आपका शहर Close

बिजली कटौती से सिंचाई का संकट, किसानी हुई मुश्किल

Lucknow Bureau

Lucknow Bureau

Updated Sun, 17 Sep 2017 10:03 PM IST
बहराइच। जिले में हो रही बेतहासा बिजली कटौती से हाहाकार मचा हुआ है। शहरी क्षेत्र में 12 घंटे की ही आपूर्ति हो रही है। तो वहीं ग्रामीण इलाकों में छह से आठ घंटे की ही आपूर्ति मिल पा रही है। फसलों को बचाने के लिए किसानों को पंपिंग सेट का सहारा लेना पड़ रहा है। नलकूप भी दगा दे रहे हैं।
बहराइच जनपद की 36 लाख आबादी को बिजली आपूर्ति करने के लिए बहराइच जनपद में 30 विद्युत उपकेंद्र स्थापित हैं। जिले में लगभग 7500 ट्रांसफार्मरों के माध्यम से आपूर्ति की जा रही है। लेकिन बीते एक सप्ताह से बिजली का रोस्टर पूरी तरह ध्वस्त हो चुका है। शहरी क्षेत्र में बेतहासा हो रही बिजली कटौती के कारण 10 से 12 घंटे की ही आपूर्ति मिल पा रही है। जबकि ग्रामीण इलाकों में छह से आठ घंटे की ही बिजली आपूर्ति हो पा रही है। बिजली आपूर्ति का रोस्टर धवस्त होने से ग्रामीण इलाकों में खेती किसानी करना भी मुश्किल होता जा रहा है। बहराइच जनपद में एक लाख 60 हेक्टेयर में शंकर, सुगंधित बासमती और मोटे धान की बोआई की गई है। तो वहीं 80 हजार हेक्टेयर में मक्के की भी बोआई हुई है। इसी तरह ज्वार, बाजरा, अरहर, मूंगफली, सोयाबीन और गन्ने की फसल की भी बोआई की गई है। इन फसलों को बेहतर उत्पादन के लिए सिंचाई किए जाने की आवश्यकता वर्तमान में पड़ रही अधिक गर्मी के कारण जरूरी है। लेकिन बिजली कटौती किए जाने का कारण ग्रामीण इलाकों में निजी पंपिंग सेट के सहारे किसानों को सिंचाई करने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। किसान परेशान हैं। लेकिन सरकार उनकी ओर कोई ध्यान नहीं दे रही है।
बढ़ जाएगी लागत, सरकार बढ़ाए समर्थन मूल्य
विकास खंड शिवपुर के ग्राम असवा मोहम्मदपुर निवासी किसान काशी और ओरीलाल ने कहा कि धान की फसल सूखती चली जा रही है। उसे बचाने के लिए हर 15 दिन पर पानी देने की मजबूरी है। लेकिन बिजली कटौती के चलते निजी संसाधनों से खेत में पानी लगाना पड़ रहा है। ऐसे में लागत निकलनी भी मुश्किल हो जाएगी। मिहींपुरवा के ग्राम सेमरी निवासी राजेंद्र व संतोष वर्मा ने कहा कि फसल की लागत बढ़ने के कारण सरकार को धान के समर्थन मूल्य 1550 रुपये को बढ़ाते हुए लगभग 1600 के करीब करना चाहिए।
इन फसलों को होगा ज्यादा नुकसान
कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिक डॉ. एमवी सिंह ने बताया कि जनपद में 3800 हेक्टेयर में अरहर की बोआई हुई है। वहीं 1500 हेक्टेयर में मूंगफली और 90 हेक्टेयर में सोयाबीन की बोआई की गई है। यह कैश क्राप होती हैं। ऐसे में इन फसलों को सिंचाई की अधिक जरूरत होती है। सिंचाई न होने के कारण इन फसलों को अधिक नुकसान हो सकता है।
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

ऋषि कपूर ने पर्सनल मैसेज कर महिला से की बदतमीजी, यूजर ने कहा- 'पहले खुद की औकात देखो'

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

पुनीश-बंदगी ने पार की सारी हदें, अब रात 10.30 बजे से नहीं आएगा बिग बॉस

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

19 की उम्र में 27 साल बड़े डायरेक्टर से की थी शादी, जानें क्या है सलमान और हेलन के रिश्ते की सच

  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +

साप्ताहिक राशिफलः इन 5 राशि वालों के बिजनेस पर पड़ेगा असर

  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +

ऐसे करेंगे भाईजान आपका 'स्वैग से स्वागत' तो धड़कनें बढ़ना तय है, देखें वीडियो

  • सोमवार, 20 नवंबर 2017
  • +

Most Read

अपशब्द लिखकर घरों में फेंकी गईं पर्चियां

public read Abusive language on voter slips in kanpur
  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

हिजबुल का दावा- हमने भारतीय सेना से मरवाए पाक आतंकी, कश्मीर की जंग हमारी

HIZBUL TERRORIST VIDEO GOES TO VIRAL ON SOCIAL MEDIA IN SRINAGAR
  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +

J&K: हंदवाड़ा में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने घेरकर मार गिराए लश्कर के 3 आतंकी

Three LeT terrorists all Pakistani neutralized in Handwara district of North Kashmir
  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +

पद्मावती विवाद पर आसाराम ने खोला मुंह, जानिए क्या कहा

Asaram's statement on Padmavati controversy
  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +

हार्दिक पटेल मामले में अखिलेश का बयान, कहा- 'किसी की प्राइवेसी को सार्वजनिक करना बहुत गलत बात'

akhilesh yadav statement about hardik patel cd case
  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

 अभिनेता राजपाल की बेटी को आज ब्याहने जाएंगे संदीप, ये होंगी खास बातें

Sandeep will go to marry Rajpal's daughter
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!