आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

मैं भी बनूं बेस्ट स्टूडेंट!

इंटरनेट डेस्क

Updated Fri, 07 Dec 2012 01:15 PM IST
जी हां, दूसरी इच्छा मेरे मन में कल से ये जग रही है कि मैं अपने कॉलेज की best student बनूँ (God promise... यकीन मानो :) ) और अपने ऊपर से वो "बाथरूम वाली लड़की" का टैग हटा दूं। पर उससे पहले मेरे हाथ-पांव ठन्डे पड़ने लगे। आज तक जो कभी नहीं किया आज पहली बार किया। डर रही थी कि कहीं माँ को पता ना चल जाए। पर जवानी की तरफ ये मेरा पहला कदम है। चल बेटा पिंकी, उतार कपड़े और घुस जा बाथरूम में! पैर शेव नहीं किये तो पिया तुझे मार डालेगी। बेचारी ने अपनी पूरी पॉकेटमनी तुझे ये electric shaver दिलाने में लगा दी।
वाह, वाह! पैर तो मेरे खूबसूरत हैं यार। अभी ले दे कर एक ही पैर को स्कर्ट पहनने लायक चिकना बना पाई थी मेरी परम-पूज्यनीय माता ने आके दरवाज़े को यूँ पीटा मानो पापा मेरे छोटे भाई अर्जुन को पीट रहे हों। वैसे जितनी ख़ुशी मुझे अर्जुन को पिटते देखकर होती है, उतना ही दुःख आज इकलौती खूबसूरत टांग के साथ कॉलेज जाने में हो रहा है। टांगों पर अविनाश को फिसलाने की फैंटेसी कैंसिल कर अपनी चिकनी-चुपड़ी बातों में फंसाने का प्लान मन में बनाते हुए जैसे ही मैं क्लास में घुसी, अविनाश को सामने पाया। उसे देखकर मेरी ज़बान जाने मेरे मुंह के किस कोने में घुस गयी। एक गूंगी-बहरी लड़की की तरह मैं चुपचाप अपने बेंच देवता की शरण में जाकर बैठ गयी।
कभी-कभी सोचती हूँ कि अपनी सारी पॉकेटमनी इकठ्ठा करके एक बंदूक खरीदूं और इन कमबख्त लड़कियों को गोली मार दूं, जो मेरे अविनाश को हर वक्त घूरती रहती हैं। इनपे नज़र रखने के चक्कर में मैं अपने अविनाश को निहार भी नहीं पायी, और क्लास भी खत्म हो गयी। इस बार एक बुड्ढा एकाउंट्स पढ़ाने आ गया। उसकी बैलेंसशीट ने पूरी क्लास को अनबैलेंस कर दिया था, कोई नींद मार रहा था, तो कोई मोबाइल निकाल कर गेम खेल रहा था या चैट कर रहा था।
मेरा मोबाइल तो शायद उस ज़माने का था जब सलीम के जन्म पर बादशाह अकबर ने खुश होकर गरीबों में फ़ोन बटवाये थे। आर्कियोलॉजिकल डिपार्टमेंट की खुदाई में निकला ये फ़ोन मेरे पिताश्री ने खरीद कर खुद पूरी ज़िन्दगी यूज़ किया और अब मुझे दे दिया। शर्म के मारे मैं वो तो नहीं निकाल सकती थी, तो सोचा के अपनी ब्यूटी स्लीप ही पूरी कर लूं। और जैसे ही मैंने सोने के लिए सर झुकाया, मेरी पीठ पर किसी ने हाथ रखा और कहा, "हैलो"। और जैसे ही मैंने सर उठा के देखा...
लो, मम्मी बुलाने लगी... कभी तो चैन से डायरी लिखने दिया करो यार!
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

CBSE के रिजल्ट के बाद तेजी से बढ़ी DU में एडमिशन प्रक्रिया

  • सोमवार, 29 मई 2017
  • +

'बाहुबली' जैसा आदर्श पति बनने की है चाहत, तो अपनाएं ये 5 आदतें

  • सोमवार, 29 मई 2017
  • +

रमजान 2017: सेहरी में खाएंगे ये 5 चीजें तो दिनभर नहीं लगेगी भूख

  • रविवार, 28 मई 2017
  • +

हर दर्द का मर्ज है आसानी से मिलने वाला ये तेल, जानें इसके फायदे

  • सोमवार, 29 मई 2017
  • +

एक ही फिल्‍म कर गुमनाम हुई ये 'गांव की छोरी', अब विदेश में खड़ा किया अरबों का साम्राज्य

  • रविवार, 28 मई 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top