आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Hasya ›   भ्रष्टाचार की वैतरणी
भ्रष्टाचार की वैतरणी

हास्य

रायबरेली से हमारे पाठक अमरेश ने भेजी हास्य कविता 'भ्रष्टाचार की वैतरणी'

Amresh Singh

37 कविताएं

1364 Views
भ्र्ष्टाचार की वैतरणी

पेटु भरि न सही
थोड़ा तो खाओ ।
बहती गंगा मा
तुमहू हाथ ध्वाओ ।।

1.
जनक जी की भाँति
जो तुम बनिहौ बिदेह ,
कलजुग मा सुखिहैं हड्डी
झुराई तुम्हारि देह.......,
नौकरी मा आयके तुम
बनिहौ जो धर्मात्मा ..,
मरै के बादि कसम से
तड़पी तुम्हारि आत्मा ,
यहिसे हम कहित है
धरम-करम का सीधा
धुरिया-धाम
मा मिलाओ ।
पेटु भरि न सही........
थोड़ा तो खाओ........।

2.
इकीसवीं सदी मा जो
गाँधी जी लौटि आवैं,
बिना लिहे-दिहे अबकी
याको सुविधा न पावैं,
पद कै महत्ता पहिले
खूब समझो औ बूझो,
कमीशन की खातिर
तुम भगीरथ सा जूझो,
गिरगिट की तरह तुमहू
सब आपनि रंग बदलो,
कचरा मा न सही तुम
झूरेन मा फिसलो....,
करो चमचागीरी खूब
दालि अपनिउ गलाओ ।
पेटु भरि न सही .......
थोड़ा तो खाओ........। 

3.
हमारि बात मनिहौ तो
तुम्हरिव भाग जगिहै..,
दुःख,दलिद्दुर तुम्हरी
ढेहरी से दूरि भगिहै..,
बाबूगीरी के रंग मा जो
तुम पूरा रंगि जइहौ...,
हरि हफ्ता फिरि तुम
होली दीवाली मनयिहौ,
बड़े-बड़े अफ़्सर के तुम
रयिहौ आगे पीछे......,
बड़ी-बड़ी फाईलै तुम
करिहौ ऊपर नीचे....,
काबुली घोडा न सही
तुम टेटुवै दौड़ाओ....।
पेटु भरि न सही......
थोडा तो खाओ.....।

4.
चंदुली खोपड़ी का न तुम
बार-बार न्वाचो..........,
लरिका बच्चन के बिषय
मा कुछ आगे का स्वान्चो,
रामराजि हुवै दियो ......
राम का मुबारक.........,
सबसे पहिले साधो .....
तुम लाभ वाला स्वारथ,
अकेले तुम कमयिहौ तो
सब घरु खाई...........,
तुमका कऊन चिंता
बाढ़ै दियो महगाई.....,
भ्रष्टचार की वैतरणी मा
"अमरेश" डूबो उतराओ ।
पेटु भरि न सही.......
थोडा तो खाओ.....।

- अमरेश सिंह भदोरिया
   गांव व पत्रालय- अजीतपुर, तहसील-लालगंज, थाना-खीरों, जनपद-रायबरेली -229206

हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है। 

आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!