आपका शहर Close

भारतीय कंपनियों ने बांड से जुटाए 2.54 लाख करोड़

Corporate

Updated Fri, 15 Jun 2012 12:00 PM IST
Indian-companies-raised-two-point-five-four-trillion-of-bonds
भारतीय कंपनियों ने 2011-12 के दौरान ऋण प्रतिभूति अथवा बांड के जरिये 2.54 लाख करोड़ रुपये की पूंजी जुटाई। प्राइम डाटाबेस की रिपोर्ट के अनुसार पिछले नौ वर्ष के दौरान एक साल की यह सबसे अधिक राशि है। रिपोर्ट के अनुसार 164 संस्थानों और कॉरपोरेट ने यह रकम जुटाई है।
अखिल भारतीय वित्तीय संस्थानों और बैंकों द्वारा जुटाई जाने वाली राशि 38 प्रतिशत बढ़कर एक लाख 60 हजार 369 करोड़ रुपये हो गई। निजी क्षेत्र ने एक साल पहले की तुलना में तीन प्रतिशत कम 58 हजार 134 करोड़ रुपये जुटाए।

प्राइम डाटाबेस के प्रमुख पृथ्वी हल्दिया के मुताबिक सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों द्वारा एकत्रित की जाने वाली राशि 12,450 करोड़ रुपये के मुकाबले 27,176 करोड़ रुपये पर पहुंच गई। राज्य स्तर के सार्वजनिक उपक्रमों ने 111 फीसदी अधिक 1,981 करोड़ रुपये के मुकाबले 4,184 करोड़ रुपये की राशि जुटाई।

सरकारी संस्थानों और वित्तीय संस्थानों ने कुल एकत्रित की गई राशि में से 78 प्रतिशत राशि जुटाई। एक साल पहले इनका हिस्सा 69 प्रतिशत था। सबसे अधिक रकम वित्तीय सेवा क्षेत्र ने 77 फीसदी और ऊर्जा क्षेत्र नौ प्रतिशत के साथ दूसरे स्थान पर रहा।
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

एक ऐसा परिवार, 100 खतरनाक जानवर करते हैं इसकी रखवाली

  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +

बाल झड़ने की वजह से लड़कियां पास न आएं तो करें मेथी का यूं इस्तेमाल

  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +

सलमान खान के लिए असली 'कटप्पा' हैं शेरा, एक इशारे पर कार के आगे 8 km तक दौड़ गए थे

  • मंगलवार, 24 अक्टूबर 2017
  • +

भूलकर भी न करें छठ पूजा में ये 6 गलतियां, पड़ सकती है भारी

  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +

बदलते मौसम में डाइट में शामिल करेंगे ये खास चीज तो फौलाद बन जाएंगी हड्डियां

  • सोमवार, 23 अक्टूबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!