आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

Home ›   Kavya ›   Mere Alfaz ›   Ever lasting hope
Ever lasting hope
मेरे अल्फाज़

बूढ़ी होती आंखों को इंतज़ार...

  • Aarti Sharma
  • मंगलवार, 18 जुलाई 2017
बरस बीत गये कई... उस सूई और धागे की कश्मकश मे..
पर वो डोर नहीं बंध पाती...आंखो के धूंधलके से हार जाती है..
कांपते हाथों ने जब से उस लिफाफे को खोला है...
एक माप उसके ज़हन में है..जो अब धीरे धीरे बचपन को पार करेगी..
होने को तो फासला मीलों पार का ही है...और बाट जोहना अब उस उम्र की नीयती है..
फिर भी आस लगाये वो तारीख़ें पढ़ती है...
आज एक और बरस निकला है..माप भी कुछ बढ़ी होगी..
खैर अब फिर उसी कश्मकश में जुटना है..
धागा पिरोने पड़ोस में फिर आवाज लगाती है...


उपरोक्त रचनाकार का दावा है कि ये उनकी स्वरचित कविता है। 
दीजिए अपनी टिप्पणी
सर्वाधिक पढ़े गए
21 sher on love
इरशाद

काजू भुने प्लेट में ह्विस्की गिलास में...अदम गोंडवी की कविता

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • शुक्रवार, 21 जुलाई 2017
इरशाद

फ़िराक़ गोरखपुरी: शिकायत तेरी दिल से करते करते, अचानक प्यार तुझ पर आ गया है

  • काव्य डेस्क-अमर उजाला, नई दिल्ली
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
अन्य
Top
Your Story has been saved!