आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

इस तरह खत्म नहीं होती दुनिया

Vikrant Chaturvedi

Vikrant Chaturvedi

Updated Fri, 21 Dec 2012 10:11 PM IST
world does not end this way
तो इस बार भी दुनिया खत्म होने से बच गई! दक्षिणी फ्रांस स्थित बुगाराच की पहाड़ी पर आनन-फानन में शरण लेने वाले अमीर पर्यटक ही नहीं, एशिया महाद्वीप के इस इलाके में हम लोग भी सुरक्षित हैं, और 21 दिसंबर की तारीख निकल जाने के कारण निश्चिंत भी। यह नहीं कह सकते कि सृष्टि के अंत की भविष्यवाणी करने वाले कापालिकों को अफसोस हो रहा होगा, क्योंकि पृथ्वी के बचे होने से वे भी बच गए हैं!
हां, इस तरह की अफवाहों का भयादोहन करने वाला वर्ग जरूर कुछ मुनाफा कमा ले गया है। पृथ्वी के खत्म हो जाने की भविष्यवाणियां नई नहीं हैं। कभी कोई अष्टग्रही, कभी कोई नास्त्रेदमस, कभी कोई स्काई लैब, तो कभी कोई माया कैलेंडर हमारे खत्म हो जाने का दावा करता है, लेकिन हर बार वह विज्ञान के सामने हार मानने को विवश होता है। हम भूल जाते हैं कि पृथ्वी माया कैलेंडर के भरोसे नहीं, अपनी घू्र्णन गति के कारण चलती है।

हम अक्सर यह भी भूल जाते हैं कि अंतरिक्ष में तैनात जो उपग्रह भूकंप, परमाणु परीक्षण और दूसरे अनिष्टों की सूचना दे सकते हैं, वे उल्कापिंड के पृथ्वी से टकराने के खतरे के बारे में भी बता सकते हैं। आखिर इससे पहले एकाधिक बार पृथ्वी को नुकसान पहुंचाने वाली घटनाओं को वैज्ञानिकों ने बेअसर किया ही है। जिस दौर में जीवों के क्लोन बन चुके हैं, गुणसूत्रों के नक्शे के बारे में पता कर लिया गया है और गॉड पार्टिकल की खोज कर ली गई है, उस समय धूमकेतु की टक्कर, महाज्वालामुखी के विस्फोट या ब्लैकहोल के प्रकट होने से ब्रह्मांड के खत्म हो जाने की कल्पना कर लेना विज्ञान को नकारना ही है।

सृष्टि का खत्म होना बेशक कपोल कल्पना नहीं है; करीब साढ़े सोलह करोड़ साल पहले ऐसे एक ध्वंस में डायनासोर खत्म हुए ही थे। पर विज्ञान ऐसी आशंका को खारिज करता है। इसके उलट पर्यावरणीय विनाश से पृथ्वी के खत्म हो जाने की जो आशंका बनी है, उस पर ध्यान देना ज्यादा जरूरी है। बेहिसाब उपभोग के कारण वनस्पतियों और जीवों की असंख्य प्रजातियां लुप्त हो चुकी हैं, ओजोन परत का छेद बड़ा होता जा रहा है, ग्लोबल वार्मिंग भयावह रूप लेती जा रही है, और कई बीमारियां महामारी का रूप ले रही हैं। अगर पर्यावरण को नहीं बचाया गया, तो दुनिया को खत्म होने से तो नहीं ही रोका जा सकेगा, तब पहाड़ी की किसी चोटी पर या पाताल में निर्मित आधुनिकतम कक्ष में शरण लेकर भी हम बच नहीं पाएंगे।

  • कैसा लगा
Comments

स्पॉटलाइट

पत्नी को छोड़ इस राजकुमारी के साथ 'लिव इन' में रहते थे फिरोज खान, फिर सामने आया था ‌इतना बड़ा सच

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

नवरात्रि 2017ः इस पंडाल में मां दुर्गा ने पहनी 20 किलो सोने की साड़ी, जानें खासियत

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

सालों डिप्रेशन में रही बॉलीवुड की ये मशहूर एक्ट्रेस, मां से खा चुकी हैं थप्पड़

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

डांडिया की मस्ती में चाहते हैं डूबना तो ये जगह आपके लिए है...

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

उस रात जैकी श्रॉफ की हरकत से ऐसा डरीं तबु, जिंदगीभर साथ काम ना करने की खाई कसम

  • सोमवार, 25 सितंबर 2017
  • +

Most Read

मांगी भीख

Anganwadi workers will seek out rally
  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

छात्रा घायल

Car collision with schoolgirl injured schoolgirl
  • शनिवार, 23 सितंबर 2017
  • +

दंपति और नातिन की सड़क हादसे में मौत

Couple returning home in Hardoi, and in Natin road accident
  • बुधवार, 30 अगस्त 2017
  • +

एसी कोच से निकला धुआं

Smoke from the AC coach of Ganga Satluj
  • बुधवार, 30 अगस्त 2017
  • +

तालाबंद कर प्रदर्शन

Lockout on DSN gate
  • मंगलवार, 12 सितंबर 2017
  • +

हाईवे जाम

After the death of the children, the villagers did the highway jam
  • गुरुवार, 14 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!