आपका शहर Close

यूपी में सरकारी टीचर्स बनाएंगे मोबाइल एप, सिखाएंगे टी‌चिंग के नए ट्रेंड

ब्यूरो/अमर उजाला, लखनऊ

Updated Wed, 15 Nov 2017 04:48 PM IST
technical teachers will make app for basic education department
तकनीकी शिक्षा में डिग्री धारक सरकारी विद्यालयों के शिक्षक  बेसिक शिक्षा विभाग के लिए मोबाइल ऐप तैयार करेंगे। इस पर शिक्षकों के लिए शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी। पढ़ाने के तरीके सीखने के अलावा शिक्षक अपनी समस्याओं को भी ऐप के माध्यम से रख सकेंगे।
विभाग की मंशा सॉफ्टवेयर और मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार लाना है। राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) ने मोबाइल ऐप तैयार करने के लिए 25 शिक्षकों की एक टीम तैयार की है।

ये वो शिक्षक हैं जो बीटेक व एमसीए की पढ़ाई करने के बाद बीटीसी और बीएड कर सरकारी विद्यालयों में शिक्षक पद पर तैनात हैं। मोबाइल ऐप तैयार करने के लिए एससीईआरटी ने इन शिक्षकों को प्रशिक्षण देने का काम भी शुरू कर दिया है।

प्रशिक्षण 90 दिन का होगा। एससीईआरटी में इसी महीने बंगलुरू से आए विशेषज्ञ शिक्षकों को 30 घंटे का प्रशिक्षण दे चुके हैं। सर्व शिक्षा अभियान के संयुक्त निदेशक जय कुमार सिंह ने बताया कि ऐप के लिए सूचना एवं प्रौद्योगिकी विषय के तहत मॉड्यूल तैयार किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि मोबाइल ऐप डाउनलोड कर शिक्षण सामग्रियों को डाउनलोड कर सकते हैं। इससे पहले एससीईआरटी ई बुक्स व ई पोथी तैयार कर चुका है। यही नहीं समय-समय पर पढ़ाने के तरीकों में होने वाले बदलावों को भी वे ऐप के माध्यम से सीख सकेंगे।

इसके अलावा यदि किसी शिक्षक की शिकायत, समस्या व सुझाव हों तो भी ऐप के माध्यम से विभाग को दे सकता है। ऐप तैयार करने के लिए कई शिक्षकों के सुझाव मांगे गए थे। उनकी मांग के अनुसार ही इसे तैयार किया जाएगा।

कई अन्य एप तैयार करने की योजना
संयुक्त निदेशक अजय कुमार सिंह ने बताया कि इसके अलावा अन्य ऐप भी तैयार करने की योजना है। बेसिक शिक्षा विभाग के परिषदीय विद्यालयों में संचालित मध्याह्न भोजन योजना की  सुचारू रूप से मॉनीटरिंग के लिए भी एक ऐप तैयार किया जाएगा।

इसके अलावा स्कूल के लिए होने वाली तमाम गतिविधियां, शैक्षिक कैलेंडर, नोटिस व आदेश के लिए भी एक ऐप तैयार होगा। खंड शिक्षा अधिकारियों के लिए भी एक ऐप तैयार करने की योजना है। विद्यालयों में शिक्षक कैसे पढ़ा रहे हैं, विद्यालय संचालित करने में लापरवाही तो नहीं बरती जा रही है, ऐेसे तमाम पहलुओं की मॉनीटरिंग के लिए भी ऐप तैयार किया जाएगा।
Comments

स्पॉटलाइट

'पद्मावती' विवाद पर दीपिका का बड़ा बयान, 'कैसे मान लें हमने गलत फिल्म बनाई है'

  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

'पद्मावती' विवाद: मेकर्स की इस हरकत से सेंसर बोर्ड अध्यक्ष प्रसून जोशी नाराज

  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

कॉमेडी किंग बन बॉलीवुड पर राज करता था, अब कर्ज में डूबे इस एक्टर को नहीं मिल रहा काम

  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

हफ्ते में एक फिल्म देखने का लिया फैसला, आज हॉलीवुड में कर रहीं नाम रोशन

  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

SSC में निकली वैकेंसी, यहां जानें आवेदन की पूरी प्रक्रिया

  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +

Most Read

सेना भर्ती में 2756 ने लगाई दौड़, 345 ही पास कर सके ग्राउंड टेस्ट

345 cleared ground test in army recruitment at una
  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय ने जारी की एमए एजूकेशन की संशोधित डेटशीट

 hpu issued revised date sheet of ma education
  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

सीबीएसई नहीं कराएगा प्रतियोगी परीक्षाएं, अब इनके हाथों होगी कमान..

CBSE Will do competitive examinations for the last time this year
  • बुधवार, 15 नवंबर 2017
  • +

यहां हो रही सेना में एआरओ मंडी की भर्ती, तैयारियां पूरी

recruitment for aro mandi in army in una
  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

मोबाइल निर्माता कंपनी में नौकरी का मौका, 21 नवंबर को होंगे साक्षात्कार

recruitment in mobile manufacturing company for various post
  • मंगलवार, 14 नवंबर 2017
  • +

बॉक्सिंग प्रतियोगिता में रामपुर कॉलेज की लड़कियां ओवरऑल चैंपियन

rampur college girl become over all champion in boxing
  • शनिवार, 18 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!