आपका शहर Close

15 दिन, तीन हादसे, जिम्मेदार कौन

Faridabad

Updated Wed, 12 Dec 2012 05:30 AM IST
फरीदाबाद। लगता है कि फरीदाबाद को किसी की नजर लग गई है या फिर यहां सब कुछ सिर्फ कागजी हो रहा है। इसमें बिल्डरों, अवैध निर्माणकर्ताओं, प्रशासनिक अधिकारियों, खाकी और खादी की मिलीभगत से हादसे पर हादसे होते जा रहे हैं।
चाहे इस साल 24 नवंबर को सरूरपुर में निर्माणाधीन फैक्ट्री की बिल्डिंग गिरने का हादसा हो, 10 दिसंबर को पाली-मोहब्बताबाद क्रेशर जोन में दीवार ढहने का मामला हो या फिर मंगलवार को सेक्टर-88 में स्कूल की बिल्डिंग गिर जाने का ताजा घटनाक्रम हो। ऐसे हादसे कब रुकेंगे कहा नहीं जा सकता। इससे पहले एनआईटी में सिटी मार्केट गिरने का हादसा, सेक्टर-24 में औद्योगिक निर्माण गिरने की घटना और पलवल में निर्माणाधीन कॉलेज की बिल्डिंग के गिरने जैसे कई हादसे शहर देख चुका है। यह इन निर्माणकर्ताओं के लिए कोई हृदय विदारक घटना नहीं है। बल्कि त्रासदी उन मजदूरों के परिवार के लिए होती है जो चंद रुपये की दिहाड़ी मजदूरी करते हुए कुछ लोगों की गलती के कारण जान गंवाने को मजबूर हैं।
शहर के जानेमाने श्रमिक नेता बेचू गिरी कहते हैं इन हादसों के लिए पूरा प्रशासनिक तंत्र जिम्मेदार है। चाहे वह जिला प्रशासन हो, नगर निगम हो, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग, औद्योगिक सुरक्षा एवं स्वास्थ्य या फिर पुलिस। सबकी मिलीभगत से ही अवैध निर्माण होते हैं। वह गिरते हैं। इनमें मरने वाले मजदूरों के परिवार वालों को न्याय नहीं मिलता। ऐसे अधिकांश मामलों में पुलिस बिल्डिंग के मालिक के खिलाफ केस तक दर्ज करने से बचती है। निर्माण साइटों पर सुरक्षा मानकों का पालन नहीं होता।
इस बारे में श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) शिवचरण लाल शर्मा कहते हैं कि जिसकी भी गलती पाई गई उसे छोड़ा नहीं जाएगा। दोषी कोई बिल्डर हो या फिर किसी विभाग का अधिकारी। मुझे मालूम है कि पिछले कुछ दिनों में इमारतें गिरने की कई घटनाएं हुई हैं। यह चिंता का विषय है। इस पर सरकार जांच कराएगी। मृतक मजदूरों के परिवार वालों को पूरा मुआवजा दिलाया जाएगा।

-श्रम विभाग की औद्योगिक सुरक्षा एवं स्वास्थ्य शाखा के डिप्टी डायरेक्टर केएस चहल के मुताबिक बिल्डिंग एंड अदर कंस्ट्रक्शन वर्कर्स (बीओसीडब्ल्यू) एक्ट-1996 के तहत क्रेशर जोन हादसे में मृतक मजदूरों का रजिस्ट्र्रेशन नहीं हुआ था। क्योंकि, अभी वहां क्रेशर नहीं चल रहा था। इसीलिए वहां निरीक्षण भी नहीं हुआ था। जहां तक सेक्टर-88 की साइट का मामला है तो वहां का रजिस्ट्रेशन है। निर्माण मजदूरों की सुरक्षा से संबंधित निरीक्षण हुआ था। यह डिजाइन फेलियर का हादसा है। हमारा इससे कोई लेना-देना नहीं।

कितना मिल सकता है मुआवजा:
-कामगार क्षतिपूर्ति अधिनियम के तहत श्रमिक को नौकरी देने वाले से पांच लाख रुपये दिलाए जा सकते हैं।
-बीओसीडब्ल्यू एक्ट के तहत रजिस्ट्रेशन हो या न हो। श्रम कल्याण बोर्ड से मृतकों के परिवार को 75-75 हजार रुपये मिल सकते हैं।

क्या है बीओसीडब्ल्यू एक्ट:
-बीओसीडब्ल्यू एक्ट के तहत कंस्ट्रक्शन साइट एवं वर्करों का रजिस्ट्रेशन करके निर्माण लागत का एक फीसदी हिस्सा श्रम कल्याण बोर्ड में जमा होता है। यह रकम श्रमिकों के कल्याण में खर्च होती है। कोई हादसा होने पर इसी बोर्ड से रकम दी जाती है।
निरीक्षण में क्या देखते हैं:
-शटरिंग कैसी हुई है। क्या बल्लियों के नीचे बेस प्लेट लगी है (बेस न होने पर नीचे धंसने का खतरा रहता है)।
-मजदूरों को हेल्मेट मुहैया कराया गया या नहीं। उन्होंने उसे पहना है या नहीं। सेफ्टी बेल्ट का प्रयोग हो रहा है या नहीं।
-बिल्डिंग के किनारों पर या जरूरी स्थानों पर सेफ्टी नेट लगाई गई है या नहीं (ताकि मजदूर ऊपर से गिरे तो वह बच जाए)।
Comments

Browse By Tags

15 days

स्पॉटलाइट

बेगम करीना छोटे नवाब को पहनाती हैं लाखों के कपड़े, जरा इस डंगरी की कीमत भी जान लें

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

Bigg Boss 11: फिजिकल होने के बारे में प्रियांक ने किया बड़ा खुलासा, बेनाफशा का झूठ आ गया सामने

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

Photos: शादी के दिन महारानी से कम नहीं लग रही थीं शिल्पा, राज ने गिफ्ट किया था 50 करोड़ का बंगला

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

ऋषि कपूर ने पर्सनल मैसेज कर महिला से की बदतमीजी, यूजर ने कहा- 'पहले खुद की औकात देखो'

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

पुनीश-बंदगी ने पार की सारी हदें, अब रात 10.30 बजे से नहीं आएगा बिग बॉस

  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

Most Read

बिहार: तेज प्रताप ने सुशील मोदी को दी घर में घुसकर मारने की धमकी, वीडियो वायरल

RJD leader Tej Pratap Yadav threatens to kill deputy chief minister of bihar Sushil Modi in house
  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

अगर आपके पास ये चीजें हैं तो नहीं मिलेगा प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ

If you have these things, you will not get benefit of Prime Minister housing scheme
  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

हार्दिक पटेल मामले में अखिलेश का बयान, कहा- 'किसी की प्राइवेसी को सार्वजनिक करना बहुत गलत बात'

akhilesh yadav statement about hardik patel cd case
  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

बसपा प्रत्याशी का आरोप- हाथी का बटन दबाने पर जली कमल की लाइट

Accused of BSP candidate- burning of the elephant button on the light lotus
  • बुधवार, 22 नवंबर 2017
  • +

पद्मावती विवाद पर आसाराम ने खोला मुंह, जानिए क्या कहा

Asaram's statement on Padmavati controversy
  • मंगलवार, 21 नवंबर 2017
  • +

 अभिनेता राजपाल की बेटी को आज ब्याहने जाएंगे संदीप, ये होंगी खास बातें

Sandeep will go to marry Rajpal's daughter
  • रविवार, 19 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!