आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   meri kalam
meri kalam
मेरे अल्फाज़

पुष्प गेंदा

  • Yash Soni
  • मंगलवार, 18 जुलाई 2017
गेंदा गुल फूलों का राजा
हर ऋतु में मिल जाता ताजा ।

सुर नर मुनि सबके मन भाता
विविध रंग सुगंध विख्याता ।

निष्कंटक अतिशय मनभावन
रोग शोक भव व्याधि नसावन।

सहज सुलभ सुन्दर गुणखानी
काका कवि ने कीर्ति बखानी ।

☆☆☆☆☆☆☆☆
महाबली सोनी काका जलालपुरी
दीजिए अपनी टिप्पणी
सर्वाधिक पढ़े गए
21 sher on love
इरशाद

काजू भुने प्लेट में ह्विस्की गिलास में...अदम गोंडवी की कविता

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • शुक्रवार, 21 जुलाई 2017
इरशाद

फ़िराक़ गोरखपुरी: शिकायत तेरी दिल से करते करते, अचानक प्यार तुझ पर आ गया है

  • काव्य डेस्क-अमर उजाला, नई दिल्ली
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
अन्य
Top
Your Story has been saved!