Breaking News in Hindi Thursday, July 30, 2015

Home > Lifestyle > Health & Fitness > Health > Obesity Or Heart Attack Yawning Indicates Many Health Problems

मोटापे से लेकर हार्ट अटैक तकः ज्यादा जम्हाई की कई हैं वजहें

obesity or heart attack yawning indicates many health problems
दफ्तर की मीट‌िंग हो या फिर क्लास में बोरिंग लेक्चर, कई बार आपको जम्हाई लेते हुए किसी न किसी ने टोका ही होगा। अमूमन जम्हाई शरीर की एक स्वाभाविक प्रक्रिया है लेकिन यह जब बहुत अधिक हो तो यह सेहत से जुड़ी कई समस्याओं का इशारा हो सकती है।

कई शोधों के आधार पर जान‌िए, बहुत अधिक जम्हाई सेहत से जुड़ीं किन समस्याओं की ओर इशारा करती है।

इन 5 अजीबोगरीब वजहों से पड़ सकता है दिल का दौरा

अनिद्रा
नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ के शोध के अनुसार, उबासी जब सामान्य से अधिक आए तो इसकी वजह नींद से जुड़ी समस्या हो सकती है। दिन में कई बार जम्हाई आने के अलावा अगर आपको बहुत अधिक उलझन, खींझ, ध्यान न लगना, कमजोरी आदि दिक्कतें हों तो इस समस्या की आशंका अधिक हो सकती है।

मोटापा
आपका वजन अगर निरंतर बढ़ता जा रहा है यानी आप मोटापे का शिकार हो चुके हैं तो दिन में कई बार उबासी आना आपके बढ़ते मोटापे का लक्षण हो सकता है। इस स्थिति में उबासी के साथ-साथ दिन में नींद आना, बीपी बढ़ जाना, दर्द और आलस्य जैसी समस्याएं अधिक होती हैं।

दिल का दौरा

जरूरी नहीं कि हर बार दिल का दौरा अचानक ही पड़े। कई बार इसकी तीव्रता का एहसास तुरंत नहीं हो पाता है। ऐसी स्थिति में भी बहुत अधिक उबासी आती है। इस स्थिति में उबासी के अलावा, दिल की धड़कनों का बढ़ जाना, हाई या लो बीपी और दर्द जैसे लक्षण हो सकते हैं।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया
इस समस्या के दौरान सोते वक्त सांस लेने में तकलीफ होती है। इसके प्रमुख लक्षणों में बहुत अधिक उबासी, हाई बीपी, श्वास संबंधी दिक्कतें आदि हैं। इस स्थिति को गंभीरता से न लें तो यह जानलेवा भी हो सकती है।

धम‌नियों में ब्लॉकेज

दिल से रक्त बाहर न‌िकालने वाली सबसे बड़ी धमनी - एओर्टा में ब्लॉकेज की वजह से भी बहुत अधिक उबासी का लक्षण दिख सकता है। इस दौरान पेट और कमर में दर्द, चलने में दिक्कत और सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण भी हो सकते हैं।

ज़बर खबर : पढ़ना न भूलें

फांसी से पहले क्या था याकूब का आखिरी बयान?

नाम ना छापने की शर्त पर सुरक्षा गार्ड ने बताया कि शांत रहने वाला याकूब अपनी फांसी के एक दिन पहले काफी घबराया हुआ था।

एंड्रॉएड ऐप पर अमर उजाला पढ़ने के लिए क्लिक करें. अपने फ़ेसबुक पर अमर उजाला की ख़बरें पढ़ना हो तो यहाँ क्लिक करें.

Health News in Hindi by Amarujala Digital team. Visit our homepage for more News in Hindi.


Share on Social Media

टॉप स्टोरी