आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

अविश्वास प्रस्ताव पर अगर-मगर

Vikrant Chaturvedi

Vikrant Chaturvedi

Updated Mon, 19 Nov 2012 10:21 PM IST
Dilemma on no confidence motion
मौजूदा राजनीतिक माहौल में लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव का पारित होना मुश्किल है। ममता बनर्जी ने खुदरा व्यापार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के मुद्दे पर आगामी संसद सत्र में मनमोहन सिंह सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का संकेत देकर साफ कर दिया है कि वह और उनकी तृणमूल कांग्रेस हाल के महीनों में यूपीए से इतनी दूर छिटक चुकी हैं कि अब दोनों के बीच मेल-मिलाप की कोई गुंजाइश नहीं बची है।
आगामी दो-तीन दिन में यह भी साफ हो जाएगा कि ममता की पार्टी के प्रस्तावित अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने के लिए भाजपानीत एनडीए कितना जोश-खरोश दिखाता है और यूपीए को बाहर से समर्थन दे रही बसपा व सपा का क्या रुख रहता है। प्रमुख वाम दल माकपा ने पहले ही कह दिया है कि ममता बसपा और सपा का समर्थन जुटा लें, तो वह भी अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने पर विचार कर सकती है।

साफ है कि अनेक मुद्दों पर यूपीए सरकार का विरोध कर रही विपक्षी पार्टियां तथा उसे बाहर से समर्थन दे रही दूसरी पार्टियां भी अविश्वास प्रस्ताव को लेकर एकमत नहीं हैं। वे संसद के बाहर तो मुद्दों की बात करती हैं और सरकार को घेरने के तमाम उपक्रम करती हैं, लेकिन संसद के भीतर राजनीतिक लाभ-हानि का लेखा-जोखा कर के फैसला करती हैं। अगर ऐसा नहीं होता, तो यूपीए सरकार जाने कब सत्ता से बेदखल हो चुकी होती।  

आज भी खुदरा व्यापार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के मुद्दे पर जो पार्टियां सरकार के विरोध में खड़ी नजर आती हैं, वे यदि इस मुद्दे पर लोकसभा में भी अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन करने को तैयार होती हैं, तो सरकार का अल्पमत में आना तय है, मगर मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य में ऐसा होने की संभावना बहुत कम है। फिलहाल आसार यही हैं कि सपा-बसपा सरीखी पार्टियां एक बार फिर सरकार को बचाने के लिए हाथ बढ़ाएं और उसके लिए अपने कमजोर और लिजलिजे तर्क भी गढ़ें।

माकपा जैसी पार्टियों की दुविधा यह भी है कि खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के मुद्दे पर अविश्वास प्रस्ताव गिर गया, तब सरकार को यह कहने का मौका मिल जाएगा कि उसके तमाम फैसलों को संसद की सहमति हासिल है। यह संसदीय लोकतंत्र की विडंबना है कि सरकार अपनी ऐसी नीतियों को भी देश पर थोप सकती है, जिनका संसद के बहुसंख्य सदस्य संसद के बाहर तो मुखर विरोध करते हों, मगर संसद के भीतर उनका विरोध भोथरा हो जाता हो।
  • कैसा लगा
Comments

स्पॉटलाइट

नवरात्रि 2017 पूजा: पहले दिन इस फैशन के साथ करें पूजा

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

इन 4 तरीकों से चुटकियों में बढ़ेंगे आपके बाल...

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

'श्री कृष्‍ण' बनाने वाले रामानांद सागर की पड़पोती सोशल मीडिया पर हुईं टॉपलेस, देखें तस्वीरें

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

महिला ने रेलवे स्टेशन से कर ली शादी, जानिए ये दिलचस्प लव स्टोरी

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

महेश भट्ट की खोज थी 'आशिकी' की अनु, आज इनको देख आ जाएगा रोना

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

Most Read

हाईवे जाम

After the death of the children, the villagers did the highway jam
  • गुरुवार, 14 सितंबर 2017
  • +

दो की मौत

Two deaths from infectious disease in mahoba
  • रविवार, 17 सितंबर 2017
  • +

अफरातफरी

Furious with fire from cylinders
  • गुरुवार, 14 सितंबर 2017
  • +

लोक अदालत

1630 settlement of promises in Lok Adalat
  • रविवार, 17 सितंबर 2017
  • +

चुनाव आज

Election of Bar Association today, complete the preparation
  • गुरुवार, 14 सितंबर 2017
  • +

पहनाया चश्मा

Eyeglasses worn by Eye MP Health minister
  • गुरुवार, 14 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!