आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

नगरोटा हमले से क्षुब्ध रक्षा मंत्री ने सेना से मांगी रिपोर्ट 

अमर उजाला ब्यूरो/ नई दिल्ली

Updated Wed, 30 Nov 2016 10:41 PM IST
hurt by Nagrota attack, defense minister seeks report from Army
नगरोटा के उत्तरी कमान 16 कोर ठिकाने पर पाक आतंकियों के हमले से क्षुब्ध रक्षा मंत्री मनोहर परिकर ने सेना से पूरी रिपोर्ट तलब की है। पिछले दस दिनों से जम्मू केबड़े सैन्य ठिकानों पर आतंकी हमले की आशंका कीखुफिया इनपुट के बावजूद सेना इसे नहीं रोक पाई। रक्षा मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक परिकर इस बात से बेहद नाराज हैं कि जनवरी में हुए पठानकोट हमले के बाद देश केसभी सैन्य ठिकानों की हुई सुरक्षा संबंधी ऑडिट रिपोर्ट से कोई सबक नहीं लिया गया है।
रिपोर्ट तलब करने के बाद परिकर दक्षिण एशिया सामरिक मामलों पर बातचीत के लिए दो दिन की बांग्लादेश यात्रा पर रवाना हो गए हैं। वहां से लौटने के बाद सेना की रिपोर्ट की समीक्षा की जाएगी। मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक सेना को इस सवाल का जवाब देना पड़ेगा कि जब सीमा पर तनाव है और पाकिस्तान बड़े सैन्य ठिकानों पर हमले की ताक में है तब नगरोटा जैसे संवेदनशील कैंप पर ऐसा हमला क्यूं और कैसे हो गया। इस मामले से जुड़ेसूत्र केमुताबिक यह साफ है कि पठानकोट और उड़ी हमले से कोई सबक नही लिया गया है।
 
सूत्रों केमुताबिक सेना और जम्मू-कश्मीर में तैनात सुरक्षा  बलों को दस दिनों पहले यह खुफिया सूचना दी गर्इ थी कि लश्क-ए-तौयबा का एक सेल जम्मू केकिसी बड़े सैन्य ठिकने पर हमले की फिराक में है। गौरतलब  है कि पठानकोट हमले केबाद लेफ्टिनेंट जनरल फिलिप कंपोज की अगुवाई में एक ऑडिट रिपोर्ट तैयार की गई थी। इसमें सेना के तीनों अंगों के विभिन्ना संवेदनशील सैन्य  ठिकानों की सुरक्षा दुरुस्त करने संबंधी सिफारिश की गई। बीते मई में यह रिपोर्ट रक्षा मंत्री को सौंपी गई। सेना के  उच्चपदस्थ सूत्रों ने बताया कि इस रिपोर्ट का फॉलोअप ठीक तरीकेसे नहीं किया गया। 

फिलिप कंपोज कमेटी रिपोर्ट की सिफारिशें - 
1. सैन्य ठिकानों की सुरक्षा संबंधी कमियों को तय समय सीमा में दूर किया जाए।
2. सैन्य ठिकानों की सुरक्षा  के लिए सामान्य गारद  के  अलावा कम से कम दो क्वीक रिएक्शन कमांडो टीम तैनात की जाए। 
3. सैन्य  ठिकानों के गेट पर आधुनिक गेट और संयंत्र लगाए जाएं ताकि आतंकियों को गेट पर ही रोका जा सके।
4. खुफिया इनपुट पर प्रतिक्रिया और आतंकी हमले की स्थिति में जवाबी  कार्रवाई के मानक तैयार किया जाएं। 
5. सैन्य ठिकानों की कई स्तरों पर घेराबंदी हो और बाहरी घेरे केलिए विशेष दस्ता तैयार किए जाएं। 
6. सैन्य ठिकनों की औचक ऑडिट की जाए और कमियों के लिए जिम्मेदारी तय की जाए। 
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

कुछ लड़कियां क्यों नहीं करतीं जिंदगीभर शादी, लड़के जान लें

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

IndVsAus: अश्विन, जडेजा, जयंत से नहीं, कंगारुओं को इससे है डर

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

रिसर्च: मोटे मर्दों की सेक्स लाइफ होती है शानदार

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

सेल्फी के शौकीनों के लिए खुशखबरी, इस फोन में होगा 3D कैमरा

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

रजनीकांत की दीवानी है ये हीरोइन, अब साथ में करेगी काम

  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

Most Read

सपा का समर्थन करना JDU यूपी अध्यक्ष को पड़ा भारी

jdu president nitish kumar expels up president Suresh Niranjan
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

अखिलेश पर फिर बोले शिवपाल, ये रहीं 10 खास बातें

10 big facts of shivpal interview to ANI
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

7वां वेतन आयोगः आज रिपोर्ट देगी कमिटी, घट सकता है HRA

Committee on Allowances likely to submit report to FM Jaitley, HRA revision expected
  • सोमवार, 20 फरवरी 2017
  • +

'जितनी जरूरत उतने निकालें पैसे, नहीं आएगा 1000 का नोट'

No plans to introduce 1000 notes tweets Secretary Economic Affairs Shaktikant Das
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +

यूपी: थर्ड फेज में 61.16% वोटिंग, मैनपुरी में हत्या

Live UP Legislative Assembly Election phase 3
  • रविवार, 19 फरवरी 2017
  • +

रोहित वेमुला का सुसाइड नोट पढ़कर रोना आ गयाः वरुण गांधी

Rohit Vemula’s suicide letter made me cry says BJP MP Varun Gandhi
  • बुधवार, 22 फरवरी 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top