Breaking News in Hindi Saturday, November 01, 2014

Home > Hindi News > International News > Europe > Child Porn

पॉर्न की लोकप्रियता और मां-बाप का सिरदर्द

ब्रितानी अख़बार 'द इंडीपेंडेंट' ने एक लेख छापा है जिसमें एक मां ने बताया है कि कैसे उसके 11 साल के बेटे ने एक पॉर्न फ़िल्म देखी और उस पर इसका क्या मनोवैज्ञानिक प्रभाव हुआ।

बच्चे ने एक पॉर्न वीडियो देखा था जिसमें एक युवती को इस तरह की यौन क्रीड़ा के लिए विवश किया जाता है जो बहुत ही बर्बर और घिनौना थी।

अख़बार में छपे लेख में कहा गया है कि हालांकि बच्चे ने यह वीडियो दोस्तों के कहने पर देखी थी लेकिन इसे देखने के बाद वो खिंचा-खिंचा रहने लगा, उसके स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ गया और वो छोटी छोटी बातों पर नाराज़ हो जाता था।

लेख में उस सर्वे का हवाला दिया गया है जो एक शिक्षक संघ ने हाल में ही प्रकाशित किया था।

'बच्चों को सचेत करें'
pornसर्वे में कहा गया है कि ब्रिटेन के आठ से 16 साल के बच्चों में से तक़रीबन 90 फ़ीसदी ने कभी न कभी पॉर्न फ़िल्म ज़रूर देखी होती है और इसलिए ज़रूरी है कि उनसे इस बारे में साफ़-साफ़ बातचीत कर इससे होने वाले नुक़सान के आगाह किया जाए।

पॉर्न अब इतना आम हो चुका है कि एक सर्वेक्षण के मुताबिक़ अधिकांश बच्चे 11 साल की उम्र तक इससे किसी न किसी सूरत में परिचित हो चुके होते हैं।

इंटरनेट पर होने वाले सर्च में से 25 फ़ीसद पॉर्न से संबंधित होते हैं और हर सेकंड कम से कम 30,000 लोग इस तरह की साइट देख रहे होते हैं।

बीबीसी में पहले छपे एक लेख के अनुसार किशोरों के पॉर्न वेबसाइट देखने का एक बड़ा नुक़सान उनके भीतर सेक्स को लेकर पैदा हो रही भ्रांतियों के रूप में सामने आ रहा है जो माता-पिता और अभिवावक के लिए सिरदर्द बनती जा रही है।

आज जबकि हर बच्चे के पास निजी कंप्यूटर, इंटरनेट कनेक्शन और स्मार्टफोन मौजूद है तो माता-पिता को ये भी नहीं समझ में आ रहा कि इस पर रोक कैसे लगाएं।

पाठ्यक्रम में पॉर्न
साल 2011 में यूरोप में किए गए एक सर्वेक्षण के मुताबिक नौ से 16 साल की उम्र के एक तिहाई बच्चों ने पॉर्न तस्वीरें देख रखीं थी लेकिन उनमें से सिर्फ 11 प्रतिशत ऐसे थे जिन्होंने ये तस्वीरें वेबसाइट पर देखी थीं।

जबकि 'यू गॉव' द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार 16-18 साल के बच्चों में से भी एक तिहाई ने पॉर्न तस्वीरें मोबाइल फोन पर देखीं थी।

ब्रिटेन का 'नेशनल एसोसिएशन ऑफ हेड टीचर्स' देश के पाठ्यक्रम में पॉर्नोग्राफी के असर को शामिल करना चाहता है, ताकि बच्चों को 10 साल की उम्र से ही सेक्स के बारे में सकारात्मक जानकारी दी जा सके।

इसमें उन्हें असुरक्षित और विकृत सेक्स की पहचान करने और उससे बचने के बारे में बताया जाएगा। ऊची क्लास के बच्चों के लिए पाठ्यक्रम को और विस्तृत करने का भी सुझाव है।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Europe News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.

Share on Social Media

प्रमुख ख़बरें

गंगा सफाई पर मोदी से ज्यादा जुनूनी है ये शख्स

clean ganga mission of dharam raj dube in kanpur कानपुर में एक शख्स 34 साल से अकेले गंगा की सफाई में जुटा...

'जिहाद के लिए 15,000 लोग सीरिया-इराक गए'

15000 people reached in iraq for jihad says un संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस्लामिक स्टेट में शामिल...

अंतरिक्ष यान में परीक्षण उड़ान के दौरान धमाका

virgin galactic space crashed in test on blast कैलीफोर्निया में वर्जिन गेलेक्टिक के एक अंतरिक्ष यान में परीक्षण उड़ान के दौरान...

दो दिन तक गैंगरेप के बाद किशोरी को मेरठ रोड पर फेंका

gang rape in muzaffarnagar. मुजफ्फरनगर में सुजड़ू चौकी क्षेत्र में पिता से बिछड़ी किशोरी को चार युवकों...

ख़बरें राज्यों से

मनरेगा से जुड़ सकेगा गौशालाओं का विकास

cow dairy to development of MGNREGS. राजस्थान सरकार की ओर से केन्द्र को हाल ही में गौशालाओं का विकास...

राजस्थान में सुस्त रहेगा नीलोफर

Neelofar remain sluggish in Rajasthan. अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान नीलोफर के सुस्त होने से राजस्थान में...

बीजेपी विधायक के निशाने पर वसुंधरा!

BJP legislator targets cm Raje. वसुंधरा मंत्रिमण्डल में जगह नहीं पाने के कारण भाजपा विधायक और वरिष्ठ नेता...

भंवरी मामला: आरोपी पूर्व मंत्री मदेरणा को सशर्त जमानत

Bhanwari case: Accused minister Maderna conditional bail. राजस्थान के चर्चित भंवरी देवी केस में आरोपी पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा को...