आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   One of the most famous Urdu poet Jigar Moradabadi best ghazal
One of the most famous Urdu poet Jigar Moradabadi best ghazal

इरशाद

'जिगर' मुरादाबादी : निगाहों से निगाहें लड़ रही हैं, मजे़ दर्दे-मुहब्बत पा रहा है

काव्य डेस्क, नई दिल्ली

995 Views
तड़प करके उन्हें तड़पा रहे हैं 
क़यामत पे क़यामत ढा रहे हैं 

अजब आलम सा दिल पे छा रहा है 
हसीं जैसे कोई शरमा रहा है 

निगाहों से निगाहें लड़ रही हैं 
मजे़ दर्दे-मुहब्बत पा रहा है

पयामे शौक का अब पूछना क्या 
बराबर आ रहा है जा रहा है 

गले मिलकर वो रुख़सत हो रहे हैं 
मुहब्बत का ज़माना आ रहा है 

वो कुछ दिल को मेरे समझा रहे हैं 
कुछ उनको दिल मेरा समझा रहा है 

- 'जिगर' मुरादाबादी 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!