आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   dreams
मेरे अल्फाज़

ख़्वाब

ख़्वाब
हां ख़्वाब ही तो है
ये रिश्तें
आभासी दुनिया के,
कहने भर से नही होता
कोई यहां अपना.....

जागती आंखों से
कुछ ख़्वाब है
देखे मैंने....
कुछ टूटकर बिखरे
तो
कुछ को सहेजकर
रखा मैंने....

हे ईश्वर....बस
इतनी इनायत करना,
भले ही टूटकर
बिखरुं मैं पर
ख़्वाब न बिखरने देना
माना है जिन्हें अपना
साथ उनके ताउम्र
चलने देना....

आंखों मे मेरे
ये हसीं ख़्वाब
हमेशा
सजाये रखना ,
जैसी हूं मैं
मुझे वैसी ही
बनाये रखना !!

✍मोहिनी गुप्ता
दीजिए अपनी टिप्पणी
सर्वाधिक पढ़े गए
poem of adam gondvi
इरशाद

केदारनाथ सिंह की प्यार पर सबसे छोटी कविता

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • सोमवार, 17 जुलाई 2017
इरशाद

राजेश जोशी: हवा के हज़ार घोड़े, हजार घोड़ों पर आई रात...

  • काव्य डेस्क-अमर उजाला, नई दिल्ली
  • मंगलवार, 18 जुलाई 2017
अन्य
Top
Your Story has been saved!