आपका शहर Close
Home ›   Kavya ›   Haiku ›   Popular haiku of seema aseem saksena
Popular haiku of seema aseem saksena

हाइकु

सीमा 'असीम' सक्सेना: सूखे गुलाब रखे, जो डायरी में, मन में हरे

काव्य डेस्क, नई दिल्ली

709 Views

हाइकु जापानी शैली की लघु कविता है। इसमें 17 वर्ण होते हैं और इसे तीन पंक्तियों में लिखा जाता है। पहली पंक्ति में पांच वर्ण, दूसरी में सात, और तीसरी में फिर पांच वर्ण होते हैं।

तुम्हारा आना 

पतझड़ में पत्ते 
कोमल हरे।

 * * * 

देर तलक 
रोती रही वो मां 
विदा बेटी की।

 * * * 

नदी किनारे 
हाथों में हाथ डाले 
चलते रहे।

 * * * 

मन कागज 
चित्र उकेरे तेरे 
रंग भर दो।

 * * * 

सूखे गुलाब 
रखे जो डायरी में 
मन में हरे।

 * * * 

पर्बत नाले 
फलांगती चली वो 
सागर बसी।

 * * * 

हम तुम है 
जज़्बातों से भरे 
फिर भी तंहा।

 * * * 

अबकी बर्सा 
जमकर बरसो 
सब ठहरा।

 * * * 

लेती सहारा
लताएं भी पेड़ का 
मजबूती को।

 * * * 

विशाल पेड़ 
फलों से लदकर
झुक सा आया।


- सीमा 'असीम' सक्सेना

साभार-  कविता कोश 
Comments
सर्वाधिक पढ़े गए
Top
Your Story has been saved!