आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

हिमाचल चुनाव: सरकारी कर्मचारी भी बदलते रहे हैं सत्ता

मुरारी शर्मा/मंडी

Updated Thu, 11 Oct 2012 07:42 AM IST
government employees are playing important role in himachal pradesh
हिमाचल प्रदेश में सरकारी कर्मचारियों का रुख भी सत्ता का मिजाज बदलता रहा है। प्रदेश के ढाई लाख से भी अधिक कर्मचारी सियासी खेल में बराबर की भूमिका निभाते रहे हैं। डॉ. परमार के समय से ही कर्मचारी आंदोलनों की लंबी परंपरा रही है। यह अलग बात है कि 1998 से 2012 तक प्रदेश में कर्मचारियों का ऐसा कोई भी आंदोलन नहीं हुआ, जिससे प्रदेश की सत्ता प्रभावित हुई हो। अलबत्ता, कर्मचारियों की एकजुटता के आगे प्रदेश की सरकारों को घुटने टेकने पड़े हैं। हर राजनीतिक दल कर्मचारियों को खुश करने की कवायद में जुटा रहता है।
प्रदेश के हर घर से कर्मचारी होने की वजह से हिमाचल की राजनीति में परोक्ष रूप से उनका दखल रहा है। चुनाव में सभी दल कर्मचारी हितैषी बनने की कोशिश करते हैं। हर पार्टी के घोषणापत्र में कर्मचारियों के लिए लुभावने वायदे शामिल होते हैं। कर्मचारी वर्ग कभी खुलकर तो कभी खामोशी से अपना फैसला देता है। प्रदेश के दर्जनों ऐसे नेता हैं, जो सरकारी नौकरी छोड़कर सियासत के अखाड़े में कूदे हैं।

डॉ. परमार के समय शिक्षक आंदोलन के नेता शास्त्री दीनानाथ गौतम स्वयं राजनीति में उतरे थे। कर्मचारी नेता मधुकर ने भी भाग्य आजमाया था। 1990 में शांता कुमार के नो वर्क, नो पे के सिद्धांत से खफा कर्मचारियों ने 1993 के चुनाव में शांता कुमार को पूरी तरह से नकार दिया। 1998 में कुछ कर्मचारी नेताओं द्वारा चलाए गए तबादला उद्योग से खफा कर्मचारियों की नाराजगी का एहसास वीरभद्र सिंह को भी हुआ था। भाजपा से कांटे की टक्कर में हिविकां ने उनका खेल बिगाड़ दिया था।

प्रदेश में सरकारी और सार्वजनिक उपक्रमों में कार्यरत कर्मचारियों की संख्या करीब ढाई-तीन लाख बैठती है। पूर्व कर्मचारियों का आंकड़ा इससे आधा है। दिहाड़ीदार और वर्कचार्ज कर्मियों की संख्या भी एक डेढ़ लाख के आसपास बैठती है। प्रदेश में आदर्श शासन व्यवस्था लागू करने का सपना देखने वाले शांता कुमार ने काम नहीं तो वेतन नहीं का नियम लागू कर भले ही देश में दूसरे राज्यों के सामने आदर्श स्थापित किया, मगर इसका खामियाजा उन्हें कर्मचारियों के खुले विरोध के रूप भुगतना पड़ा। 1993 में शांता को सत्ता से दूर रखने में कर्मचारियों का हाथ रहा है। प्रेम कुमार धूमल कर्मचारियों के साथ टकराव से बचते रहे हैं।

-जो सरकार कर्मचारियों के हक-हकूकों की रक्षा नहीं करती, कर्मचारी उसे बदलने में कसर नहीं छोड़ते। वैसे कर्मचारी वर्ग विवेक से फैसला लेता है। इस बार भी कर्मचारी विवेक से फैसला लेते हुए लोकतंत्र के इस महा पर्व में अपनी भागीदारी निभाएंगे।
एनआर ठाकुर, महासचिव अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

Nokia 3310 की कीमत का हुआ खुलासा, 17 मई से शुरू होगी डिलीवरी

  • मंगलवार, 25 अप्रैल 2017
  • +

फॉक्सवैगन पोलो जीटी का लिमिटेड स्पोर्ट वर्जन हुआ लॉन्च

  • मंगलवार, 25 अप्रैल 2017
  • +

सलमान की इस हीरोइन ने शेयर की ऐसी फोटो, पार हुईं सारी हदें

  • बुधवार, 26 अप्रैल 2017
  • +

इस बी-ग्रेड फिल्म के चक्कर में दिवालिया हो गए थे जैकी श्रॉफ, घर तक रखना पड़ा था गिरवी

  • बुधवार, 26 अप्रैल 2017
  • +

विराट की दाढ़ी पर ये क्या बोल गईं अनुष्का

  • मंगलवार, 25 अप्रैल 2017
  • +

Most Read

अनुपम खेर ने पूछा- क्या राहुल गांधी राष्ट्रगान गा सकते हैं?

Can Rahul Gandhi sing national anthem, asks Anupam Kher
  • सोमवार, 5 दिसंबर 2016
  • +

'विराट' के बाद नौसेना से एल्बाट्रॉस विमान की भी विदाई

India Navy Adieu Farewells To Albatross Patrol Aircraft
  • बुधवार, 8 मार्च 2017
  • +

भारत में रह रहीं दो पाकिस्तानी महिलाएं लापता

 Two Pakistani women married to Indians go missing
  • बुधवार, 26 अक्टूबर 2016
  • +

आपराधिक पृष्ठभूमि वालों को चुनाव लड़ने से नहीं रोक सकते : हाईकोर्ट

allahabad highcourt says over criminal election contestent
  • शनिवार, 21 जनवरी 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top