आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

...और देखते ही देखते 'लिफ्ट' हो गया मकान

देहरादून/पंकज प्रसून।

Updated Tue, 04 Dec 2012 10:39 AM IST
helping by jack house lift many feet upper
जब भी बादल उमड़ते-घुमड़ते थे तब-तब जीएमएस रोड स्थित प्रियदर्शनी कालोनी में रहने वाले भूपेंद्र सिंह और उनके परिवार का कलेजा कांप उठता था। सड़क के तल से तीन फीट नीचे बने मकान में  मामूली बरसात बाढ़ ला देती थी। अब उन्होंने इसका उपाय ढूंढ लिया है। जैक की मदद से उनका आशियाना उठाया जा रहा है। रोचक बात यह है कि घर के लोग उसमें रहकर आराम से अपने रोजमर्रा के काम भी कर रहे हैं।
भूपेंद्र बताते हैं कि बरसात के सीजन में उनके घर का निचला फ्लोर पानी में ही डूबा रहता था। पानी की निकासी का हर जतन करके वह परेशान हो गए थे। उनकी पत्नी अक्सर सोते जागते यही कामना करती रहती काश! भगवान मेरे घर को थोड़ा सा लिफ्ट करा दो। एक दिन मोहम्मद दिलशाद उनके सामने के घर को लिफ्ट (ऊपर उठाने) करने की तकनीक लेकर आए तो वे लोग उछल पड़े। पूरी जानकारी ली और अपना घर लिफ्ट करवाने का फैसला लिया।

पिछले तीन दिन से उनके घर को ऊपर करने का काम चल रहा है। अबतक उसे एक फीट तक उठाया भी जा चुका है। पहले दिन तो भूपेंद्र का परिवार काम शुरू होने से पहले ही बाहर निकल गया। डर था कि मकान ऊपर उठाते समय कोई घटना ना हो जाए। लेकिन जब शाम के समय ऊपरी मंजिल पर लोगों ने खा-पीकर नींद ली तो डर दूर हो गया। नीचे के फ्लोर पर लिफ्टिंग के काम में लगे लोग आराम भी फरमाते हैं।

ऐसे हो रहा है मकान ऊपर
मकान के चारों ओर नींव से कुछ ऊपर दीवारों में पूरी लंबाई में ढेर सारे जैक लगाए गए हैं। जिन्हें दिलशाद के निर्देश पर एक-एक घुमाया जाता है। उनकी टीम के सभी 20 मेंबर एक साथ उस हिस्से का एक साथ घुमाते हैं। यह सिलसिला पूरे 25 दिन चलेगा। भूपेंद्र के पूरे मकान में 250 जैक लगाए गए हैं।

चंडीगढ़ से सीखी तकनीक रुड़की के दिलशाद ने
रुड़की के पास मंगलौर के रहने वाले दिलशाद ने यह तकनीक चंडीगढ़ में सीखी। अभी तक वह कई राज्यों में करीब 400 मकानों को लिफ्ट कर चुके हैं। देहरादून में चार मकानों में इस तकनीक का सफल प्रयोग किया जा चुका है। मकान लिफ्ट करने के लिए करीब तीन लाख तक का खर्च आता है। वैसे प्रति स्क्वायर फीट कीमत 120 रुपये लगता है। क्योंकि इसमें फर्श और चौखट तोड़ना पड़ता है इसलिए उसे बनाने का खर्च अलग से आएगा।

  • कैसा लगा
Comments

स्पॉटलाइट

कुट्टू के आटे के ये फायदे जानकर आप भी हो जाएंगे खाने पर मजबूर

  • गुरुवार, 21 सितंबर 2017
  • +

व्रत रखने से होते हैं गजब के फायदे, क्या आपको पता है ?

  • गुरुवार, 21 सितंबर 2017
  • +

B'day Spl: प्रेग्नेंसी के बाद 'बेबो' ने इस तरह पाई अपनी पुरानी रंगत, 14 किलो कम किया वजन

  • गुरुवार, 21 सितंबर 2017
  • +

अगर आप भी कर रही हैं एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर तो जान लें ये खतरे...

  • गुरुवार, 21 सितंबर 2017
  • +

नवरात्रि 2017 पूजा: पहले दिन इस फैशन के साथ करें पूजा

  • गुरुवार, 21 सितंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!