आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

आपदा प्रबंधन के नाम पर विपदा

Solan

Updated Thu, 12 Jul 2012 12:00 PM IST
आपदा प्रबंधन के नाम पर विपदा
सोलन। जिला प्रशासन का आपदा प्रबंधन क्या विपदा को बढ़ाने वाला हैै? डिसास्टर मैनेजमेंट को लेकर होने वाली बैठकें क्या महज औपचारिकताएं तक सीमित हैं? हादसा होने के बाद प्रशासनिक अमला लेट क्यों पहुंचता है?
दमकल विभाग के पास आधुनिक उपकरणों की कमी समेत कई ऐसी चीजें विपदा को बढ़ावा देने वाली नहीं तो क्या हैं? इस तरह रेस्क्यू आपरेशन में कोताही लोगों के जान माल पर कभी भी भारी पड़ सकती है। बुधवार को हुए हादसे के बाद रेस्कयू आपरेशन की धीमी रफ्तार पर कई तरह के सवाल उठ खड़े हुए हैं। खोखली मिट्टी पर खड़े कंकरीट के मकान प्राकृतिक आपदाओं को बढ़ावा देने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। पहाड़ों में भवन निर्माण की बेहतर तकनीक की अनदेखी भी हो रही है, जिससे ऐसे हादसे सामने आ रहे हैं। प्रशासन, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग और नगर परिषद सब की कार्यप्रणाली पर सवाल उठ खड़े हो रहे हैं।
एसडीएम हरबंस नेगी ने बताया कि प्रशासन पूरी मेहनत के साथ रेस्कयू आपरेशन को अंजाम दे रहा है। इस मामले में हर पहलू में छानबीन की जाएगी। मलबे में कुछ लोग दबे हो सकते हैं, इस बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है।



तीन घंटे बाद पहुंची सेना की टुकड़ी
सोलन। हादसे के तीन घंटे बाद सेना की टुकड़ी स्पाट पर पहुंची है। कुमाऊं रेजिमेंट के जवानों ने मौके पर पहुंचकर रेस्कयू आपरेशन को गति दी। पुलिस के मुताबिक हादसे दोपहर करीब पौने चार बजे हुआ है। उधर शाम छह बजे सेना की टुकड़ी बचाव के लिए पहुंची है। उधर देर शाम तक रेस्कयू आपरेशन जारी था।

रेस्कयू आपरेशन बेहद स्लो
सोलन। भाजपा नेता एचएन कश्यप ने प्रशासन के रेस्कयू आपरेशन पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि प्रशासन की लेट लतीफी साफ झलक रही है। मलबे के ढेर में धुंआ उठा रहा है। ऐसे में कुछ लोगों के होने का अंदेशा है। सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि इस तरह लेट रेस्कयू में दबे लोगों के बचने की संभावना कम रहती है।

पिछले हादसों से नहीं लिया सबक
सोलन। सोलन में भवन जमींदोज होने के चार मामले हो चुके हैं। पिछले वर्ष दिहूंघाट के पास तीन मंजिला निर्माणधीण भवन मलबे में तब्दील हो गया था। एक भवन चंबाघाट के पास हादसा हो चुका है। उससे पहले भी कुछ और हादसे हो चुके हैं। इन मामलों की जांच भी ठंडे बस्तों में पड़ी है। ऐसे मामलों की पुनरावृत्ति हो रही है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

disaster management

स्पॉटलाइट

इस हीरो के बोल्ड सीन देख छूट गए थे सभी के पसीने, आज जी रहा गुमनामी की जिंदगी

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

Indian Couture Week 2017: राजस्थानी प्रिंसेज लुक में रैंप पर उतरीं दिया मिर्जा

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

इन खास मौकों पर हमेशा झूठ बोलती हैं लड़कियां, ऐसे करें पता

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

आसमान में दिखा रहस्यमयी शहर, बिना वीडियो देखे नहीं होगा यकीन

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

बीच में जिम छोड़ना पड़ सकता है सेहत पर भारी, हो सकती हैं गंभीर बीमारी

  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

Most Read

श‌िक्षाम‌ित्रों के प्रदर्शन से लेकर सदन के हंगामे तक, पढ़ें यूपी की HEADLINES

news updates of uttar pradesh
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

नीतीश के कैबिनेट में शामिल होंगे BJP-JDU के 6-6 मंत्री, मांझी को भी जगह!

sources says 13 ministers would be part of bihar cabinet in which manjhi name also involved
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

व‌िधान पर‌िषद में हंगामा, अहमद हसन बोले- सरकार की लचर पैरवी से सड़क पर शिक्षामित्र

opposition protest in up assembly in favour of shikshamitra
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

शिवपाल यादव का बड़ा बयान, कहा- बसपा से गठबंधन पर विचार संभव

Shivpal Yadav big statement, said possible to consider coalition alliance with BSP
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

बस से उतरकर सड़क पार कर रहे मासूम को टेंपो ने कुचला, बवाल

Innocent Tango has crushed,
  • शुक्रवार, 28 जुलाई 2017
  • +

ये है बिहार का राजनीतिक गणित, जानिए किसके साथ बन सकती है सरकार

What will be bihar's new political equations after nitish kumar's resignation
  • बुधवार, 26 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!