आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

लगातार बैठने पर घटेगी उम्र, ऐसे बदले सिटिंग हैबिट

Priyanka Padlikar

Priyanka Padlikar

Updated Mon, 06 Aug 2012 04:50 PM IST
change sitting habits live longer
अगर आप भी रोजाना देर तक ऑफिस में बैठकर काम करते हैं तो इस जानकारी के बाद आप जरूर लगातार देर तक बैठे रहने से बचने का उपाय खोजेंगे। अमेरिका के लुसियाना विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने हाल में एक शोध में माना है कि जो लोग दिन में तीन घंटे से अधिक नहीं बैठते, उनका जीवन दो साल और बढ़ जाता है।
विशेषज्ञों ने माना कि हमारी इस जीवनशैली की वजह से लगातार मोटापे, हृदय रोग, मधुमेह और जीवनशैली संबंधित रोगों के मामले बढ़ रहे हैं। 'बीएमजे ओपन' पत्रिका में प्रकाशित इस शोध में 19 से 90 वर्ष तक के 1,67,000 लोगों पर अध्ययन किया गया और पाया गया कि देर तक बैठने का हमारी उम्र से सीधा संबंध है।

इतना ही नहीं, उन्होंने इस शोध में यह भी पाया कि अमेरिका में 27 प्रतिशत लोगों की मृत्यु के पीछे एक कारण यह भी है कि वे बहुत देर तक बैठते हैं और 19 प्रतिशत लोगों की मृत्यु का संबंध बहुत अधिक देर तक टीवी देखने से है।

अगर आप भी दफ्तर में बहुत देर तक बैठकर काम करते हैं या फिर लगातार कई घंटों तक बैठकर टीवी देखते हैं तो सबसे पहले लगातार बैठने की आदत छोड़ें और अपनी बैठने की आदत में थोड़ा सुधार करें।

देर तक बैठते हैं तो अपनाएं ये टिप्स

  • देर तक बैठकर काम करने के ल‌िए जरूरी है कि बीच-बीच में छोटे-छोटे ब्रेक लें और थोड़ा टहल लें। अगर आपके लिए बार-बार ऑफिस में टहलना मुमकिन नहीं तो थोड़े-थोड़े अंतराल पर शरीर को स्ट्रेच करें। आप चाहें तो उसी जगह खड़े होकर भी स्ट्रेच कर सकते हैं।
  • लगातार बैठकर काम करते हैं तो ब्रेक के लिए आप लंबी सांस छोड़ें और शरीर को मूवमेंट दें। इससे मांसपेशियों का लचीलापन बना रहेगा।  कंप्यूटर पर बैठकर काम करते वक्त आपके बैठने की मुद्रा भी सही होनी बहुत जरूरी है। काम करते वक्त ध्यान रखें कि आपके कंधों को आराम मिले।
  • हिप्स और घुटनों को समान स्तर पर रखें। आपकी कोहनी 90 डिग्री के कोण पर मुड़े और सिर  को बहुत आगे करके स्क्रीन पर न देखें।
  • ऑफिस में लगातार बैठना हमारी जरूरत है और मजबूरी भी, लेकिन अगर हम अपनी दिनचर्या में योग आर व्यायाम को तरजीह दें तो हम लगातार बैठने से संबंधित कई समस्याओं से दूर रह सकते हैं। भुजंगासान, शलभासन, सुप्त वीरासन आदि कई ऐसे आसन हैं जिन्हें नियमित तौर पर करने से इस तरह की समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है।  

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

इस फूल की ब्लू चाय ग्रीन टी को देती है मात, जानें कई फायदे

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

मल्टी टैलेंटेड हैं 'गोरी मेम', इनके हुनर के आगे बॉलीवुड हीरोइनें पड़ जाती हैं फीकी

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

चीजें रखकर भूल जाते हैं तो रोजाना खाएं 3 काजू, जानें कई फायदे

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

ये चार 'A' बनाएंगे आपको 'मिस्टर कूल', जानें कैसे

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

असल जिंदगी में इतनी बोल्ड है टीवी की ये एक्ट्रेस, तस्वीरें देख नहीं होगा यकीन

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

Most Read

एक्ट्रेस सोनाक्षी सिन्हा ने शेयर किया अपना फिटनेस फंडा!

sonakshi sinha shares a fitness funda at instagram
  • सोमवार, 19 जून 2017
  • +

हार्ट अटैक से भी ज्यादा खतरनाक है कार्डियक अरेस्ट, जानिए इसके लक्षण

difference between a cardiac arrest and a heart attack
  • गुरुवार, 18 मई 2017
  • +

नपुंसक बना देगा प्लास्टिक की बोतल में पानी पीना, संभल कर पिएं

The Harmful Effect of Using Plastic Drinking Bottles
  • मंगलवार, 28 फरवरी 2017
  • +

एक्सरसाइज का सबसे जरूरी नियम जान लें, हमेशा रहेंगे फायदे में

excercise rules- doing yoga before breakfast is more benificial
  • गुरुवार, 4 मई 2017
  • +

मार्शल आर्ट एक्सपर्ट बन रहे हैं सुशांत सिंह राजपूत, शेयर किया वीडियो

Sushant Singh Rajput sets the new fitness standard for the film industry
  • बुधवार, 17 मई 2017
  • +

दिमाग को करना हैं तेज तो इस तरह झपकाएं पलकें ​

blinking your eyes for sharp mind
  • गुरुवार, 9 मार्च 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top