आपका शहर Close

हार्डवेयर क्षेत्र ने मांगा राहत पैकेज

Corporate

Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
Hardware-sector-seeks-stimulus
आईटी क्षेत्र के लिए हार्डवेयर बनाने वाली कंपनियों के संगठन मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन फॉर इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (मैट) ने रुपये में गिरावट के मद्देनजर सरकार से राहत पैकेज की मांग की है। संगठन का कहना है कि उद्योग को बचाने के लिए यह जरूरी है। मैट के अध्यक्ष डॉ. आलोक भारद्वाज ने बताया कि जापान में सुनामी और थाईलैंड में बाढ़ के बाद से भारतीय आईटी हार्डवेयर क्षेत्र कठिनाइयों का सामना कर रहा है।
इसके बाद डॉलर के मुकाबले रुपए में गिरावट ने आईटी हार्डवेयर उद्योग की कमर ही तोड़ दी है। उन्होंने कहा कि आईटी हार्डवेयर उद्योग को बचाने के लिए सरकार को तुरंत कदम उठाने चाहिए। हार्डवेयर उत्पादों की 50 प्रतिशत खपत सरकारी विभागों और परियोजनाओं में होती है। यह अनुबंध एक वर्ष से लेकर तीन वर्ष पहले किए जाते हैं, लेकिन बदलती हुई परिस्थितियों में इन्हें पूरा करना संभव नहीं है।

उन्होंने कहा कि सरकार को इन अनुबंधों की दरों में बदलाव का विकल्प बनाना चाहिए और आयात शुल्क में छूट बढ़ा देनी चाहिए। उन्होंने बताया कि देश में इस्तेमाल होने वाले कुल आईटी हार्डवेयर का 85 प्रतिशत हिस्सा आयात किया जाता है और इसकी लागत में लगातार इजाफा हो रहा है। उन्होंने दावा किया कि अगर यही स्थिति जारी रहती है तो हार्डवेयर कंपनियां 40 से 45 दिन के भीतर बंद हो जाएंगी। पिछले 90 दिन में महज रुपए में गिरावट के कारण हार्डवेयर कंपनियों को 300 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

B'Day Spl: 20 साल की सुष्मिता सेन के प्यार में सुसाइड करने चला था ये डायरेक्टर

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

RBI ने निकाली 526 पदों के लिए नियुक्तियां, 7 दिसंबर तक करें आवेदन

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

B'Day Spl: जीनत अमान, सुष्मिता सेन को दिल दे बैठे थे पाक खिलाड़ी

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +

'पद्मावती' विवाद पर दीपिका का बड़ा बयान, 'कैसे मान लें हमने गलत फिल्म बनाई है'

  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

'पद्मावती' विवाद: मेकर्स की इस हरकत से सेंसर बोर्ड अध्यक्ष प्रसून जोशी नाराज

  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!