आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

दूर रहें रक्तदान से जुड़ी इन गलतफहमियों से

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क

Updated Thu, 06 Dec 2012 05:27 PM IST
myths related with blood donation
'रक्तदान करें, अच्छा लगता है।' रक्तदान को लेकर यह विचार अक्सर हमारे मन में आता है। कुछ लोग इसके महत्व को समझते हुए समय-समय पर रक्तदान करते भी हैं लेकिन कई लोग इसकी इच्छा होते हुए भी रक्तदान नहीं कर पाते। वजह, इससे जुड़ी भ्रांतियां जो भले ही वास्तविकता में निराधार हों पर हमारे मन में इस तरह घर कर जाती हैं कि हम इस नेक काम में चाहकर भी शरीक होने से कतराते हैं। तो चलिए, आज हम आपको रक्तदान से जुड़ी ऐसी ही भ्रांतियों और वास्तविकता की जानकारी देते हैं।
रक्तदान से होगी खून की कमी
अगर आप यह सोचते हैं कि रक्तदान करने के बाद आपके शरीर में खून की कमी हो जाएगी तो आप बिल्कुल गलत हैं। रक्तदान के 48 घंटे बाद रक्त की क्षतिपूर्ति हो जाती है। इतना ही नहीं, अगर आप पूरी तरह स्वस्थ हैं तो हर तीन महीने में एक बार रक्तदान बेझिझक करवा सकते हैं।

रक्तदान से सेहत को नुकसान
रक्तदान पूरी तरह सुरक्षित है और इससे आपकी सेहत को कोई नुकसान नहीं होगा। असलियत तो यह है कि यह दिल की बीमारियों की आशंका कम करने में सहायक है और शरीर में अतिरिक्त आयरन को जमने से रोकता है। दूसरे ओर, रक्तदान के पहले दाता का शारीरिक परीक्षण किया जाता है और हिमोग्लोबिन 12.5 प्रतिशत से कम होने पर रक्तदान नहीं करने दिया जाता है।

रक्तदान में दर्द होता है
रक्तदान के बारे में कुछ लोग मानते हैं कि यह एक दर्दनाक प्रक्रिया है लेकिन असलियत यह है कि इसमें दर्द बिल्कुल नहीं होता। सिर्फ कुछ सेंकड के लिए आपको सुई चुभोने का एहसास होगा, इससे अधिक कुछ भी नहीं।

रक्तदान के बाद करना होगा एक दिन का आराम
अगर आपको यह लगता है कि रक्तदान करने के बाद आपको पूरे एक दिन आराम करना पड़ेगा और इसके लिए ऑफिस से छुट्टी लेनी होगी तो ऐसा नहीं है। आप रक्तदान के बाद भी सामान्य रुटीन अपना सकते हैं बशर्ते आप थोड़ी सावधानी बरतें। जैसे दिन में 10 से 12 ग्लास पानी पिएं, एक-दो दिन एल्कोहल, धूम्रपान आदि से दूर रहें। इसके अलावा तीन से चार घंटे तक ड्राइविंग और धूप में आने से थोड़ा बचें।

मैं हाई बीपी का मरीज हूं तो रक्तदान कैसे करूं
क्या आपके मन में भी यह शंका बार-बार आती है? जब तक आपका ब्लड प्रेशर रक्तदान के समय 180 सिस्टोलिक से कम और 100 डाइस्टोलिक तक रहता है, आप आराम से रक्तदान कर सकते हैं। बीपी की गोलियां खाने से रक्तदान का कोई संबंध नहीं है।

उम्रदराज हैं तो नहीं कर सकते रक्तदान
ऐसा बिल्कुल नहीं है कि अधिक उम्र वाले लोग रक्तदान नहीं कर सकते हैं। जब तक चिकित्सकीय परीक्षण के हिसाब से आप स्वस्थ माने जाएंगे तब तक आप बेहिचक रक्तदान कर सकते हैं।

रक्तदान से हो सकता है एचआइवी संक्रमण
जब तक आप सुरक्षित तरीके से रक्तदान करेंगे किसी भी प्रकार के संक्रमण का सवाल नहीं। आजकल डिस्पोजेबिल सुई का जमाना है जिसे एक बार इस्तेमाल में लाने के बाद फेंक दिया जाता है। सावधानी के साथ रक्तदान करने से संक्रमण नहीं फैलता बल्कि खुशी मिलती है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

रजनीकांत की बेटी सौंदर्या ने ऑटो ड्राइवर को मारी टक्कर तो ड्राइवर ने दी ये धमकी..

  • मंगलवार, 28 फरवरी 2017
  • +

फिल्म 'कभी कभी' के वो 5 किस्से जो आप नहीं जानते होंगे

  • मंगलवार, 28 फरवरी 2017
  • +

इस हीरो ने किया प्यार का इजहार, बस हीरोइन की 'हां' का इंतजार

  • मंगलवार, 28 फरवरी 2017
  • +

Airtel दे रहा ₹145 में 14GB डाटा और फ्री कॉलिंग

  • मंगलवार, 28 फरवरी 2017
  • +

रणदीप हुड्डा का ओपन लेटर- 'हंसने के लिए मुझे फांसी पर मत लटकाओ'

  • मंगलवार, 28 फरवरी 2017
  • +

Most Read

उबले अंडे बेहतर हैं या ऑमलेट? खाने से पहले पढ़ें ये खबर

boil egg or fried egg, which one is better?
  • बुधवार, 24 अगस्त 2016
  • +

खराब गले के लिए रामबाण है हल्दी का एक टुकड़ा

benefis of haldi
  • गुरुवार, 1 सितंबर 2016
  • +

ज्यादा नमक खाने से घटती है उम्र

excess salt can harm your health
  • शुक्रवार, 19 अगस्त 2016
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top