आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

US में सदी का सबसे भीषण सूखा

लंदन/एजेंसी

Updated Wed, 18 Jul 2012 12:00 PM IST
us-suffering-worst-drought-in-56-years
अमेरिका सदी के सबसे भीषण सूखे की चपेट में हैं। सूखे का असर फसलों पर पड़ा है। कई जगहों पर दावानल के प्रकोप से जंग तबाह हो गए हैं। अमेरिकी मौसम विज्ञान नेशनल ओसियानिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (एनओएए) के अनुसार वर्ष 1956 के बाद से यह सबसे बड़ा सूखा है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार एनओएए ने सोमवार को कहा कि जून के अंत तक अमेरिकी महाद्वीप का 55 फीसदी हिस्सा औसत से गंभीर सूखे की चपेट में था।
अनाज का बड़ा निर्यातक है यूएस
इस सूखे की वजह से मक्के और सोयाबीन की फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है। कई राज्यों में स्थित जंगलों में आग लगी हुई है। रिपोर्ट के अनुसार पिछले दिनों खबर थी कि नौ राज्यों में 19 स्थानों पर भीषण आग लगी हुई है। अमेरिका गेहूं, सोयाबीन और मक्के का सबसे बड़ा निर्यातक देश है, इस लिए इस सूखे से दुनिया भर में अनाज उपलब्धता पर असर पड़ सकता है। इस संबंध में पहले ही चिंता जाहिर की जा चुकी है।

पूरे देश में जून में पड़ी भीषण गर्मी ने सूखे के प्रभाव को और बढ़ा दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका का 80 फीसदी हिस्सा असामान्य रूप से सूखा है। एनओएए ने कहा है कि रिकॉर्ड के अनुसार पिछला जून 14वां सबसे गर्म और 10वां सबसे सूखा जून रहा।

कहीं हो न जाए खाद्यान्न संकट
मध्य-पश्चिम अमेरिका के इलिनोइस राज्य के किसान कहते हैं कि उन्होंने इससे पहले इतनी सूखी धरती कभी नहीं देखी। एक किसान ने बताया, ‘काफी फसल पहले ही बर्बाद हो चुकी है। अब अगर बारिश हो भी जाए तो मुझे नहीं लगता कि फसल बचाई जा सकती है क्योंकि अब बहुत देर हो चुकी है।’

एक और किसान ने कहा, ‘मैं मानता हूं कि वर्ष 1988 के बाद से ये अब तक का सबसे भीषण सूखा है। बल्कि मुझे लगता है कि ये 1988 से भी बुरा समय है क्योंकि उस साल कम से कम शुरू में इतनी बुरी स्थिति नहीं थी।’
तापमान बढ़ने के साथ ही फसलों के दाम भी बढ़ रहे हैं। पिछले एक महीने में मक्के के दाम 45 फीसदी, गेंहू के 36 फीसदी और सोयाबीन के दाम 17 फीसदी बढ़ गए हैं।

पांच साल पहले कहा गया था कि खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों की वजह से दुनिया में साढ़े सात करोड़ भूखे लोग बढ़े थे और 30 से ज्यादा देशों में दंगे हुए थे। खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों को ही दो साल पहले अरब क्रांति का एक कारण बताया गया था। हालांकि कुछ विश्लेषक कहते हैं कि खाद्य संकट होने की संभावना नहीं है।
  • कैसा लगा
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

यहां हुआ अनोखे बच्चे का जन्म, गांव वालों का डर 'कहीं ये एलियन तो नहीं'

  • शुक्रवार, 22 सितंबर 2017
  • +

कोहली और KRK पीते हैं ऐसा खास पानी, एक बॉटल की कीमत 65 लाख रुपये

  • शुक्रवार, 22 सितंबर 2017
  • +

कहीं गलत तरह से शैम्पू करने से तो नहीं झड़ रहे आपके बाल, ये है सही तरीका

  • शुक्रवार, 22 सितंबर 2017
  • +

मसाज करवाकर हल्का महसूस कर रहा था शख्स, घर पहुंचते हो गया पैरालिसिस

  • शुक्रवार, 22 सितंबर 2017
  • +

यहां खुद कार चलाकर ऑपरेशन थियेटर में जाते हैं बच्चे

  • शुक्रवार, 22 सितंबर 2017
  • +

Most Read

दो की मौत

Two deaths from infectious disease in mahoba
  • रविवार, 17 सितंबर 2017
  • +

लोक अदालत

1630 settlement of promises in Lok Adalat
  • रविवार, 17 सितंबर 2017
  • +

विश्वकर्मा की जयंती

Lord Vishwakarma's birth anniversary celebrated
  • रविवार, 17 सितंबर 2017
  • +

दंपति और नातिन की सड़क हादसे में मौत

Couple returning home in Hardoi, and in Natin road accident
  • बुधवार, 30 अगस्त 2017
  • +

एसी कोच से निकला धुआं

Smoke from the AC coach of Ganga Satluj
  • बुधवार, 30 अगस्त 2017
  • +

तालाबंद कर प्रदर्शन

Lockout on DSN gate
  • मंगलवार, 12 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!