आपका शहर Close

वित्त मंत्रालय घटा सकता है विकास दर का अनुमान

नई दिल्ली/एजेंसी

Updated Mon, 05 Nov 2012 09:24 PM IST
ministry of finance may reduce growth rate estimation
वित्त मंत्रालय अपनी मध्यावधि समीक्षा में चालू वित्तवर्ष के लिए आर्थिक विकास दर के पूर्वानुमान को घटाकर 5.7 से 6 फीसदी कर सकता है। समीक्षा रिपोर्ट अगले महीने संसद में पेश की जाएगी। वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, वित्तमंत्री पी. चिदंबरम दिसंबर मध्य तक संसद में मध्यावधि समीक्षा पेश करेंगे। इसमें निश्चित रूप से विकास दर और वित्तीय घाटे के पूर्वानुमान को संशोधित किया जाएगा।
2012-13 के लिए बजट में तत्कालीन वित्तमंत्री प्रणब मुखर्जी ने जीडीपी के 7.6 फीसदी के आसपास रहने का पूर्वानुमान जताया था। चालू वित्तवर्ष के लिए विकास दर का पूर्वानुमान बेहतर था। वर्ष के दौरान हो रहे आर्थिक हालातों में बदलाव के चलते में इसमें संशोधन करना पड़ा है। अब यह 5.7 से 6 फीसदी के बीच रह सकती है।

हाल ही में रिजर्व बैंक ने अपनी मध्य छमाही मौद्रिक समीक्षा में चालू वित्तवर्ष के लिए आर्थिक विकास दर के पूर्वानुमान को पहले के 6.5 फीसदी से घटाकर 5.8 फीसदी कर दिया है। आरबीआई के मुताबिक, निवेश के खराब सेंटीमेंट और मांग घटने सहित कई ग्लोबल और घरेलू कारणों के चलते जीडीपी के पूर्वानुमान में संशोधन किया गया है।
Comments

स्पॉटलाइट

19 की उम्र में 27 साल बड़े डायरेक्टर से की थी शादी, जानें क्या है सलमान और हेलन के रिश्ते की सच

  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +

साप्ताहिक राशिफलः इन 5 राशि वालों के बिजनेस पर पड़ेगा असर

  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +

ऐसे करेंगे भाईजान आपका 'स्वैग से स्वागत' तो धड़कनें बढ़ना तय है, देखें वीडियो

  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

सलमान खान के शो 'Bigg Boss' का असली चेहरा आया सामने, घर में रहते हैं पर दिखते नहीं

  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

आखिर क्यों पश्चिम दिशा की तरफ अदा की जाती है नमाज

  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!