आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   smallest poem on separation
smallest poem on separation
इरशाद

केदारनाथ सिंह की जुदाई पर सबसे छोटी कविता

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • मंगलवार, 18 जुलाई 2017
मैं जा रही हूं – उसने कहा
जाओ – मैंने उत्तर दिया
यह जानते हुए कि जाना
हिंदी की सबसे खौफ़नाक क्रिया है।

(ये कविता केदारनाथ सिंह ने 1978 में लिखी थी।)

साभार - राजकमल प्रकाशन
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
famous urdu poet rahat indori ghazal aankh mein pani rakho honton pe chingari rakho
इरशाद

रामधारी सिंह 'दिनकर' : कृष्ण की चेतावनी 

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • शुक्रवार, 22 सितंबर 2017
इरशाद

कुँवर नारायण : हे राम, जीवन एक कटु यथार्थ है

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • सोमवार, 18 सितंबर 2017
अन्य
Top
Your Story has been saved!