आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

तालिबान ने रोका पोलियो टीकाकरण अभियान

इस्लामाबाद/एजेंसी

Updated Wed, 27 Jun 2012 12:00 PM IST
Taliban-stop-polio-vaccination-campaign
पाकिस्तान में पोलियो के खिलाफ चलाए जा हरे प्रयासों को तगड़ा झटका लगा है। तालिबान ने अशांत दक्षिणी वजीरिस्तान क्षेत्र में अमेरिका के ड्रोन हमले जारी रहने तक पोलियो टीकाकरण अभियान पर पाबंदी लगा दी है। आतंकी संगठन के इस फरमान से क्षेत्र में 80 हजार बच्चे प्रभावित होंगे।
तालिबान के मुल्ला नजीर गुट द्वारा सोमवार को दक्षिणी वजीरिस्तान एजेंसी के मुख्य कस्बे वाना में वितरित किए गए पर्चों में दावा किया गया है कि पश्चिमी ताकतें टीकाकरण कार्यक्रम की आड़ में क्षेत्र में जासूसी अभियान चला रही हैं। पर्चों में शकील अफरीदी का जिक्र किया गया है जिसने, ओसामा बिन लादेन के पकड़ने में सीआईए की मदद करने के लिए फर्जी टीकाकरण अभियान चलाया था और उसके बाद लादेन ऐबटाबाद में अमेरिकी हमले में मारा गया था।

खैबर पख्तूनख्वा और कबीलाई क्षेत्रों में यूनीसेफ के प्रमुख अधिकारी मोहम्मद रफीक ने कहा है कि यदि दक्षिणी वजीरिस्तान में पोलियो विरोधी अभियान को रोक दिया गया तो 80 हजार बच्चे प्रभावित होंगे। इससे पूर्व, हाफिज गुल बहादुर की अगुवाई वाले एक अन्य तालिबान गुट ने उत्तरी वजीरिस्तान एजेंसी में पोलियो टीकाकरण अभियान पर रोक लगा दी थी।

उसका भी कहना था कि अमेरिकी ड्रोन हमले जारी रहने तक प्रतिबंध जारी रहेगा। एक्सप्रेस ट्रिब्यून में छपी खबर के मुताबिक, एक स्थानीय नागरिक ने बताया कि पर्चों में बच्चों के मां-बाप को निर्देश दिया गया है कि जब तक क्षेत्र में अमेरिकी ड्रोन हमले जारी रहें तब तक वह टीकाकरण का विरोध करें। एजेंसी

तो दो लाख से अधिक बच्चे नहीं पा सकेंगे दवा
अगर तालिबान लगातार इसी तरह टीकाकरण कार्यक्रम को रोककर रखता है तो आगामी 17 जुलाई को शुरू हो रहे तीन दिवसीय पोलियोरोधी टीकाकरण अभियान के दौरान, लगभग 241,000 बच्चे पोलियो की खुराक बिना रह जाएंगे। इसमें 161,000 उत्तरी वजीरिस्तान के और 80,000 दक्षिण वजीरिस्तान के बच्चे शामिल हैं।

मीठे जहर से तुलना
दक्षिणी वजीरिस्तान में बांटे गए पर्चों में पोलियो की खुराक की तुलना मीठे जहर से की गई है और दावा किया गया है कि पश्चिमी ताकतें कभी मुसलिमों की वफादार नहीं रही हैं। इसमें कहा गया है कि अगर वह (पश्चिमी ताकतें) मुसलमानों के प्रति इतनी ही संवेदनशील होतीं जो वो हमारे ऊपर इतनी निर्दयता पूर्वक बमबारी क्यों करती।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

दीपिका पादुकोण को मिला ये खास सम्मान

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

रजनीकांत की फिल्म ने इस मामले में 'बाहुबली' को पीछे छोड़ा

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

आपके बिजनेस को नुकसान से बचाएगा यह उपाय, आजमाकर देखें

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

स्मार्टफोन से बेहतरीन फोटो खींचने के लिए जरूर पढ़ें ये टिप्स

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

'पिंक' का ग्रामीण वर्जन है 'अनारकली ऑफ आरा'

  • शुक्रवार, 24 मार्च 2017
  • +

Most Read

अमर उजाला का एंड्रॉयड ऐप

amar uajala android app
  • बुधवार, 9 नवंबर 2016
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top