आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

अजूबे से कम नहीं है पिंकी की सफलता

राम शंकर

Updated Sat, 14 Jul 2012 12:00 PM IST
success of pinki is miracle
10 अप्रैल 1986 को पश्चिम बंगाल के पुरूलिया में जन्मी पिंकी की सफलता की कहानी किसी अजूबे से कम नहीं है। पहली सफलता की गाथा उसने महज 17 साल में लिखी। एशियन इंडोर एथलेटिक्स में उसने दो मेडल जीतकर सबका ध्यान अपनी ओर खींचा। 400 और 800 मीटर रिले दौड़ में पिंकी ने जब देश को तमगा दिलाया तो हर कोई उसका मुरीद हो गया।
उन्होंने 2006 में कतर के दोहा में हुए एशियाई खेलों में चार सौ मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीता और उसी साल मेलबर्न में राष्ट्रमंडल खेलों में उन्होंने रजत पदक जीता। कार दुर्घटना में बुरी तरह जख्मी होने के बाद ऐसा लगा कि इस खिलाड़ी का करियर कहीं खत्म न हो जाए। पर 2007 में पिंकी ने जोरदार वापसी की। हालांकि पिंकी तीन साल पहले ही संन्यास ले चुकी हैं।

सवाल- क्या आपको लगता है कि पिंकी प्रमाणिक के साथ नाइंसाफी हुई है?
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

जब भरी पार्टी में हीरो ने कर लिया था अमृता सिंह को किस और फिर...

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

प्रेम के मामले में परेशानियाें से भरा रहेगा सप्ताह का पहला दिन, ये 3 राशि वाले रहें संभलकर

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

फिर नए अवतार में दिखीं सुहाना, इस बार का अंदाज पहले से भी ज्यादा स्टनिंग

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

शेविंग के बाद भूलकर न लगाएं 'आफ्टरशेव', होगा ये नुकसान

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +

UP Board : 9वीं से 12वीं तक अब होगी 'योग' की पढ़ाई

  • शुक्रवार, 23 जून 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top