आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

विधायकों की बगावत से नगालैंड के मुख्यमंत्री की कुर्सी खतरे में

टीम डिजिटल/अमर उजाला

Updated Fri, 17 Feb 2017 09:22 AM IST
Nagaland CM TR Zeliang in Delhi to plead against President’s Rule in state

नागालैंड के मुख्यमंत्री टीआर जेलियांग PC: Social Media

महिला आरक्षण के मुद्दे पर पूर्वोत्तर राज्य नगालैंड में सत्तारूढ़ नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के विधायकों ने मुख्यमंत्री टी.आर.जेलियांग के खिलाफ बगावत का बिगुल बजा दिया है। राज्य में विधानसभा की 60 सीटों में से पार्टी के पास 49 विधायक हैं, लेकिन उनमें से 42 ने पाला बदलते हुए एनपीएफ अध्यक्ष एस. लेजित्सु का समर्थन करने का एलान किया है। यहां साझा सरकार में भाजपा भी शामिल है। 
अब विधायकों के पाला बदलने के बाद मुख्यमंत्री बृहस्पतिवार को दिल्ली गए हैं ताकि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से मिल कर अपनी कुर्सी बचा सकें।

महिला आरक्षण के मुद्दे पर आंदोलन करने वाले नगा संगठनों ने तमाम विधायकों को मुख्यमंत्री से समर्थन वापस लेने के लिए 17 फरवरी तक का अल्टीमेटम दिया था। इन संगठनों ने धमकी दी थी कि अगर शुक्रवार तक विधायकों ने जेलियांग से समर्थन वापस नहीं लिया, तो अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में उनको उनके चुनाव क्षेत्रों में नहीं घुसने दिया जाएगा।

एनपीएफ सूत्रों ने बताया कि बुधवार देर रात विधायकों की एक बैठक में 81 साल के लेजित्सु को विधायक दल का नया नेता बनाने का फैसला किया गया। राज्य के इकलौते राज्यसभा सांसद के.जी.केनी ने इसकी पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि लेजित्सु ने विधायक दल का नेता बनना स्वीकार कर लिया है। अब बस सरकार बदलने की देर है। 

क्या राज्य के हालात को सामान्य बनाने के लिए ही यह फैसला किया गया है। इस पर उनका कहना था कि यही पहली और अकेली वजह है। एक अन्य सवाल पर केनी का कहना था कि एनपीएफ में कोई आंतरिक संकट नहीं है। जेलियांग के इस्तीफे की मांग में बढ़ते चौतरफा दबाव की वजह से ही राज्य के हित में यह फैसला किया गया है।

दूसरी ओर, मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि जेलियांग दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करेंगे। ध्यान रहे कि महिलाओं के लिए 33 फीसदी आरक्षण का विरोध कर रहे नगा संगठनों ने राज्य में बेमियादी बंद की अपील की है। उनका कहना है कि मुख्यमंत्री के इस्तीफा नहीं देने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

परिवार है बड़ा तो ये कारें है बेहतरीन विकल्प

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

NIFT-2017: एंट्रेंस टेस्ट का रिजल्ट जारी, ऐसे करें चेक

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

अपने स्मार्टफोन में ऐसे करें एंड्रॉयड नूगट 7.0 अपडेट 

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

सरकारी नौकरी में इंजीनियर्स के लिए बम्पर भर्तियां, यहां करें आवेदन

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

आपनी नई क्रॉस ओवर कार को और ताकतवर बना रही होंडा

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

Most Read

एंटी रोमियो स्क्वायड ने भाई-बहन को पकड़ा, घरवाले पहुंचे तो मांगी माफी

in deoria Anti Romeo squad caught siblings
  • सोमवार, 27 मार्च 2017
  • +

यूपी विधानसभा में योगी का पहला भाषण, 6 बातें

top key point of uttar pradesh chief minister adityanath yogi first speech in assembly
  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

हार पर फूटा मुलायम का दर्द, बोल उठे 'जय मोदी-जय मोदी'

During Discussion On GST Bill in Loksabha, Mulayam Singh Yadav Said Jai Modi
  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

अगर आप भी पॉर्न देखते हैं... तो सावधान रहिए

Google Knows If You Are Watching Too Much Of Porn
  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

5 मेंबर कंस्टीट्यूशनल बेंच करेगी 'ट्रिपल तलाक' पर फैसला

Supreme Court to hear triple talaq and polygamy in the Muslim community
  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

सचिन और रेखा संसद आने के इच्छुक नहीं तो इस्तीफा क्यों नहीं दे देते: नरेश अग्रवाल  

SP MP naresh Agarwal questioned continued absence of Sachin tendulkar and rekha from rajya sabha
  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top