आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

Home›  kavya›  Mere Azeez Filmi Nagme

बताएं किसी ऐसी फिल्मी गीत के बारे में जिसके बोल आपके दिल में बसते हैं

'मिलो ना तुम तो हम घबराएं, मिलो तो आंख चुराएं...' इश्क़ की कश्मकश बयां करता गीत

  • शरद मिश्र, नई दिल्‍ली
  • सोमवार, 18 सितंबर 2017

जीवन में सबसे कठिन काम है इश्क़ को मुकम्मल करना। कई प्रेम कर लेते हैं पर संकल्प के अभाव में उसे हासिल नहीं कर पाते हैं। जीवन भर भटकते रहते हैं।

'ज़िंदगी की न टूटे लड़ी...' मख़मली एहसास से जोड़ने की कोशिश है यह गीत  

  • शरद मिश्र, नई दिल्‍ली
  • बुधवार, 13 सितंबर 2017

1981 में रिलीज़ फ़िल्म क्रांति का यह गीत ज़िंदगी की बिखरी कड़ियों को प्यार के मख़मली एहसास से जोड़ने का एक बेहतर ज़रिया हो सकता है।

'या दिल की सुनो दुनियावालों'...टूटे दिल की मख़मली आह

  • आसिफ इकबाल, नई दिल्ली
  • रविवार, 10 सितंबर 2017

ज़िंदगी एक ऐसी किताब है, जिसके हर सफ़े पर मुख़्तलिफ़ पल बिखरे होते हैं। ये पल सुख-दुख, ग़म-ख़ुशी, हंसना-रोना, पाना-खोना, जैसे अहसासों को समेटकर एक मुकम्मल वक़्त की तामीर करते हैं।

देखो ओ दीवानो, तुम ये काम ना करो...

  • अमर शर्मा, नई दिल्ली
  • शुक्रवार, 25 अगस्त 2017

फ़िल्म 'हरे रामा हरे कृष्णा' का ये गाना धर्म के असली मर्म को समझाता है। आज हम ऐसे समय में हैं जहां धर्म की आड़ में लोगों अपने व्यवसाय, कुकृत्यों को भी जायज़ ठहराने की कोशिश करते हैं।

दग़ाबाज़ दोस्त पर तोहमतें लगाता यह गीत हौसला भी देता है 

  • शरद मिश्र, नई दिल्‍ली
  • सोमवार, 21 अगस्त 2017

प्रेम में दगा मिलने से आदमी बिखर जाता है। यह सबको मालूम है। इसलिए लोग प्रेम जैसे संवेदनशील मसले को ज्यादा गहराई से नहीं लेते हैं।

कस्मे वादे प्यार वफ़ा सब बाते हैं बातों का क्या...

  • विजय कुमार, नई दिल्‍ली
  • मंगलवार, 15 अगस्त 2017

1967 में रिलीज फिल्म उपकार ने फिल्म कलाकार मनोज कुमार को भारत कुमार की संज्ञा दिलाई थी। लोकप्रिय फिल्म में एक से एक बेहतरीन गीत थे। सभी ने बॉलीवुड ने धूम मचाई थी।

View More
पाठकों के द्वारा भेजे गए
अन्य
Top
Your Story has been saved!