आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

गुलजार के गीतों से गुलजार हुआ ‘मांउटेन राइटर्स’ फेस्टिवल

शूरवीर सिंह भंडारी/मसूरी

Updated Sat, 03 Nov 2012 02:06 PM IST
gulzar performs at 'moutain writers festival'
पेड़, पहाड़ और प्रकृति हमेशा से रचनाकारों के प्रेरणास्रोत रहे हैं। मशहूर गीत-गजलकार गुलजार ने पहाड़ों में पेड़ों पर निर्ममता के साथ चल रही आरियों पर अपनी पीड़ा इन लफ्जों में बयां की। ‘देवदार के पेड़ को काटकर ले गया कोई, पगडंडी से कारखाने में और पत्थरदिल इंसान को रहम न आया’।
मसूरी के वुडस्टॉक स्कूल में चल रहा ‘मांउटेन राइटर्स’ फेस्टिवल शुक्रवार को गुलजार की कविताओं और नज्मों से गुलजार रहा। लोग एक-एक लफ्ज से आनंदित होते रहे। हर नज्म और गजल पर देर तक तालियां बजती रहीं। कार्यक्रम में उनकी रचनाओं का अंग्रेजी काव्यानुवाद भी पेश किया गया।

पहाड़ के हुस्न को गुलजार ने इन शब्दों में ढाला ‘दूर देवदार के पेड़ कभी बादल की पगड़ी पहने और कभी दुशाला लपेटे, सरसराती हवा को अपने बांहों में थाम, साथ चलने की तमन्ना, हवा से बोला, पर पैर जकड़े न होता तो साथ चल लेता।’ पहाड़ों की पाकीजगी पर गुलजार ने यह कविता पेश की ‘पहाड़ गूंजते हैं वादियों में देवताओं को बुलाने के लिए, मंदिरों में भी बजती है घंटियां देवताओं को बुलाने के लिए, चिराग मेरे कहां गए पीर।’

गुलजार ने चर्चित कवियत्री सुप्रियता के अंग्रेजी कविता पाठ का हिंदी में तजुर्मा भी पेश किया। फेस्टिवल के संयोजक और चर्चित बालीवुड कलाकार टाम आल्टर के भाई स्टीफन आल्टर, निर्माता- निर्देशक विशाल भारद्वाज, लेखक गणेश शैली और एक्टर विक्टर बनर्जी और शेखर पाठक की मौजूदगी में श्रोता में देर तक गुलजार की कविताओं में खोए रहे।

अब मैं ‘ग्रीन पोयम्स’ लिख रहा हूं

अमर उजाला से बातचीत में गुलजार बोले अब वह ‘ग्रीन पोयम्स’ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पहाड़ रचनात्मकता के सबसे बड़े स्रोत हैं। उन्हें लेखन को गुरुवाणी से लेकर सुनील बंधोपाध्याय, आशुतोष, संत बुल्लेशाह, संत फरीद की रचनाओं ने बहुत मुतास्सिर किया। गुलजार बोले- प्रकृति को बचाने का दायित्व सभी का है। प्रकृति और पहाड़ बचेंगे, तभी साहित्य बचेगा।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

gulzar

स्पॉटलाइट

इस फूल की ब्लू चाय ग्रीन टी को देती है मात, जानें कई फायदे

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

मल्टी टैलेंटेड हैं 'गोरी मेम', इनके हुनर के आगे बॉलीवुड हीरोइनें पड़ जाती हैं फीकी

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

चीजें रखकर भूल जाते हैं तो रोजाना खाएं 3 काजू, जानें कई फायदे

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

ये चार 'A' बनाएंगे आपको 'मिस्टर कूल', जानें कैसे

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

असल जिंदगी में इतनी बोल्ड है टीवी की ये एक्ट्रेस, तस्वीरें देख नहीं होगा यकीन

  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

Most Read

सलमान की ईद रही फीकी, 'ट्यूबलाइट' नहीं छू पाई 100 करोड़ का आंकड़ा

Salman Khan 'Tubelight' Fourth Day Collection, Film Is Close To Collect 100 Crore
  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

इस फिल्म की वजह से आमिर की हो गई ऐसी हालत, रोज सहनी पड़ रही तकलीफ

ear and nose piercing is painful for aamir khan in thugs of hindostan
  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

ईद पर सलमान के घर के बाहर भीड़ हुई बेकाबू, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

Lathi-Charge Outside Salman Khan Residence Galaxy Apartments On Eid
  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

तीन दिन में ही फ्यूज हुई 'ट्यूबलाइट', ये रहा कलेक्शन

Salman Khan 'Tubelight' Third Day Collection, Film Going Slow On Box Office
  • सोमवार, 26 जून 2017
  • +

भाई की मौत के तुरंत बाद रवि तेजा ने शुरू की शूटिंग

ravi teja brother bharat consumed liquor in hotel with frieds in party at novotel hoel
  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +

अब डायरेक्टर बनेंगे अंगद, पिता बिशन सिंह बेदी पर बनाएंगे फिल्म

angad bedi to make documentary on his father bishan singh bedi
  • मंगलवार, 27 जून 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top