आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

कयानी ने अमेरिकी अधिकारी से मिलने से मना किया

इसलामाबाद/एजेंसी

Updated Tue, 12 Jun 2012 12:00 PM IST
Kayani-refused-US-officials-to-meet
अमेरिका की टिप्पणी से नाराज पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल अशफाक परवेज कयानी ने एक शीर्ष अमेरिकी अधिकारी से मिलने से इनकार कर दिया है। अमेरिकी अधिकारियों द्वारा उप सहायक रक्षा मंत्री पीटर लवाय की कयानी के साथ मुलाकात के अनुरोध को सेना मुख्यालय ने अस्वीकार कर दिया। पिछले साल नाटो हमले के बाद से दोनों देशों के बीच जारी तनाव से इस मामले को जोड़ कर देखा जा रहा है।
दरअसल भारत एवं अफगानिस्तान के दौरे पर आए अमेरिकी रक्षा मंत्री लियोन पनेटा द्वारा की गई टिप्पणी से पाकिस्तान खासा नाराज है। पनेटा ने कहा था कि अफगानिस्तान से सटी सीमा पर आतंकियों के सुरक्षित ठिकानों पर पाकिस्तान की ओर से कार्रवाई नहीं किए जाने पर अमेरिका का धैर्य जवाब दे रहा है। उन्होंने जोर देकर कहा था कि पाकिस्तान के विरोध के बावजूद अमेरिकी ड्रोन हमले जारी रहेंगे।

उन्होंने इस कबायली क्षेत्र में पाकिस्तान द्वारा पर्याप्त प्रयास नहीं किए जाने की बात कही थी। द न्यूज डेली ने एक पाकिस्तानी अधिकारी के हवाले से बताया कि अमेरिकी अधिकारियों द्वारा पाकिस्तान पर लगाए गए आरोपों के कारण इस आग्रह को अस्वीकार किया गया। हालांकि इस बारे में पता नहीं चल सका कि लवाय को इस फैसले के बारे में क्या कारण बताया गया। वाशिंगटन में अमेरिकी अधिकारियों ने भी इसकी पुष्टि की है।

एक अन्य अधिकारी के मुताबिक लवाय को बताया गया कि बिना माफी के नाटो आपूर्ति मार्ग को दोबारा खोले जाने के मसले पर प्रगति संभव नहीं है। अधिकारी ने बताया, ‘लवाय के साथ मीटिंग नहीं करने के फैसले के पीछे कई कारण हैं। इसके तहत अमेरिकियों को यह बताना है कि एक दिन गलत बयानबाजी कर अगले दिन आप पाकिस्तान के सबसे शक्तिशाली हस्ती के साथ मुलाकात की उम्मीद नहीं कर सकते हैं।’

अमेरिका के साथ ‘पैकेज डील’ पर काम कर रहे अधिकारियों के हवाले से रिपोर्ट में बताया गया है कि पाकिस्तान सरकार की ओर से स्पष्ट निर्देश हैं कि नाटो हमले में मारे गए पाक सैनिकों के मामले में अमेरिका की माफी, अफगानिस्तान जाने वाले नाटो कंटेनर पर फीस देने की अपेक्षा कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। एक अधिकारी ने बताया कि अगर हमें संप्रभुता और प्रतिष्ठा का सम्मान किए जाने का आश्वासन मिलता है तो हमें धन को लेकर कोई समस्या नहीं होगी। कंटेनर की कीमत हमारे लिए कोई महत्वपूर्ण मसला नहीं है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

शादी के बाद मोनालिसा ने सीक्रेट रूम में मनाई सुहागरात, रो पड़े मनु पंजाबी

  • गुरुवार, 19 जनवरी 2017
  • +

अपने इस 'खास अंग' का बीमा करवाना चाहती हैं सनी लियोन

  • गुरुवार, 19 जनवरी 2017
  • +

आज लॉन्च होगा Xiaomi Note 4, जानिए कीमत और खासियत

  • गुरुवार, 19 जनवरी 2017
  • +

सैफ ने किया खुलासा, आखिर क्यों रखा बेटे का नाम तैमूर...

  • बुधवार, 18 जनवरी 2017
  • +

Viral Video: स्वामी ओम का बड़ा दावा, कहा सलमान को है एड्स की बीमारी

  • बुधवार, 18 जनवरी 2017
  • +

Most Read

अमर उजाला का एंड्रॉयड ऐप

amar uajala android app
  • बुधवार, 9 नवंबर 2016
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top