Breaking News in Hindi Wednesday, January 28, 2015

Home > Hindi News > International News > Europe > Child Porn

पॉर्न की लोकप्रियता और मां-बाप का सिरदर्द

child porn
ब्रितानी अख़बार 'द इंडीपेंडेंट' ने एक लेख छापा है जिसमें एक मां ने बताया है कि कैसे उसके 11 साल के बेटे ने एक पॉर्न फ़िल्म देखी और उस पर इसका क्या मनोवैज्ञानिक प्रभाव हुआ।

बच्चे ने एक पॉर्न वीडियो देखा था जिसमें एक युवती को इस तरह की यौन क्रीड़ा के लिए विवश किया जाता है जो बहुत ही बर्बर और घिनौना थी।

अख़बार में छपे लेख में कहा गया है कि हालांकि बच्चे ने यह वीडियो दोस्तों के कहने पर देखी थी लेकिन इसे देखने के बाद वो खिंचा-खिंचा रहने लगा, उसके स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ गया और वो छोटी छोटी बातों पर नाराज़ हो जाता था।

लेख में उस सर्वे का हवाला दिया गया है जो एक शिक्षक संघ ने हाल में ही प्रकाशित किया था।

'बच्चों को सचेत करें'
pornसर्वे में कहा गया है कि ब्रिटेन के आठ से 16 साल के बच्चों में से तक़रीबन 90 फ़ीसदी ने कभी न कभी पॉर्न फ़िल्म ज़रूर देखी होती है और इसलिए ज़रूरी है कि उनसे इस बारे में साफ़-साफ़ बातचीत कर इससे होने वाले नुक़सान के आगाह किया जाए।

पॉर्न अब इतना आम हो चुका है कि एक सर्वेक्षण के मुताबिक़ अधिकांश बच्चे 11 साल की उम्र तक इससे किसी न किसी सूरत में परिचित हो चुके होते हैं।

इंटरनेट पर होने वाले सर्च में से 25 फ़ीसद पॉर्न से संबंधित होते हैं और हर सेकंड कम से कम 30,000 लोग इस तरह की साइट देख रहे होते हैं।

बीबीसी में पहले छपे एक लेख के अनुसार किशोरों के पॉर्न वेबसाइट देखने का एक बड़ा नुक़सान उनके भीतर सेक्स को लेकर पैदा हो रही भ्रांतियों के रूप में सामने आ रहा है जो माता-पिता और अभिवावक के लिए सिरदर्द बनती जा रही है।

आज जबकि हर बच्चे के पास निजी कंप्यूटर, इंटरनेट कनेक्शन और स्मार्टफोन मौजूद है तो माता-पिता को ये भी नहीं समझ में आ रहा कि इस पर रोक कैसे लगाएं।

पाठ्यक्रम में पॉर्न
साल 2011 में यूरोप में किए गए एक सर्वेक्षण के मुताबिक नौ से 16 साल की उम्र के एक तिहाई बच्चों ने पॉर्न तस्वीरें देख रखीं थी लेकिन उनमें से सिर्फ 11 प्रतिशत ऐसे थे जिन्होंने ये तस्वीरें वेबसाइट पर देखी थीं।

जबकि 'यू गॉव' द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार 16-18 साल के बच्चों में से भी एक तिहाई ने पॉर्न तस्वीरें मोबाइल फोन पर देखीं थी।

ब्रिटेन का 'नेशनल एसोसिएशन ऑफ हेड टीचर्स' देश के पाठ्यक्रम में पॉर्नोग्राफी के असर को शामिल करना चाहता है, ताकि बच्चों को 10 साल की उम्र से ही सेक्स के बारे में सकारात्मक जानकारी दी जा सके।

इसमें उन्हें असुरक्षित और विकृत सेक्स की पहचान करने और उससे बचने के बारे में बताया जाएगा। ऊची क्लास के बच्चों के लिए पाठ्यक्रम को और विस्तृत करने का भी सुझाव है।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Europe News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

नरसंहार से सिहरा मेरठ, बर्बर कत्लेआम के पीछे प्रॉपर्टी या प्रेम?

six brutally killed in meerut. मेरठ के उस कमरे में दीवारों पर खून के छींटे, कपड़ों से टपकता...

केन्द्रीय सुरक्षा बलों में 62000 सिपाहियों की भर्ती

recruitment in armed forces. कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने केन्द्रीय सुरक्षा बलों में 62390 पदों पर भर्ती...

आती ट्रेन के सामने फोटो खिंचवाने के चक्कर कटे तीन दोस्त

three friends killed on rail track. आगरा-दिल्ली रेल लाइन पर तीन दोस्त बैक ग्राउंड में पीछे से आती ट्रेन...

अंसारी ने दी राष्ट्रगान के दौरान सैल्यूट न करने पर सफाई

Hamid Ansari justifying during the salute राष्ट्रगान के दौरान सैल्यूट नहीं करने पर हंगामा मचने के बाद उपराष्ट्रपति अंसारी...

ख़बरें राज्यों से

यहां रेल पुलिस करेगी आपकी हेल्प

jharkhand railway helpline रेल यात्रा के दौरान झारखण्ड रेल पुलिस आपके लिए चौबीसों घंटे मुश्तैद रहेगी।...

न्यूयार्क में होगा 'फ्रैंड्स ऑफ एमपी' कॉनक्लेव

friedns of mp conkcleave एक फरवरी को न्यूयार्क में 'फ्रैंड्स ऑफ एमपी' का आयोजन किया जाएगा।...

49 घंटे 39 मिनट की स्पीच और बन गया रिकार्ड

Doctor make 49 hour continue speech world record छत्तीसगढ़ के कोरबा में एक डॉक्टर ने लगातार 49 घंटे और 39 मिनट...

कभी नहीं तोडेंगे नीतीश का भरोसाः मांझी

cm manjhi said never let down trust Nitish नीतीश कुमार से मतभेद पर बिहार के सीएम जीतन राम मांझी ने साफ...