आपका शहर Close

फैसलाः CBSE स्कूल अब नहीं बेच पाएंगे किताबें और यूनिफॉर्म

ब्यूरो/अमर उजाला,नई दिल्ली

Updated Fri, 21 Apr 2017 10:08 AM IST
 CBSE instructs schools not to open Uniforms and book Shops in premises

CBSE STUDENTS

देश के अधिकतर स्कूलों में अप्रैल से शैक्षणिक सत्र की शुरुआत हो चुकी है। नए सत्र में निजी स्कूल अभिभावकों पर यूनिफॉर्म, किताबें, स्टेशनरी और बैग, स्कूल परिसर में उपलब्ध दुकान या चयनित विक्रेताओं के माध्यम से खरीदने का दबाव बना रहे हैं। स्कूलों की ओर से अभिभावकों पर बनाए जा रहे दबाव को लेकर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने सख्त रुख अपनाया है। 
सीबीएसई ने स्कूलों को एडवाइजरी जारी कर हिदायत दी है कि स्कूल किताबें, यूनिफॉर्म, स्टेशनरी, स्कूल बैग की बिक्री के माध्यम से वाणिज्यिक (व्यावसायिक) गतिविधियों में शामिल न हों। स्कूलों को बोर्ड के संबद्धता उप-नियमों के प्रावधानों का पालन करना होगा।

सीबीएसई को लगातार अभिभावकों व अन्य हितधारकों से शिकायतें प्राप्त हो रही हैं कि स्कूल, परिसर में और चयनित विक्रेता के माध्यम से पुस्तकें, यूनिफॉर्म, स्टेशनरी बेचने की व्यवसायिक गतिविधियों में शामिल हैं। 

सीबीएसई ने स्कूलों को संबद्धता नियम 19.1(2) का हवाला देते हुए कहा है कि कंपनी एक्ट की धारा 25 के तहत सोसायटी, ट्रस्ट और कंपनी के लिए जरूरी है कि स्कूल को सामुदायिक सेवा के रूप में चलाया जाए न कि व्यवसाय के रूप में। स्कूल परिसर में किसी भी रूप में व्यवसाय नहीं हो सकता।

बता दें कि हाल ही में एक प्राइवेट प्रकाशक की शारीरिक शिक्षा की पुस्तक में महिलाओं के फिगर को लेकर किए गए चित्रण के बाद भी काफी हंगामा हुआ। ऐेसे में सीबीएसई ने कहा है कि स्कूलों को लगातार कहा जा रहा है कि वे एनसीईआरटी और सीबीएसई पुस्तकों का ही प्रयोग करें। मगर बोर्ड को अभिभावकों और बच्चों से शिकायतें प्राप्त हो रही हैं कि स्कूल एनसीईआरटी व सीबीएसई की पुस्तकों के बजाए अन्य पाठ्यपुस्तकों को खरीदने का दबाव बना रहे हैं।

 बोर्ड ने इस उल्लंघन को गंभीर रूप से देखते हुए कहा है कि शैक्षणिक संस्थान व्यावसायिक प्रतिष्ठान नहीं हैं। उनका एकमात्र उद्देश्य गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है। ऐसे में बोर्ड ने स्कूलों को निर्देशित किया है कि वे अभिभावकों को पाठ्य पुस्तकें, नोटबुक, स्टेशनरी, यूनिफॉर्म, जूते, स्कूल बैग, स्कूल परिसर से ही या चयनित विक्रेताओं से खरीदने के अभ्यास से बचें। स्कूल संचालकों को यह सुनिश्चित करना होगा कि इस निर्देश का कड़ाई से पालन होगा।
Comments

Browse By Tags

education news

स्पॉटलाइट

दिवाली पर पटाखे छोड़ने के बाद हाथों को धोना न भूलें, हो सकते हैं गंभीर रोग

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

इस एक्ट्रेस के प्यार को ठुकरा दिया सनी देओल ने, लंदन में छुपाकर रखी पत्नी

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

...जब बर्थडे पर फटेहाल दिखे थे बॉबी देओल तो सनी ने जबरन कटवाया था केक

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

'ये हाथ नहीं हथौड़ा है': सनी देओल के दमदार डायलॉग्स, जो आज भी हैं जुबां पर

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

मां लक्ष्मी को करना है प्रसन्न तो आज रात इन 5 जगहों पर जरूर जलाएंं दीपक

  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

Most Read

आचार संहिता लागू होने से लटक गईं ये डेढ़ हजार भर्तियां

himachal assembly election 2017 stay on 1500 posts recruitment in HPU and HPSSC
  • शुक्रवार, 13 अक्टूबर 2017
  • +

सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा का पाठ्यक्रम तैयार, प्राचार्य से मांगे सुझाव

assistant teachers recruitment exam syllabus ready
  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

स्कूल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया टेट का परिणाम, यहां देखिए पूरा रिजल्ट

hp board declared teacher eligibility test result
  • शुक्रवार, 13 अक्टूबर 2017
  • +

डीएलएड की 900 सीटों के लिए इस दिन होगी काउंसलिंग, स्कूल शिक्षा बोर्ड ने जारी की तिथियां

counseling for 900 seats of d el ed starts from 24 october
  • गुरुवार, 19 अक्टूबर 2017
  • +

एक ही दिन दो परीक्षाएं होने से दुविधा में प्रदेश के हजारों विद्यार्थी

Shimla two exams on same day students ion tension
  • सोमवार, 16 अक्टूबर 2017
  • +

प्रदेश के दो हजार विशेष शिक्षकों की दिवाली रहेगी फीकी

no salary credit to special teachers of uttar pradesh
  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!