आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Irshaad ›   Famous lyricist javed akhtar najm kabhi yu bhi to ho
Famous lyricist javed akhtar najm kabhi yu bhi to ho

इरशाद

जावेद अख़्तर : कभी यूँ भी तो हो  पूरे चाँद की रात हो और तुम आओ 

काव्य डेस्क, नई दिल्ली

235 Views
कभी यूँ भी तो हो 
दरिया का साहिल हो 
पूरे चाँद की रात हो 
और तुम आओ 

कभी यूँ भी तो हो 
परियों की महफ़िल हो 
कोई तुम्हारी बात हो 
और तुम आओ 

कभी यूँ भी तो हो 
ये नर्म मुलायम ठंडी हवायें 
जब घर से तुम्हारे गुज़रें 
तुम्हारी ख़ुश्बू चुरायें 
मेरे घर ले आयें 

कभी यूँ भी तो हो 
सूनी हर मंज़िल हो 
कोई न मेरे साथ हो 
और तुम आओ 

कभी यूँ भी तो हो 
ये बादल ऐसा टूट के बरसे 
मेरे दिल की तरह मिलने को 
तुम्हारा दिल भी तरसे 
तुम निकलो घर से 

कभी यूँ भी तो हो 
तनहाई हो, दिल हो 
बूँदें हों, बरसात हो 
और तुम आओ 

कभी यूँ भी तो हो

साभार:- कविता कोश 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!