आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Hasya ›   ghotalon ka record
ghotalon ka record

हास्य

घोटालों का रिकार्ड

Gaurav Tripathi

1 कविता

128 Views
घोटालों का रिकार्ड

घोटालों का रिकार्ड
गिनीज बुक में दर्ज होने की
नेताजी को चढ़ गई सनक।
पर ऐसा कोई काम किया नहीं,
जिससे मिले विशेष चमक।

फिर भी उन्होंने ठान लिया करेंगे ऐसा काम।
जिससे हो जाएगा उनका पूरे जग में नाम।

चापलूसों की लगी मंडली,
सुझाए गए उपाय।
मोटी खोपड़ी नेताजी की।
समझ में कुछ न आए।

एक बोला, नेताजी हो जाइए
आप पांच साल के लिए ईमानदार।
ये रिकार्ड कोई नहीं तोड़ पाएगा
आपका भाई सखा हो यार।

नेताजी बोले, पांच साल तक ईमानदार
बनना, है सबसे ज्यादा उबाऊ।
आसानी से जो हो जाए,
दूजा उपाय सुझाओ।

दूजा बोला, नेताजी इस देश को
पूरा खा जाओ।
जैसे खाते हैं आप भजिया, खीर, पुलाव।

उपाय सुन-नेताजी का माथा कुछ ठनका।
अगले दिन सबसे बड़ा घोटाला करके
टीवी पर उनका नाम चमका।

- गौरव त्रिपाठी,
  हल्द्वानी, जिला नैनीताल, उत्तराखंड 

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!