आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

ग्लूकोज बोतल के जरिए सिंचाई से लहलहाएंगे खेत

विजय गुप्ता/नई दिल्ली

Updated Mon, 05 Nov 2012 08:23 AM IST
scientists discovered new technique of irrigation through glucose bottle
मानसून की बेरुखी पर महंगी सिंचाई के कारण छोटे किसानों को अब शायद खेती से किनारा करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। वैज्ञानिकों ने सिंचाई की सस्ती तकनीक खोज निकाली है। इसके जरिए न सिर्फ सीमित पानी से फसलों की पर्याप्त सिंचाई हो सकेगी बल्कि इस तकनीक को कोई भी किसान आसानी से स्वयं ही कारगर कर सकेगा।
इस तकनीक के लिए बस ग्लूकोज की बेकार, खाली बोतलों की जरूरत होती है। जो बाजार में आसानी से 20 से 25 रुपये प्रति किलो की दर पर उपलब्ध हैं। खास बात यह है कि ड्रिप सिंचाई की इस तकनीक से पानी की भी बचत होती है और कम पैसे में सिंचाई की इस तकनीक से फसल की लागत भी नहीं बढ़ती। इससे किसानों को खासा लाभ होता है।

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के राष्ट्रीय कृषि नवोन्मेषी परियोजना (एनएआईपी) के वैज्ञानिकों ने ग्लूकोज की बेकार बोतलों के जरिए ड्रिप सिंचाई की सस्ती तकनीक खोज निकाली है। इस तकनीक के तहत बेकार बोतलों के ऊपरी सिरे को थोड़ा काट दिया जाता है ताकि उसमें पानी भरा जा सके।

इन बोतलों को खेत की प्रत्येक नालियों के छोर पर किसी छड़ी या तीन फुट के बांस पर कील लगाकर वैसे ही लटकाया जाता है जैसे ग्लूकोज चढ़ाते समय इसे स्टैंड पर लगाया जाता है। दूसरे सिरे पर लगे पाइप से पानी बूंदों के जरिए नीचे गिरता रहता है। पानी की रफ्तार तेज व धीमे भी की जा सकती है क्योंकि ग्लूकोज में लगे पाइप में यह नियंत्रक पहले से ही लगा होता है।

एनएआईपी के राष्ट्रीय संयोजक डॉ. पीएस पाण्डेय ने बताया कि बागवानी की खेती में ड्रिप सिंचाई का ज्यादा इस्तेमाल होता है। इसीलिए प्रयोग और प्रशिक्षण के तौर इस तकनीक का इस्तेमाल मध्य प्रदेश के उन आदिवासी क्षेत्रों में किया गया, जहां पानी की कमी है और ज्यादातर खेतिहर भूमि ऊबड़-खाबड़ है। यहां के ज्यादातर किसान सब्जी की खेती करते हैं।

वैज्ञानिकों ने एक एकड़ भूमि में छह किलो ( लगभग 350 ) बेकार ग्लूकोज की बोतलों का इस्तेमाल किया। सिंचाई की इस अभिनव तकनीक से लागत में भारी कमी आई वहीं फसलों की उत्पादकता भी बढ़ी। वैज्ञानिकों का दावा है कि सिंचाई की इस तकनीक से सब्जी उगाने वाले किसान एक मौसम में प्रति एकड़ डेढ़ से पौने दो लाख रुपये तक कमा सकते हैं।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

इसी 'हीरोइन के प्यार में' सलमान का हो गया था 'ऐसा हाल', एक ही फिल्म से रातोंरात बन गई थी स्टार

  • गुरुवार, 22 जून 2017
  • +

पटौदी खानदान की इस बेटी के बारे में नहीं जानते होंगे, संभालती है 2700 करोड़ की विरासत

  • गुरुवार, 22 जून 2017
  • +

पति से भी ज्यादा अमीर हैं बॉबी देओल की पत्नी, फर्नीचर का बिजनेस कर बनी करोड़पति

  • गुरुवार, 22 जून 2017
  • +

ग्रेजुएट्स के लिए Delhi Metro में नौकरी, 50 हजार सैलरी

  • गुरुवार, 22 जून 2017
  • +

किस्मत बिगाड़ देते हैं घर में सजावट के लिए रखे पत्थर, जानें कैसे?

  • गुरुवार, 22 जून 2017
  • +

Most Read

अनुपम खेर ने पूछा- क्या राहुल गांधी राष्ट्रगान गा सकते हैं?

Can Rahul Gandhi sing national anthem, asks Anupam Kher
  • सोमवार, 5 दिसंबर 2016
  • +

'विराट' के बाद नौसेना से एल्बाट्रॉस विमान की भी विदाई

India Navy Adieu Farewells To Albatross Patrol Aircraft
  • बुधवार, 8 मार्च 2017
  • +

आपराधिक पृष्ठभूमि वालों को चुनाव लड़ने से नहीं रोक सकते : हाईकोर्ट

allahabad highcourt says over criminal election contestent
  • शनिवार, 21 जनवरी 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top