आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Newspaper
Newspaper

मेरे अल्फाज़

अख़बार

Rajendra Singh

40 कविताएं

74 Views
याद है तुम्हें वो दिन
जब अखबार ले हाथ में
दो प्याली चाय ले साथ में
संग बैठ बिताते थे
सुबह और शामें सुनहरी

कैसे वो ज़ुल्फें झटका
अपने नैनों को मटका
उड़ा ले जाती थी
वो रंगीन पन्ना अखबार का

अपने किसी प्रिय की खबर
किस तरह काट कर
फाइल में सजा देते थे
कैसे चटखारे ले सुनाते थे
रंग बिरंगी खबरें
कोई खूबसूरत फोटो देख मचल
कितना सताते थे उसे

अपनी प्रेयसी से ज्यादा इन्तजार तो
तुम अखबार वाले का किया करते थे
पर अब तो अखबार वाले का
नाम तक ना जानते

मुझ अखबार को तो बिना पढ़े ही
पटक देते हो रद्दी में
और पढ़ लेते हो खबरें
अपने अपने मोबाइल में
अलग कमरों में बैठ
एकान्त अकेले में

पहले की तरह कहाँ मांग पाते
किसी अखबार का पन्ना
अजनबी से
सार्वजनिक वाचनालय तो
जानते भी नहीं
आजकल के बच्चे
भाई बहिन भी कहाँ लड़ते
अब अखबार के वास्ते

सच कहूँ
बड़ा तरस आता है
तुम लोगों पर अब
क्या कमी नहीं खलती
उस चाय के प्याले की
उन बातों की जो बैठ करते थे
मुझे पढ़ते पढ़ते
उन झगड़ों की जो करते थे
मेरे वास्ते

मेरा तो कुछ नहीं गया
मैं तो पहले भी रद्दी में ही जाता था
पर अब
मेरे बिना हो रही रद्दी
तुम लोगों की जिन्दगी भी।।

- प्रभात

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!