आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Azeez Filmi Nagme ›   bollywood actress rekha birthday rekha evergreen song in aankhon ki masti
bollywood actress rekha birthday rekha evergreen song in aankhon ki masti

मेरे अज़ीज़ फिल्मी नग़मे

क्योंकि रेखा तो बस रेखा हैं…

अतुल सिन्हा, नई दिल्ली

4641 Views
मुंबई के खूबसूरत बैंड स्टैंड और लैंड्स एंड के एक तरफ समंदर की ऊंची-ऊंची लहरें दिखती हैं तो सड़क की दूसरी तरफ फ़िल्मी सितारों के बंगले। लेकिन सबसे ज़्यादा भीड़ आपको नज़र आएगी शाहरूख खान के बंगले मन्नत के सामने। यहां से चंद कदम दूर हरदिल अज़ीज़, बेहद खूबसूरत और अपनी आंखों से बहुत कुछ कह देने वाली रेखा का ‘बसेरा’ है। रेखा जी की ही तरह खूबसूरत और उनकी ज़िंदगी की ही तरह एकदम एकांत सा है उनका बसेरा। यहां न तो मन्नत जैसी भीड़ है, न उनके दरवाज़े पर फोटो खिंचवाने में किसी की दिलचस्पी। उनके जन्मदिन को लेकर कोई ख़ास हलचल कहीं नहीं दिखती, सिवाय कुछ टीवी चैनलों पर उनके गाने, फ़िल्मी सीन्स और उनपर कभी कभार कोई कार्यक्रम दिखाने के अलावा जल्दी आपको कुछ भी नज़र नहीं आता। रेखा जी इंटरव्यू देती नहीं, मीडिया से ख़ुद को दूर रखती हैं, गाहे बगाहे किसी जलसे में अगर गईं भी तो उनका अतीत उनका पीछा नहीं छोड़ता। कभी कभार किसी शो में अगर दिखीं भी तो अपने दायरे में सिमटी नज़र आईं। एकाध टीवी शो में बेशक उन्हें थोड़ा बहुत हंसी मज़ाक करते देखा गया लेकिन ज़्यादातर वो लोगों के बीच आने से बचती हैं। इसी बसेरा में उनका वक़्त कटता है। कभी कभार कोई फ़िल्म करती हैं, लेकिन ज़्यादा वक़्त अपने अतीत के पन्ने पलटने में बिताती हैं। 4 साल से राज्यसभा की सदस्य हैं, लेकिन दिखती कभी कभार हैं, सबसे कम आने वालों में हैं और ख़ामोशी से बस ख़बर बना देने वालों में हैं। 

63 साल की यह बेहद खूबसूरत अदाकारा जब भी परदे पर आती हैं, किसी न किसी नए अवतार में और पहले से और ग्लैमरस दिखती हैं। उनकी निजी ज़िंदगी के उतार चढ़ावों की तरह उनके करियर ने भी कई करवट बदले। लेकिन आख़िर रेखा में ऐसा क्या है जो आज की अभिनेत्रियों में नहीं? आख़िर रेखा की जिस खूबसूरती की बात बरसों से की जाती है और पूरी दुनिया जिसकी दीवानी है, उस खूबसूरती का राज़ क्या है? क्या ये खूबसूरती उन्हें बचपन से मिली कुदरती खूबसूरती है या वक़्त के साथ उन्होंने ख़ुद को इतना खूबसूरत बना लिया है? इन सवालों के जवाब जानने के लिए आपको रेखा की एकदम शुरूआती दौर की फ़िल्में देखनी होंगी या उस दौर की रेखा को याद करना होगा जब उन्होंने इंडस्ट्री में कदम रखा था। 

जाने माने तमिल अभिनेता जेमिनी गणेशन और तेलुगु अभिनेत्री पुष्पावली की बेटी रेखा जब 10 अक्टूबर 1954 को चेन्नई में जन्मीं तो उनका नाम था भानूरेखा गणेशन। रेखा के माता और पिता के निजी ज़िंदगी में न जाते हुए हम उस रेखा की बात करते हैं जिनकी पहचान एक बेहतरीन और संजीदा अभिनेत्री की बनना शुरू हुई 1975 के बाद से। विरासत में मिली उनकी अभिनय प्रतिभा को निखारने में हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री ने ही सबसे ज़्यादा मदद की और वो एक ‘ग्लैमर गर्ल’ के तौर पर फ़िल्म ‘सावन भादो’ के बाद से स्थापित हो गईं। 12 साल की उम्र में एक बाल कलाकार के तौर पर सबसे पहले उन्होंने तेलुगु फ़िल्म ‘रंगूला रत्नम’ में काम किया और कुछ साल तक तमिल, कन्नड़ और तेलुगू फिल्मों में छोटी-मोटी भूमिकाएं करती रहीं।  आगे पढ़ें

इन आँखों की मस्ती के दीवाने हज़ारों हैं

Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!