आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

Home›  kavya›  Irshaad

बेहतरीन कवियों की बेमिसाल रचनाएं

बशीर बद्र: एक चेहरा साथ साथ रहा जो मिला नहीं...

  • काव्य डेस्क-अमर उजाला, नई दिल्ली
  • सोमवार, 21 अगस्त 2017

एक चेहरा साथ-साथ रहा जो मिला नहीं, किसको तलाश करते रहे कुछ पता नहीं 

हरिशंकर परसाई: जगत के कुचले हुए पथ पर भला कैसे चलूं मैं?

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • सोमवार, 21 अगस्त 2017

यूं तो हरिशंकर परसाई की ख़्याति एक बेहतरीन व्यंगकार की है। लेकिन परसाई जी ने कुछ कविताएं भी लिखीं। पेश है हरिशंकर परसाई की एक कविता।

क़तील शिफ़ाई: न जाने क्यूं हमें इस दम तुम्हारी याद आती है...

  • अमर उजाला काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • रविवार, 20 अगस्त 2017

तड़पती हैं तमन्नाएं किसी आराम से पहले, लुटा होगा न यूं कोई दिल-ए-ना-काम से पहले

वसीम बरेलवी: कही सुनी पे बहुत एतबार करने लगे...

  • काव्य डेस्क-अमर उजाला, नई दिल्ली
  • शनिवार, 19 अगस्त 2017

ग्यारह गुलज़ार गाने

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017

गुलज़ार: बड़ी बेचैन रहती हैं किताबें

  • काव्य डेस्क, अमर उजाला
  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017

कुमार विश्वास ने गाया, झूम उठे लोग

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • गुरुवार, 17 अगस्त 2017

राजेश जोशी: चांद से मेरी दोस्ती हरगिज़ न हुई होती, अगर रात...

  • काव्य डेस्क-अमर उजाला, नई दिल्ली
  • बुधवार, 16 अगस्त 2017

चांद से मेरी दोस्ती हरगिज़ न हुई होती

कवि प्रसून जोशी की कविता 'क्या है कविता'

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • मंगलवार, 15 अगस्त 2017

यूं तो कविता की परिभाषा अलग-अलग हो सकती है। लेकिन कविता को मशहूर कवि प्रसून जोशी कैसे महसूस करते हैं?

हरिओम पंवार: ...भारत को गिरवी रखने की कोशिश करती है दिल्ली

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • मंगलवार, 15 अगस्त 2017

सिंहासन पर आने वालो अहंकार में मत झूलो, काले धन के साम्राज्य से आँख मिलाना मत भूलो।

तिरंगा पर ये वायरल वीडियो आपने नहीं देखा?

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • मंगलवार, 15 अगस्त 2017

राधेश्याम शर्मा: कृष्ण भक्ति के रस में सराबोर भजन

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • सोमवार, 14 अगस्त 2017

जावेद अख़्तर: हम तो बचपन में भी अकेले थे, सिर्फ़ दिल की गली में खेले थे

  • काव्य डेस्क-अमर उजाला, नई दिल्ली
  • सोमवार, 14 अगस्त 2017

सुनिए प्रसून जोशी की 5 कविताएं ख़ुद उनकी आवाज़ में

  • काव्य डेस्क, नई दिल्ली
  • शुक्रवार, 11 अगस्त 2017
View More
अन्य
Top
Your Story has been saved!