आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

बसपा दफ्तर के लिए हुए खेल पर सुप्रीम कोर्ट चकित

नई दिल्ली/पीयूष पांडेय

Updated Sun, 14 Oct 2012 10:20 PM IST
Supreme Court surprised at the game  of BSP office
बहुजन समाज पार्टी को कार्यालय मुहैया कराने के लिए शहीद स्मारक ट्रस्ट को सरकारी स्थान से बेदखल करने के प्रशासनिक खेल पर सुप्रीम कोर्ट भी अचरज में है। ट्रस्ट के आरोप को हल्के में लेने पर सर्वोच्च अदालत ने हाईकोर्ट के रवैये पर कड़ी नाराजगी जताई है। शीर्ष अदालत ने कहा है कि हर मसले की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए अदालत को उसे परखकर आदेश जारी करना चाहिए। यह बहुत ही गंभीर मसला है जिसमें ट्रस्ट के पदेन पदाधिकारी (एक्स ऑफिशियो) होने का फायदा उठाते हुए जिलाधिकारी ने पूरी कहानी बनाई और ट्रस्ट को मिले सरकारी स्थान के आवंटन को रद्द कर दिया।
सर्वोच्च अदालत ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश को दरकिनार करते हुए शहीद स्मारक ट्रस्ट की रिट याचिका पर नए सिरे से सुनवाई करने का निर्देश जारी किया है। इस ट्रस्ट का गठन 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन की स्वर्ण जयंती पर बलिया में 19 अगस्त, 1992 को आयोजित समारोह में तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव की घोषणा के बाद हुआ था। इस ट्रस्ट के पहले चेयरमैन और ट्रस्टी पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर थे। इसके अन्य सदस्यों में जिलाधिकारी (डीएम) को पदेन पदाधिकारी के तौर पर सचिव का पद हासिल है।

ट्रस्ट के मुताबिक इसी हैसियत डीएम ने 28 फरवरी, 2009 को सरकार को एक पत्र लिखा। इस पत्र में ट्रस्ट के दोनों भवनों को खाली कराने की गुजारिश की गई। शीर्ष अदालत ने ट्रस्ट के आरोप को अपने फैसले में दर्ज किया है कि इस दौरान बसपा को कार्यालय के लिए जगह नहीं मिल रही थी। यही वजह थी ट्रस्ट में पदेन पदाधिकारी होने का फायदा उठाते हुए डीएम ने खुद ही पत्र लिखने के बाद ट्रस्ट को मिले सरकारी भवनों के आवंटन को रद्द कर दिया। यही नहीं 15 मई, 09 को अन्य अधिकारियों और पुलिस के साथ जाकर इन स्थानों को सील कर दिया।

सर्वोच्च अदालत के फैसले के मुताबिक हाईकोर्ट ने इस मामले में सील हटाने का आदेश तो जारी कर दिया। लेकिन हाईकोर्ट ने दूसरे पक्ष से जवाब तलब किए बगैर ही मामले पर हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया और कहा कि ट्रस्ट का सरकारी स्थान पर निजी अधिकार नहीं है। शीर्ष अदालत ने नाराजगी जताते हुए कहा कि अदालतों को हर मसले पर बुद्धि का इस्तेमाल करते हुए उसकी गंभीरता को परखना चाहिए। मुद्दे पर पूरी तरह से विचार किए जाने और सभी पक्षों को सुने जाने के बाद ही स्पष्ट आदेश दिया जाना चाहिए। यह बहुत ही गंभीर मामला है। पीठ ने कहा कि वह हाईकोर्ट के आदेश को निरस्त करते हुए उसे इस मसले पर नए सिरे से सुनवाई कर निर्णय लेने का निर्देश जारी करती है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

सालों बाद मिला आमिर का ये को-स्टार, फिल्में छोड़ इस बड़ी कंपनी में बन गया मैनेजर

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

इस मानसून इन हीरोइनों से सीखें कैसा हो आपका 'ड्रेसिंग सेंस'

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

जब शूट के दौरान श्रीदेवी ने रजनीकांत के साथ कर दी थी ये हरकत

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

50 वर्षों बाद बना है इतना बड़ा संयोग, आज खरीदी गई हर चीज देगी फायदा

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

हिट फिल्म के बावजूद फ्लॉप हो गई थी ये हीरोइन, अब इस फील्ड में कमा रही है नाम

  • सोमवार, 24 जुलाई 2017
  • +

Most Read

पुरुषों के आत्महत्या करने की खबर कभी नहीं सुनी : मेनका 

Never heard of men committing suicide, Says Minister Maneka Gandhi
  • शुक्रवार, 30 जून 2017
  • +

'विराट' के बाद नौसेना से एल्बाट्रॉस विमान की भी विदाई

India Navy Adieu Farewells To Albatross Patrol Aircraft
  • बुधवार, 8 मार्च 2017
  • +

आपराधिक पृष्ठभूमि वालों को चुनाव लड़ने से नहीं रोक सकते : हाईकोर्ट

allahabad highcourt says over criminal election contestent
  • शनिवार, 21 जनवरी 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!