आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

वाजपेयी की राह में नेताओं से बड़ा संकट पार्टी संविधान

अखिलेश वाजपेयी/लखनऊ

Updated Thu, 13 Dec 2012 10:15 AM IST
party constitution being problem for up bjp president
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. लक्ष्मीकांत वाजपेयी की नई कमेटी की राह में पार्टी नेताओं से बड़ा संकट संविधान बन गया है। वह संविधान की मानते हैं तो लोगों को समायोजित करने के अवसर कम होते हैं। संविधान की अनदेखी करते हैं तो चहुंतरफा संकट खड़ा है। यह इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद उन्होंने यह ऐलान किया था कि उनकी अध्यक्षी के कार्यकाल में दल पुरानी राह पर नहीं चलेगा। मनोनयन से संगठन का ढांचा खड़ा करने की परंपरा बंद होगी। संगठन का काम पार्टी संविधान के अनुसार ही चलेगा। यह बात अब खुद उन्हीं के लिए कसौटी है।
27 के विपरीत बने थे 37 पदाधिकारी
संविधान के मुताबिक, उत्तर प्रदेश श्रेणी तीन में आता है। श्रेणी तीन के प्रदेश वह हैं जहां लोकसभा की 21 से अधिक सीटें होती हैं। इस लिहाज से उत्तर प्रदेश में भाजपा की प्रदेश कमेटी में पदाधिकारियों की संख्या अध्यक्ष को मिलाकर अधिकतम 27 हो सकती है। इनमें 10 उपाध्यक्ष, चार महामंत्री, एक महामंत्री संगठन, 10 मंत्री और एक कोषाध्यक्ष का पद निर्धारित किया गया है। पदाधिकारी मिलाकर प्रदेश कार्यसमिति में अधिकतम 105 सदस्य रखे जा सकते हैं।

पर, पिछली टीम में 10 उपाध्यक्ष, 10 मंत्रियों की जगह 18 मंत्री और पांच महामंत्रियों के स्थान पर सात महामंत्री बने थे। इसके अलावा 109 कार्यसमिति के सदस्य, 195 विशेष आमंत्रित सदस्य बनाए गए थे। अन्य श्रेणी के सदस्य अलग थे।

नेतृत्व ने जताई थी नाराजगी
पार्टी संविधान की अनदेखी पर केंद्रीय नेतृत्व ने नाराजगी जताई थी। पर, बाद में यह घोषणा करके कि यह फैसला नजीर नहीं बनेगा, मामले को तूल नहीं दिया था। कारण, विधानसभा चुनाव के मद्देनजर नेतृत्व अकारण लोगों को नाराज नहीं करना चाहता था। इसलिए मनमानी संख्या में पदाधिकारी बनाने की छूट मिलना मुश्किल है।

पर टीम बनाने में क्या करेंगे
लगभग 12 वर्षों बाद संगठनात्मक चुनाव कराकर और खुद निर्वाचित अध्यक्ष बनकर वाजपेयी ने मनोनयन युग की समाप्ति की पहली चुनौती से तो पार पा लिया। पर, दूसरी चुनौती ज्यादा कठिन दिख रही है। पुरानी टीम जितनी बड़ी है अगर उसमें से वह पार्टी संविधान के मुताबिक भी समायोजन करें तो सबका टीम में आना संभव नहीं है।

संविधान की कसौटी पर खरा उतरने के लिए लंबी काटछांट करनी पड़ेगी। इससे भी तमाम लोगों के नाराज होने का संकट है। फिर वाजपेयी वह चाहेंगे कि नई टीम उनके मुताबिक गठित हो। नई टीम में वह रहें जो उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलें। इसके लिए वह कुछ नए चेहरे टीम में रखना चाहेंगे। यह सब बहुत सरल नहीं है।
  • कैसा लगा
Comments

स्पॉटलाइट

नवरात्रि 2017 पूजा: पहले दिन इस फैशन के साथ करें पूजा

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

इन 4 तरीकों से चुटकियों में बढ़ेंगे आपके बाल...

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

'श्री कृष्‍ण' बनाने वाले रामानांद सागर की पड़पोती सोशल मीडिया पर हुईं टॉपलेस, देखें तस्वीरें

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

महिला ने रेलवे स्टेशन से कर ली शादी, जानिए ये दिलचस्प लव स्टोरी

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

महेश भट्ट की खोज थी 'आशिकी' की अनु, आज इनको देख आ जाएगा रोना

  • बुधवार, 20 सितंबर 2017
  • +

Most Read

पुरुषों के आत्महत्या करने की खबर कभी नहीं सुनी : मेनका 

Never heard of men committing suicide, Says Minister Maneka Gandhi
  • शुक्रवार, 30 जून 2017
  • +

'विराट' के बाद नौसेना से एल्बाट्रॉस विमान की भी विदाई

India Navy Adieu Farewells To Albatross Patrol Aircraft
  • बुधवार, 8 मार्च 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!