आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   labon ne geet chaht ka tarrnum me sunaya h
labon ne geet chaht ka tarrnum me sunaya h
मेरे अल्फाज़

लबों ने गीत चाहत का तरन्नुम में सुनाया है...

तुम्हें हमने सनम जब से निगाहों में छुपाया है
लबों ने गीत चाहत का तरन्नुम में सुनाया है

तुम्हें पाकर जहां पाया कोई न और चाहत है
जो लब तक आ गयी सबके वही अपनी मोहब्बत है

मेरा कद था बहुत छोटा उसे अम्बर बनाया है
तुम्हें हमने सनम जब से निगाहों में छुपाया है

लबों ने गीत चाहत का तरन्नुम में सुनाया है
धरा सी तुम रहीं हर पल न हरगिज़ साथ छोड़ा है

मेरी खातिर ज़माने भर से नाता तुमने तोड़ा है
मेरे गुस्से, मेरी जिद ने तुम्हें अक्सर रुलाया है

तुम्हें हमने सनम जब से निगाहों में छुपाया है
लबों ने गीत चाहत का तरन्नुम में सुनाया है
           
© रोहित कृष्ण नंदन

उपरोक्त रचनाकार का दावा है कि ये उनकी स्वरचित कविता है। 
दीजिए अपनी टिप्पणी
सर्वाधिक पढ़े गए
21 sher on love
इरशाद

काजू भुने प्लेट में ह्विस्की गिलास में...अदम गोंडवी की कविता

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • शुक्रवार, 21 जुलाई 2017
इरशाद

फ़िराक़ गोरखपुरी: शिकायत तेरी दिल से करते करते, अचानक प्यार तुझ पर आ गया है

  • काव्य डेस्क-अमर उजाला, नई दिल्ली
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
अन्य
Top
Your Story has been saved!