आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

बिना केबल का रंगीन टीवी, 'आई हेट यू सचिन'

पंकज श्रीवास्तव

Updated Mon, 24 Dec 2012 03:39 PM IST
retirement of sachin shock for expectators
ऐसा भारत में ही हो सकता है जहां आप अपने 'भगवान' को कटघरे में खड़ा कर सवाल पूछ सकते हैं। यही नहीं उसकी काबिलियत पर उंगली उठाते हुए उसे यह 'पोस्ट' छोड़ने के लिए मजबूर भी कर सकते हैं। ऐसा ही कुछ क्रिकेट के 'युगपुरुष' सचिन तेंदुलकर के साथ भी हुआ।
सचिन ने क्रिकेट के सबसे रोमांचक संस्करण को अलविदा कह अपने प्रशंसकों को बहुत निराशा दी है। उनके 23 साल के क्रिकेट कैरियर में यह पहला मौका है जब उन्होंने मुझे इतना दुख दिया है। मेरे हिसाब से सचिन को अभी और वनडे क्रिकेट खेलना चाहिए था।

सचिन के वनडे क्रिकेट छोड़ने से कितना गहरा धक्का मुझे लगा है उसके कुछ कारण मैं आप लोगों से शेयर करना चाहता हूं--

1- मैं नास्तिक तो नहीं हूं पर भगवान को कम मानता हूं। जब सचिन वनडे मैचों में शतक के करीब पहुंचते हैं तो मैं पूरी तरह भगवान की प्रार्थना करने लगता हूं। मैं भगवान से कहता हूं कि हे भगवान सचिन का शतक जरूर पूरा करवा दें। सचिन ने मुझे भगवान में विश्वास करना सिखाया। आने वाले समय में अब ऐसा होना मुमकिन नहीं होगा।

2- क्रिकेट का प्रशंसक होने के अलावा मैं क्रिकेट खेलता भी हूं। मैच देखते हुए कभी-कभी मुझे लगने लगता है कि क्रिकेट बोरिंग हो रहा है। ऐसे में सचिन का शानदार स्ट्रेट ड्राइव मुझे इतना रोमांचित कर देता है कि मैं क्रिकेट से फिर प्यार करने लगता हूं। सचिन के जाने के बाद अब शायद मेरा क्रिकेट से प्यार कम होने लगेगा।

3- सचिन जब बल्लेबाजी करने उतरते हैं तो पूरा भारत एक साथ उनके स्वागत में खड़ा हो जाता है। यह हमारी अखंडता को दर्शाने का बेहतरीन उदाहरण है। अब जब सचिन मैदान पर नहीं उतरेंगे तो हम भारतवासी कितनी बार एक साथ होंगे इस पर संदेह है।

4- सचिन जब मैदान पर उतरते हैं तो उनको देखते हुए मैं अपना ध्यान उनके खेल पर कें‌द्रित करता हूं। इस कारण मेरे अंदर concentration power बहुत बढ़ती है। अब सचिन का खेल देखे बगैर मैं इस पॉवर को नहीं बढ़ा पाउंगा।

5- मैने जब से क्रिकेट खेलना और देखना शुरू किया तब से सचिन को ही पसंद करता हूं। सचिन का वनडे क्रिकेट छोड़ने के बाद अब मेरे लिए क्रिकेट वैसे ही जैसे बिना केबल का रंगीन टीवी।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

Cannes 2017: मल्लिका शेरावत अपने डीप नेक गाउन में लग रही हैं बेहद खूबसूरत

  • शुक्रवार, 26 मई 2017
  • +

नेकेड ड्रेस पहनकर इस एक्ट्रेस ने उड़ाई फैशन की धज्जियां, खुले रह गए लोगों के मुंह

  • शुक्रवार, 26 मई 2017
  • +

स्टाइलिश मेलानिया ट्रंप की ये 5 बातें रखती हैं उन्हें फैशन में सबसे अलग

  • शुक्रवार, 26 मई 2017
  • +

इन तीन राशियों के प्रेमी जीवन में इस सप्ताह आएगा बड़ा बदलाव

  • शुक्रवार, 26 मई 2017
  • +

गणपति की पूजा करती है सलमान की ये चाइनीज हीरोइन

  • शुक्रवार, 26 मई 2017
  • +

Most Read

पाक के सवाल पर कोहली का 'विराट' तंज: सामने कोई हो, हमें फर्क नहीं पड़ता

Virat Kohli address press conference before champions Trophy 2017 
  • बुधवार, 24 मई 2017
  • +

खत्म हो रहा है कुंबले का कॉन्ट्रेक्ट, BCCI ने मांगे कोच के लिए आवेदन

BCCI invites application for Team India Head Coach
  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

चैंपियंस ट्रॉफी में रहाणे की जगह ये खिलाड़ी होगा टीम इंडिया का उपकप्तान

Rohit Sharma to be Virat Kohli’s Team India deputy in ICC Champions Trophy
  • गुरुवार, 25 मई 2017
  • +

कोलकाता को 6 विकेट से मात देकर, चौथी बार फाइनल में पहुंची मुंबई

MIvsKKR LIVE: ipl 2017 Qualifier 2 Mumbai Indians vs Kolkata Knight Riders in Bangalore
  • शनिवार, 20 मई 2017
  • +

IPL: जानिए कैसे पुणे के इस गेंदबाज ने आखिरी ओवर में डुबोई टीम की नैया

ipl 20127: Daniel Christian last over against mumbai indians
  • सोमवार, 22 मई 2017
  • +

IPL: फाइनल जीतने वाले पर नहीं, हारने वाले पर भी होगी धनवर्षा

 IPL 2017 Champions will take home a glistening trophy and INR 15 Crore as prize money 
  • सोमवार, 22 मई 2017
  • +
Live-TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top