ट्रपति मोहम्मद मोरसी का विरोध करते हुए अपनी आवाज़ बुलंद की थी। उनका कहना था कि मोरसी ने क्रांति के साथ धोखा किया है।

मामला
पिछले साल के दंगे की वजह से यह फुटबॉल लीग टल गई। पोर्ट सईद में खेल खत्म होने के बाद यह दंगा शुरू हो गया था। स्थानीय टीम अल-माज़री के प्रशंसक पिच पर उतर आए और उन्होंने काहिरा क्लब के अल-अहली के समर्थकों पर पत्थरबाज़ी और आतिशबाज़ी शुरू कर दी।

अल-अहली समर्थकों के एक वर्ग ने पूर्व राष्ट्रपति मुबारक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने में अहम भूमिका निभाई थी।

शनिवार को जिन 21 लोगों को मौत की सज़ा सुनाई गई है वे अल-माज़री के फैन हैं। काहिरा की अदालत में न्यायाधीश के इस फैसले की घोषणा करते ही पीड़ितों के रिश्तेदारों में खुशी की लहर दौड़ गई।

अधिकारियों का कहना है कि इस ताज़ा हिंसा में मरे 26 लोगों में से दो पुलिसकर्मी हैं। हिंसा के मद्देनजर सेना की टुकड़ियां शहर की सड़कों पर तैनात कर दी गई है।

अपने फैसले की घोषणा करते हुए न्यायाधीश ने कहा कि 9 मार्च को बाकी अभियुक्तों के बारे में फैसला सुनाया जाएगा।

हिंसा जारी
शुक्रवार को राजधानी काहिरा के तहरीर चौक पर सरकार विरोधी एक रैली निकाली गई थी और विपक्ष के समर्थक पुलिस के साथ भिड़ गए थे। मिस्र के 27 प्रांत में से 12 में विरोध प्रदर्शन और हिंसक झड़पें हुईं। वहीं स्वेज शहर में फैली हिंसा में कम से कम छह लोगों की मौत हो गई।

उधर, इस्लामिया में प्रदर्शनकारियों ने मुस्लिम ब्रदरहुड पार्टी के मुख्यालय में आग लगा दी। काहिरा के तहरीर चौक पर मौजूद एक प्रदर्शनकारी का कहना था, “हमें न स्वतंत्रता मिली है और न सामाजिक न्याय। बेरोज़गारी और निवेश से जुड़ी समस्या का कोई हल नहीं निकल पाया है। पूरी अर्थव्यवस्था ही धराशायी हो गई है।”

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Rest Of World News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

एक SMS से दूर होगी रेलवे टॉयलेट की गंदगी, नंबर जारी

swachh bharat: Passengers can now send SMS to get coach, toilet cleaned. गंदगी की समस्या से परेशान रेल यात्रियों के लिए बड़ी राहत की खबर...

इस्लामिक स्टेट की क्रूरता देख कांप जाएगा कलेजा, तस्वीरें

isis multilated a man after finding him guilty of theft सीरिया में इस्लामिक स्टेट के आतंकियों ने एक बार फिर खौफनाक वारदात को...

चौथी नहीं लगातार 13वीं जीत की तलाश में टीम इंडिया

Can team india will win 13th victory in ICC ODI tournament टीम इंडिया पिछले बड़े 12 वनडे मुकाबलों में नहीं हारी है, लगातार 13वीं...

आदर्श घोटाले के आरोपी बने रहेंगे चव्हाण, हाईकोर्ट से राहत नहीं

Name of Ashok Chavan will not be delete from Adarsh scam बंबई हाईकोर्ट के ने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण की याचिका को...

ख़बरें राज्यों से

छत्तीसगढ़ः राज्य के पंद्रह सौ स्कूलों पर सरकार का बढ़ा फैसला

chhattisgarh cabinet decision छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य के प्राइमरी और जूनियर हाईस्कूलों के लिए लिया फैसला।...

सदन में हंगामा करने पर 8 कांग्रेसी विधायक निलंबित

9 congress MLA suspended due to disturbence in assembly पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर सदन में हंगामा करनेवाले कांग्रेस...

झारखंडः 32 हजार गांवों में अनपढ़ महिलाओं की जल क्रांति

Revolution of uneducated women for drinking water जल और जीवन को बचाने के लिए झारखंड की महिलाओं की ये अनोखी...

सरकारी कर्मचारियों के संघ शाखाओं में जाने पर बवाल

congress and bsp risining question on nda govt in rajyasabha छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से राज्य कर्मचारियों और प्रशासनिक अधिकारियों को आरएसएस शाखा...