आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   bad means red light area

मेरे अल्फाज़

बस्ती जिसे गन्दा कहा

Raghavendra Kumar

6 कविताएं

71 Views
अन्त:विचारों में उलझा
न जाने कब
मैं
एक अजीब सी बस्ती में आ गया ।
बस्ती बड़ी ही खुशनुमा
और रंगीन थी ।
किन्तु वहां की हवा में
अनजान सी उदासी थी ।
खुशबुएं वहां की
मदहोश कर रहीं थीं ।
पर एहसास होता था
घोर बेचारगी का
टूटती सांसे जैसे
फ़साने बना रही थीं ।
गजरे और पान की दूकानों
एक ही साथ थीं ।
मधुशालाएं जगह-जगह
प्यालों में लिए हाला थीं ।
चमकती इमारतों में
दमकते हुए चेहरे थे ।
मानो चिलमनों से
चाँद निकल आए थे ।
यहां अंधेरे को चीरकर नज़रें
उजली चाँदनी में मिलती हैं ।
यही तो हैं वह बस्तियां
जो सभ्य समाज की
गन्दगी निगलती हैं ।
शरीफ़ों की निगाहों में
ये एक बदनाम बस्ती है ।
शराफ़त किन्तु हर लम्हा
यहाँ हर ओर बिकती है ।
पुरुषत्व की मैला
इसी बस्ती में साफ होती है ।
ख़ुद मैली होकर यह बस्ती
हर शय जिहाद करती है ।
सियासत के फ़सादों से
बड़ी ही दूर यह बस्ती ।
मुसलमान और हिन्दू में
कभी कोई भेद नहीं करती ।
मग़र क्यों लोग कहते हैं
इसे बदनाम सी बस्ती ।
यहाँ तो तन मन लुटता है
ये ख़ुशियाँ हैं मग़र कैसी ।
जो लुटता है वही क़ाफ़िर,
सफेद चादर ओढ़े जानवर
इंसान कहा जाता है ।
गंदगी साफ़ करने वाली
बस्तियों को यहाँ नाजायज़
और बदनाम कहा जाता है ।
ऐ ख़ुदा जहाँ ग़रीबों की इज़्ज़त
और इंसान की जान सस्ती है,
क्या वो नहीं बदनाम बस्ती है ?
आखिर ऐसी रियाया को क्यों बनाया ?
जिससे अच्छी तवायफ़ों की बस्ती है ।।

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!